BREAKING NEWS

मैं खुश हूँ की केंद्र सरकार ने किसान संगठनों को बातचीत के लिए बुलाया है : अमरिंदर सिंह◾अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने ट्रंप के सत्ता हस्तांतरण पर कहा 'चुनाव बीत गया'◾मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार ने अपनी संपत्ति बनाने के लिए निजी कंपनियों की तरह काम किया :भाजपा ◾संजय राउत के बयान पर फडणवीस बोले- शिवसेना ने ‘लव जेहाद’ पर अपना रूख ‘नरम’ कर लिया है◾राकांपा प्रमुख शरद पवार बोले- शिवसेना विधायक सरनाईक के खिलाफ ईडी की कार्रवाई विपक्ष की निराशा है◾नेशनल कांफ्रेस के नेताओं ने सरकारी जमीन का किया अतिक्रमण : अनुराग ठाकुर◾'लव जिहाद' के खिलाफ अध्यादेश लाई योगी सरकार, जल्द बनेगा कानून ◾राहुल गांधी ने ‘निवार’ तूफान के मद्देनजर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जरूरतमंदों की मदद करने की अपील की ◾मोदी सरकार ने सुरक्षा का हवाले देते हुए बैन किए 43 मोबाइल ऐप्स, अधिकतर चाइनीज ऐप्स है शामिल ◾J&K प्रशासन का दावा - अब्दुल्ला का मकान गैरकानूनी तरीके से अतिक्रमण वाली जमीन पर बनाया गया ◾बंबई HC ने दी अभिनेत्री कंगना और उनकी बहन को बड़ी राहत, गिरफ्तारी पर लगाई अंतरिम रोक ◾CM ममता ने PM मोदी को दिलाया विश्वास, कहा- बंगाल कोविड-19 के टीकाकरण लिए केंद्र के साथ मिलकर करेगा काम ◾पीएम मोदी बोले- कोरोना को लेकर फिर से जागरूकता फैलाने की जरूरत, वैक्सीन अभियान एक नेशनल कमिटमेंट ◾Covid 19 : PM मोदी के साथ समीक्षा बैठक में ममता बनर्जी ने उठाया GST का मुद्दा◾पीएम मोदी ने स्वतंत्रता सेनानी सर छोटू राम को उनकी जयंती पर किया नमन ◾PM मोदी के साथ संवाद में बोले सीएम गहलोत - राजस्थान में हर दिन हो रही हैं 30,000 से अधिक जांच◾भारत ने किया ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण, जल-थल और वायु में वार करने में सक्षम ◾PM मोदी के खिलाफ चुनाव में नामांकन रद्द करने के मामले में तेज बहादुर को SC से झटका, याचिका खारिज ◾मुख्यमंत्रियों संग पीएम मोदी की बैठक में बोले केजरीवाल- दिल्ली में 1000 बेड हो रिजर्व, प्रदूषण के मामले में दें दखल ◾केंद्रीय मंत्री रावसाहेब के दावे पर बोले राउत- हमारी सरकार 4 साल और करेगी पूरे, विपक्ष के सारे प्रयास फेल◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कुलभूषण जाधव मामले में आईसीजे के फैसले का मेक्सिको ने किया स्वागत

मेक्सिको ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि न्यायालय ने इस मामले के जरिये काउंसलर कानून पर अपने न्यायशास्त्र को और गहरा किया और जोर देकर कहा कि वियना संधि और काउंसलर संबंधों के तहत आने वाले नियम अनावश्यक नियम नहीं हैं जिन्हें कोई भी देश अपनी मर्जी से चुन ले या छोड़ दे। 

मेक्सिको के विदेश मंत्रालय के कानूनी सलाहकार एलेजेंड्रो सिलोरियो ने अदालत के प्रधान न्यायाधीश अब्दुलकावी युसूफ द्वारा 193 सदस्यीय संरा निकाय में रिपोर्ट पेश करने के बाद बुधवार को महा सभा में कहा, "सदस्य राष्ट्र द्वारा राजनयिक और वाणिज्यिक जिम्मेदारियों को प्रभावी तरीके से पूरा करना अंतरराष्ट्रीय बहुपक्षीय प्रणाली के संचालन के लिये बेहद प्रासंगिक है।"

डोनाल्ड ट्रंप ने नए कार्यवाहक गृह सुरक्षा प्रमुख की घोषणा की

सिलोरियो ने कहा कि मेक्सिको आईसीजे द्वारा जाधव मामले में 17 जुलाई को दिये गए फैसले को रेखांकित करेगा जिसमें अदालत ने कहा कि विदेशी नागरिकों को हिरासत में लिये जाने पर राजनयिक पहुंच मुहैया कराया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा, "यद्यपि जाधव मामले में, न्यायालय राजनयिक कानून के संदर्भ में अपने न्यायशास्त्र को व्यापक करने में सक्षम रहा और उसने इसे निर्बाध तरीके से लागू करने के महत्व को भी रेखांकित किया।" 

उन्होंने यह भी कहा कि एक स्वस्थ और सुचारु बहुपक्षीय प्रणाली विवादों के शांतिपूर्ण तरीके से हल होने पर निर्भर करती है। उन्होंने कहा, "यही वजह है कि जब बहुपक्षवाद को लागू करने की बात आती है तो आईसीजे की भूमिका महत्वपूर्ण है।" अंतरराष्ट्रीय न्यायालय की रिपोर्ट पर महासभा में विदेश मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव (विधि एवं संधि) उमा सेकर ने कहा कि यह रिपोर्ट उस महत्व और भरोसे को दर्शाती है जो राष्ट्र इस अदालत में व्यक्त करते हैं। 

उन्होंने कहा, "यह अदालत द्वारा सुलझाए जाने वाले मामलों की संख्या, प्रकृति और विविधता तथा सार्वजनिक अंतरराष्ट्रीय कानून के जटिल पहलुओं से निपटने की उसकी क्षमता से स्पष्ट है।" महासभा में बुधवार को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय की रिपोर्ट पेश करते हुए यूसुफ ने 17 जुलाई के अपने फैसले में कहा कि संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख न्यायिक अंग ने "पाया कि पाकिस्तान ने वियना संधि के अनुच्छेद 36 के तहत अपने दायित्वों का उल्लंघन किया था और इस मामले में उचित उपाय किए जाने बाकी थे।"

आईसीजे ने इस साल जुलाई में फैसला दिया था कि पाकिस्तान जाधव की मौत की सजा पर पुनर्विचार करे। पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने ‘जासूसी और आतंकवाद’ के आरोप में भारत के सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी को 2017 में मौत की सजा सुनाई थी।