BREAKING NEWS

चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾सरकार ने सियाचिन को पर्यटकों के लिए खोलने का फैसला किया : राजनाथ सिंह ◾TOP 20 NEWS 21 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- अगर पाक ने घुसपैठ कराना बंद नहीं की तो सशस्त्र बल उसे मुहंतोड़ जवाब देते रहेंगे◾भारत करतारपुर पर 23 को करेगा एग्रीमेंट, आस्था के नाम पर श्रद्धालुओं से वसूली पर अड़ा पाक ◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग समाप्त, जानें किस-किस ने डाला वोट◾उपचुनाव : यूपी समेत 17 राज्यों में वोटिंग समाप्त, जानें कहां कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त, जानें कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾आरे विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मेट्रो कंस्ट्रक्शन पर नहीं लगाई कोई रोक ◾BJP विधायक के वीडियो पर राहुल गांधी का तंज, कहा- पार्टी में सबसे ईमानदार व्यक्ति हैं बख्शीश सिंह◾संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलेगा◾शरद पवार ने डाला वोट, लोगों से की लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल करने की अपील◾संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले- बीते 90 वर्षों से हमें निशाना बनाया जा रहा है ◾हरियाणा में मुकाबला सिर्फ BJP और कांग्रेस के बीच : भूपिंदर सिंह हुड्डा◾केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾

विदेश

मेलानिया ट्रंप ने साइबर धमकी के खिलाफ अभियान शुरू किया

अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप ने ट्विटर पर रोजाना उनके पति और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा अपने विरोधियों को अपमानित करने के बावजूद बच्चों और नाबालिगों के खिलाफ साइबर धमकी से निपटने के लिए औपचारिक रूप से अपना अभियान शुरू किया है। अमेरिकी मीडिया की रपट के अनुसार, मेलानिया ट्रंप ने मंगलवार को इस अभियान के तहत गूगल, फेसबुक, ट्विटर, स्नैपचैट के प्रमुख को व्हाइट हाउस बुलाया। मेलानिया ने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के दौरान इस अभियान का वादा किया था।

मेलानिया ने कहा, 'मैं पूरी तरह से अवगत हूं कि लोग इस विषय में चर्चा करते हुए मुझ पर संदेह कर रहे हैं। इस मुद्दे से निपटने के लिए अपनी प्रतिबद्धता के लिए मुझे आलोचना का सामना करना पड़ रहा है और मुझे पता है कि यह आगे भी चलता रहेगा। लेकिन ये सब मुझे उस चीज को करने से नहीं रोक सकते, जो मेरे अनुसार सही है।' मेलानिया को इस मुद्दे पर उस वक्त भी आलोचना का सामना करना पड़ा था, जब उन्होंने चुनाव अभियान के दौरान इस बारे में पहली बार इच्छा जताई थी।

कई लोगों ने इस विचार को 'पाखंड' कहा था, क्योंकि लोगों का मानना था कि उनके पति खुद ही ट्विटर पर अपने विरोधियों के मजाक उड़ाते हुए पोस्ट करते हैं और कोई पछतावा नहीं जताते। उन्होंने कंपनियों के प्रतिनिधियों के समक्ष कहा, 'मैं यहां एक लक्ष्य के साथ हूं, जिसमें हमारे आने वाली पीढ़ी के बच्चों की मदद करना है। प्रथम महिला के तौर पर, मुझे सोशल मीडिया पर कई बच्चों के भयभीत महसूस करने के संबंध में चिट्ठियां प्राप्त हुई हैं।'

अधिकतर सोशल मीडिया सेवा प्रदाताओं ने साइबर खतरे के लिए कठोर नियम बना रखे हैं, लेकिन सामान्य तौर पर यह प्रयोगकर्ताओं पर निर्भर करता है कि वे इन जगहों पर अपने खिलाफ हुए उत्पीड़न की शिकायत करें, जिसके बाद सोशल मीडिया सेवा प्रदाता यह तय करते हैं कि उक्त व्यक्ति को प्रतिबंधित करना है या नहीं।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।