BREAKING NEWS

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- धर्म, संस्कृति व राष्ट्र रक्षा के प्रति आग्रही बनाती है सिख गुरुओं की परंपरा◾सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾खट्टर ने केजरीवाल को लिया आड़े हाथ, कहा- जैन को नहीं हटाया तो... कोर्ट या फिर लोग हटा देंगे◾सांप्रदायिक आधार पर प्रचार कर रही BJP, देश को आगे ले जाने का नहीं है कोई विजन : खड़गे◾दहशत में राष्ट्रीय राजधानी, स्कूल को ईमेल से मिली बम की धमकी, जांच में जुटा प्रशासन ◾गोवा में ड्रग्स का कहर, भाजपा विधायक बोले- राज्य में नए तस्कर आ रहे हैं ◾गहलोत द्वारा पायलट को 'गद्दार' कहे जाने पर बोले राहुल-दोनों नेता कांग्रेस की संपत्ति◾पांडव नगर हत्याकांड : खून बहने के लिए गला काटकर छोड़ा शव, फिर किए 10 टुकड़े◾पश्चिम बंगाल : CM ममता बनर्जी कर सकती हैं दो नए जिलों की आधिकारिक घोषणा ◾Vijay Hazare Trophy: रुतुराज गायकवाड़ का धमाल, एक ओवर में सात छक्के जड़कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड◾CM अरविंद केजरीवाल ने किया दावा, कहा- गुजरात में मिल रहा है महिलाओं और युवाओं का भारी समर्थन ◾इस्लामिक कट्टरपंथियों का एजेंडा बेनकाब, महिला के जबरन धर्मांतरण की कोशिश के आरोप में 3 लोगों पर केस दर्ज◾Gujarat Polls: भाजपा को झटका! पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास ने थामा कांग्रेस का दामन ◾चीन : राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जीरो-कोविड नीति को लेकर हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, 'आजादी-आजादी' के लगे नारे ◾Border dispute: सीएम बोम्मई जाएंगे दिल्ली, महाराष्ट्र सीमा विवाद पर नड्डा, शीर्ष अधिवक्ता से करेंगे मुलाकात◾गुजरात : कांग्रेस खेमे में गए BJP के पूर्व मंत्री, टिकट कटने से नाराज जयनारायण व्यास ने छोड़ी पार्टी◾लोकप्रिय लेखक चेतन भगत को आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद उर्फी जावेद ने लिया निशाने पर◾दिल्ली : मां-बेटे ने पिता की हत्या कर फ्रिज में रखा शव, नाले और रामलीला मैदान में फेंके टुकड़े◾मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई लोगों की आंखों की रोशनी, प्रशासन ने नेत्र शिविरों पर लगाई रोक◾कांग्रेस अध्यक्ष का PM मोदी पर हमला, कहा-‘लोग आपकी चाय तो पीते हैं, मेरी तो पीते ही नहीं’◾

विदेश मंत्री जयशंकर ने SCO की बैठक में लिया हिस्सा, 'एक पृथ्वी एक स्वास्थ्य’ के संदेश को किया रेखांकित

भारत, चीन, पाकिस्तान और शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के पांच अन्य सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों ने बुधवार को दुशांबे में समूह की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। इस दौरान भारतीय विदेश मंत्री जयशंकर ने  आतंकवाद और उग्रवाद का मुकाबला करना शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) का प्रमुख उद्देश्य है और इसे आतंकवाद के वित्तपोषण को रोकना चाहिए।

जयशंकर ने अफगानिस्तान की स्थिति के साथ-साथ जन स्वास्थ्य और आर्थिक सुधार को क्षेत्र के समक्ष पेश होने वाली परेशानियों का भी जिक्र किया। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव, चीन के विदेश मंत्री वांग यी और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद भी इस बैठक में शामिल हुए।

जयशंकर ने ट्वीट किया, ‘‘ दुशांबे में एससीओ के एफएमएफ को आज सुबह संबोधित किया। अफगानिस्तान, जन स्वास्थ्य और आर्थिक सुधार प्रमुख मुद्दे हैं। आतंकवाद और उग्रवाद का मुकाबला करना एससीओ का प्रमुख उद्देश्य है। आतंकवाद के वित्तपोषण और डिजिटल सुविधा को रोकना चाहिए ।’’ विदेश मंत्री ने ‘‘एक पृथ्वी एक स्वास्थ्य’’ के संदेश को भी रेखांकित किया और कोविड-19 वैश्विक महामारी से निपटने के लिए विश्व के जल्द से जल्द टीकाकरण का आह्वान किया। जयशंकर ने कहा कि उन्होंने बहुपक्षवाद में सुधार पर भी बात की और इस क्षेत्र को फिर से जीवंत करने की आवश्यकता को रेखांकित किया।

इससे पहले जयशंकर ने ट्वीट किया था, ‘‘ एससीओ एफएमएम की शुरुआत। संगठन की 20वीं वर्षगांठ की उपलब्धियों पर चिंतन करने और चुनौतियों पर विचार-विमर्श करने का एक उपयुक्त समय है। अफगानिस्तान और कोविड-19 के प्रभावों से निपटने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।’’ अफगानिस्तान में पिछले कुछ सप्ताह में कई हमले हुए हैं, ये हमले ऐसे समय में हो रहे हैं जब अमेरिका अगस्त के अंत तक युद्धग्रस्त देश से अपने सभी सैनिक वापस बुला लेगा। ऐसे में अफगानिस्तान में बढ़ती हिंसा विश्व स्तर पर चिंता का एक विषय बन गई है।

भारत और पाकिस्तान वर्ष 2017 में एससीओ के स्थायी सदस्य बने थे। भारत और पाकिस्तान के अलावा आठ सदस्यीय एससीओ में रूस, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं। एससीओ की स्थापना 2001 में शंघाई में रूस, चीन, किर्गिज गणराज्य, कजाकिस्तान, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान के राष्ट्रपति द्वारा एक शिखर सम्मेलन में की गई थी।

भारत ने एससीओ और इसके क्षेत्रीय आतंकवाद-निरोधी ढांचे (आरएटीएस) के साथ अपने सुरक्षा संबंधी सहयोग को गहरा करने में गहरी दिलचस्पी दिखाई है, जो विशेष रूप से सुरक्षा तथा रक्षा से जुड़े मुद्दों से संबंधित है। भारत को 2005 में एससीओ में एक पर्यवेक्षक बनाया गया था और वह समूह की मंत्री स्तरीय बैठकों में भी भाग लेता रहा है, जो मुख्य रूप से यूरेशियन क्षेत्र में सुरक्षा तथा आर्थिक सहयोग पर केन्द्रित है।

पाकिस्‍तान में चीनी इंजीनियर्स को ले जा रही सैन्य बस में धमाका, कई दर्जन लोग घायल, 10 की मौत