BREAKING NEWS

Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾यासीन मलिक की सजा पर कुछ देर में फैसला, NIA ने सजा-ए-मौत का किया अनुरोध◾Sri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया ने नया वित्त मंत्री नियुक्त किया, पीएम रानिल विक्रमसिंघे को सोपी यह कमान ◾पाकिस्तान में बन रहे गृह युद्ध के हालात... इमरान खान पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार, जानें पूरा मामला ◾SP के टिकट पर राज्यसभा जाएंगे कपिल सिब्बल.. नामांकन दाखिल! डैमेज कंट्रोल में जुटे अखिलेश? ◾पेरारिवलन से MK स्टालिन की मुलाकात पर बोले राउत-ये हमारी संस्कृति और नैतिकता नहीं◾यूक्रेन के मारियुपोल में इमारत के भूतल में मिले 200 शव, डोनबास में जारी है पुतिन की सेना के ताबड़तोड़ हमले ◾हिंदू पक्ष ने Worship Act 1991 को बताया असंवैधानिक...., SC में नई याचिका हुई दायर, जानें क्या कहा ◾J&K : बारामूला मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 पाकिस्तानी आतंकी, पुलिस का 1 जवान शहीद ◾बिहार में फिर कहर बनकर टूटी जहरीली शराब, गया और औरंगाबाद में अब तक 11 की मौत◾राज्यसभा के लिए SP ने फाइनल किए नाम, सिब्बल के जरिए एक तीर से दो निशाने साधेंगे अखिलेश?◾केंद्रीय मंत्री के ट्विटर से गायब हुए मुख्यमंत्री... नीतीश संग जारी मतभेद पर RCP ने कही यह बात, जानें मामला ◾

जयशंकर ने वांग यी के साथ वार्ता के दौरान मॉस्को संधि को पूरी तरह लागू करने का किया आह्वान

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र से सैनिकों की वापसी प्रक्रिया ''जल्द से जल्द'' पूरी करने की जरूरत पर बल देते हुए शुक्रवार को अपने चीनी समकक्ष वांग यी से कहा कि क्षेत्र में शांति बहाली के लिए इससे संबंधित मॉस्को समझौते को ''पूरी तरह से एवं गंभीरता'' से लागू करने की आवश्यकता है। 

कोविड-19 महामारी से भारत में उपजे हालात को लेकर चीन की तरफ से एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए वांग यी ने जयशंकर को फोन करके बात की और इसी दौरान जयशंकर ने वांग यी से यह आह्वान किया। 

इससे पहले, चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर महामारी के खिलाफ लड़ने के लिए भारत के साथ सहयोग मजबूत करने और देश में कोविड-19 मामलों में वर्तमान बढ़ोतरी से निपटने के लिए समर्थन और सहायता प्रदान करने की इच्छा व्यक्त की। 

वांग यी के साथ हुई वार्ता के बाद जयशंकर ने ट्वीट किया, ''एलएसी से सटे इलाके में गतिरोध के सभी बिंदुओं से सैनिकों की वापसी और पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में पूर्ण शांति बहाली के वास्ते मॉस्को समझौते को पूरी तरह से एवं गंभीरता से लागू करने के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। इस मामले में चर्चा जारी रखने पर भी सहमति बनी।'' 

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि दोनों नेताओं ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले सभी बिंदुओं से सैनिकों की वापसी से संबंधित लंबित मुद्दों पर चर्चा की। 

10 सितंबर को मॉस्को में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक के मौके पर जयशंकर और वांग के बीच हुई वार्ता के दौरान पूर्वी लद्दाख सीमा रेखा गतिरोध को हल करने के लिए भारत और चीन के बीच पांच-सूत्रीय समझौता हुआ था। इस समझौते में सैनिकों को तेजी से वापसी, तनाव को बढ़ाने वाली कार्रवाई से बचने, सीमा प्रबंधन और एलएसी पर शांति बहाली के लिए सभी समझौतों और प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए कदम शामिल हैं। 

विदेश मंत्री जयशंकर ने वांग यी के साथ अपनी बातचीत के बारे में कहा कि उन्होंने इन परिस्थितियों में आपूर्ति श्रृंखला के महत्व और भारतीय चार्टर्ड उड़ानें बिना किसी रोकटोक के संचालित होने पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वह वांग यी के इस संबंध में आश्वासन का स्वागत करते हैं। जयशंकर ने कहा कि उन्होंने इस मुश्किल समय में जन स्वास्थ्य प्रतिक्रिया पर अंतरराष्ट्रीय सहयोग पर भी चर्चा की। 

वहीं, चीन की सरकारी मीडिया की खबर के अनुसार, चीन के राष्ट्रपति चिनफिंग ने मोदी को एक संदेश भेजकर भारत में कोरोना वायरस महामारी पर संवेदना व्यक्त की। 

राष्ट्रपति शी द्वारा प्रधानमंत्री मोदी को भेजे गए संदेश के अनुसार, ‘‘मैं भारत में कोविड-19 महामारी की हाल की स्थिति से बहुत चिंतित हूं। चीन की सरकार और लोगों की ओर से तथा अपनी ओर से मैं भारत सरकार और लोगों के प्रति ईमानदारी से सहानुभूति व्यक्त करना चाहूंगा।’’ 

शी ने कहा, ‘‘चीनी पक्ष महामारी से लड़ने में भारतीय पक्ष के साथ सहयोग को मजबूत करने और इस संबंध में सहायता एवं सहयोग प्रदान करने के लिए तैयार है। मुझे विश्वास है कि भारत सरकार के नेतृत्व में भारतीय लोग निश्चित रूप से महामारी पर विजय प्राप्त करेंगे।’’