एशिया में करीबी मित्र ना होने के कारण जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लुभाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं और इसके लिए वह राजा के राजतिलक का मौका भी हाथ से निकलने नहीं देना चाहते। आबे का ट्रंप से मुलाकात करने के लिए वाशिंगटन जाने और प्रथम महिला का जन्मदिन मनाने का कार्यक्रम है। इसके बाद वह ट्रंप को नए राजा से मिलने वाले पहले विदेशी नेता के रूप में आमंत्रित करेंगे। दोनों देशों ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की।

तोक्यो और वाशिंगटन ने कहा कि ट्रंप और प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप मई के अंत में जापान की यात्रा पर जाएंगे। कुछ सप्ताह पहले ही शहजादे नरुहितो ने जापान का सिंहासन संभाला। नरुहितो के 85 वर्षीय पिता राजा अकीहितो का तीन दशक का शासनकाल 30 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। उन्होंने गद्दी छोड़ दी है।

मुख्य मंत्रिमंडल सचिव योशिहिदे सुगा ने बताया कि नए शाही युग के पहले अतिथि के तौर पर ट्रंप का स्वागत करना ‘‘जापान-अमेरिका के रिश्तों के स्थिर जुड़ाव का प्रतीक है।’’ जापान के अधिकारी 26 मई को सुमो कुश्ती टूर्नामेंट के अंतिम दिन ट्रंप के भाग लेने की भी व्यवस्था कर रहे हैं ताकि वह विजेता को ट्रॉफी दे सकें। विशेषज्ञों का कहना है कि आबे ट्रंप को लुभाने के लिए हर अवसर को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं।