BREAKING NEWS

UP चुनाव में एक नई हाई-प्रोफाइल पार्टी की होगी एंट्री, हिंदी भाषी क्षेत्र में धूम मचाने के लिए पूरी तरह तैयार TMC◾कांग्रेस ने नफरत के खिलाफ ‘वैचारिक युद्ध’ का लिया निर्णय, AICC मीटिंग में हुए ये तीन अहम फैसले ◾लालू ने नीतीश को बताया 'सबसे अहंकारी', कांग्रेस के साथ तकरार के लिए 'छुटभैए' नेताओं को ठहराया जिम्मेदार ◾आर्यन का गोसावी के साथ संबंधों से इनकार, NCB ने जमानत का किया विरोध, लगाए ये बड़े इल्जाम ◾योगी का केजरीवाल पर तंज- राम को गाली देने वालों को अब आ रही अयोध्या की याद, पहले संभालिए दिल्ली ◾शिक्षित युवा पाकिस्तान के साथ अपनी पहचान क्यों चुनते हैं? केंद्र पता लगाए: महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश यादव ने सरकार पर लगाया आरोप, कहा-भाजपा का 'झूठ का फूल' अब बना 'लूट का फूल' ◾मलिक ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा- सेलिब्रिटीज के फोन टैप करवाते हैं वानखेड़े, चलाते हैं 'वसूली गिरोह'◾नवाब मलिक के दावों को क्रांति वानखेड़े ने बताया गलत, बोलीं-मेरे पति एक ईमानदार अफसर◾पंजाब की सियासत में अमरिंदर खेलेंगे दाव? पूर्व मुख्यमंत्री कल कर सकते हैं नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा ◾लखीमपुर हत्याकांड : SC का आदेश- गवाहों को दें सुरक्षा, जांच में तेजी लाए सरकार◾कांग्रेस-RJD की लड़ाई को सुशील मोदी ने बताया 'नूराकुश्ती', बोले-चुनाव के बाद हो जाएंगे एक◾दिल्ली : NCB प्रमुख से मुलाकात करने पहुंचे वानखेड़े, मलिक के आरोपों पर बोले DDG- करेंगे आवश्यक कार्रवाई ◾अनिल विज का मुफ्ती पर तीखा हमला- PAK की जीत पर पटाखे फोड़ने वालों का DNA नहीं हो सकता भारतीय ◾BJP खुद को मानती है केंद्रीय जांच एजेंसियों का आका, याद रखें कि लोकतंत्र में हमेशा होता है बदलाव : शिवसेना◾सोनिया की अगुवाई में AICC मीटिंग, कहा- सरकार की ज्यादतियों के खिलाफ और तेज करनी चाहिए लड़ाई ◾जम्मू-कश्मीर में आतंक गतिविधियों का सिलसिला जारी, बांदीपोरा विस्फोट में 5 नागरिक घायल◾समीर वानखेड़े ने फर्जी दस्तावेज से हासिल की सरकारी नौकरी, होनी चाहिए जांच : नवाब मलिक◾देश में कोरोना के मामलों में गिरावट, पिछले 24 घंटे में 356 मरीजों की हुई मौत ◾पाकिस्तानी पत्रकार संग दोस्ती को लेकर छिड़ा विवाद तो कैप्टन ने शेयर की सुषमा, सोनिया और मुलायम की तस्वीर◾

टिड्डियों का झुंड एक दिन में 35 हजार लोगों का भोजन कर सकता है चट

हाल ही में, अफ्रीका, पश्चिम एशिया और दक्षिण एशिया में टिड्डियों की आपदा ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय में व्यापक चिंता पैदा कर दी है। चीनी विशेषज्ञों ने कहा कि टिड्डियों के खतरे का सामना करने में अंतरराष्ट्रीय सहयोग को मजबूत किया जाना चाहिए। यह बताया गया है कि एक वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करने वाला टिड्डियों का झुंड एक दिन में 35,000 लोगों का भोजन खा सकता है। 

हाल के महीनों में, कई देश टिड्डियों से पीड़ित हैं। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य व कृषि संगठन द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक, टिड्डी संकट पश्चिम अफ्रीका से पूर्वी अफ्रीका और पश्चिम एशिया से दक्षिण एशिया तक 20 से अधिक देशों में फैल चुकी है। इसका कुल प्रभावित क्षेत्र 1.6 करोड़ वर्ग किलोमीटर से अधिक है। 

रेगिस्तानी टिड्डियों ने अपने सीमा पार प्रवास के दौरान लाखों हेक्टेयर वनस्पतियों को खा लिया है, जो प्रभावित क्षेत्रों में पहले से ही असुरक्षित खाद्य सुरक्षा स्थितियों को बढ़ा रहे हैं। 

विश्लेषकों का कहना है कि अगर नियंत्रण के लिए कोई उपाय नहीं किए गए तो इस साल जून तक रेगिस्तानी टिड्डियों की संख्या 500 गुना तक बढ़ सकती है और इसके अफ्रीका और एशिया के 30 देशों में फैलने की संभावना होगी। 

यह टिड्डी आपदा इतनी गंभीर क्यों है? चीनी कृषि विज्ञान अकादमी के शोधकर्ता चांग ज्येह्वा ने कहा कि यह 2018 से 2019 तक इन क्षेत्रों में आई बारिश से संबंधित है। पर्याप्त पानी रेगिस्तानी टिड्डियों के प्रजनन और वृद्धि के लिए अच्छा वातावरण बनाता है। 

रेगिस्तानी टिड्डियों को दुनिया के सबसे विनाशकारी प्रवासी कीटों में से एक माना जाता है। वे हर दिन हवा में 150 किलोमीटर उड़ सकते हैं और लगभग 3 महीने तक जीवित रह सकते हैं। 

विशेषज्ञों का मानना है कि चीनी ऐतिहासिक डेटा में रेगिस्तान टिड्डी के नुकसान का कोई रिकॉर्ड नहीं है। सीमावर्ती क्षेत्रों की स्थलाकृति, जलवायु वातावरण और टिड्डों की प्रवासी आदत जैसे कारकों के मुताबिक, रेगिस्तानी टिड्डियों को चीन को नुकसान पहुंचाने की संभावना काफी कम है। 

चांग ज्येह्वा ने कहा कि अगर रेगिस्तानी टिड्डी चीन में प्रवेश करते हैं, चीन अपने नुकसान को कम करने में सक्षम है। चांग के मुताबिक, टिड्डी विपत्ति केवल प्रभावित क्षेत्रों की समस्या नहीं, बल्कि एक वैश्विक समस्या भी है। विपत्ति की चेतावनी और प्रतिक्रिया लेने के अलावा, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करना भी महत्वपूर्ण है। 

बताया जाता है कि हाल के वर्षों में, चीन में टिड्डी की निगरानी और प्रारंभिक चेतावनी क्षमता में लगातार सुधार हुआ है, रोकथाम व नियंत्रण प्रौद्योगिकी दुनिया के अग्रणी स्तर से संबंधित है, और टिड्डी की रोकथाम पर दवा रिजर्व भी अपेक्षाकृत पर्याप्त है।