BREAKING NEWS

नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और संविधान विरूद्ध◾राज्यसभा में नागरिकता बिल पेश, अमित शाह बोले- भारतीय मुस्लिम भारतीय थे, हैं और रहेंगे◾प्रियंका का वित्त मंत्री पर वार, कहा-आप प्याज नहीं खातीं, लेकिन आपको हल निकालना होगा ◾2002 गुजरात दंगा मामले में नानावती आयोग ने PM नरेंद्र मोदी को दी क्लीन चिट ◾BJP संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया ऐतिहासिक◾नागरिकता संसोधन बिल राज्यसभा में पेश होने से पहले बोले राहुल- यह उत्तर पूर्व पर एक आपराधिक हमला◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, CP वीसी सज्जनार भी रहेंगे मौजूद◾निर्भया कांड: अजीबोगरीब दलीलों के साथ दोषी अक्षय ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की पुनर्विचार याचिका◾राज्यसभा में आज पेश होगा नागरिकता संशोधन बिल, कांग्रेस देशभर में करेगी प्रदर्शन◾झारखंड: तबरेज अंसारी की हत्या मामले में 6 आरोपियों को हाईकोर्ट से मिली जमानत◾राज्यसभा में CAB पारित कराने के लिए रणनीति बनाने में जुटी भाजपा◾झारखंड विधानसभा चुनाव : तीसरे चरण में भाजपा, झाविमो और आजसू की प्रतिष्ठा दांव पर ◾सोनिया ने पार्टी सांसदों को दिया रात्रिभोज◾UP : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी ◾

विदेश

सिख समुदाय के सम्मान में अमेरिकी कांग्रेस में प्रस्ताव पेश

 1121

अमेरिका के शीर्ष सांसदों ने अमेरिकी कांग्रेस में एक प्रस्ताव पेश किया है जिसमें गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक एवं धार्मिक महत्व को मान्यता देने और देश के प्रति अमेरिकी सिखों के योगदान को सम्मान देने की बात कही गई है। 

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक के 550वें प्रकाश पर्व से पहले पेश इस प्रस्ताव में कहा गया है कि अमेरिका और दुनियाभर में रहने वाले सिख उन मूल्यों एवं समानता के विचारों, सेवा तथा ईश्वर के प्रति समर्पण के भाव का पालन करते हैं जिन्हें नानक ने अपने उपदेशों में बताया था। 

सीनेट में शुक्रवार को डेमोक्रेटिक सीनेटर डिक डर्बिन, बॉब मेनेनडेज और बेन कार्डिन ने यह प्रस्ताव पेश किया, जबकि प्रतिनिधि सभा में यह प्रस्ताव रिपब्लिकन पार्टी के कांग्रेस सांसद ग्रेग पेंस, डेमोक्रेटिक पार्टी से पीटर विस्क्लोस्की की ओर से पेश किया गया। 

डर्बिन ने कहा, ‘‘अमेरिकी सिख नागरिकों ने अमेरिका की सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक विविधता को समृद्ध किया है। इसके साथ ही उन्होंने हमारे सशस्त्र बलों के सदस्य के तौर पर भी सेवा दी है तथा कृषि, सूचना प्रौद्योगिकी, आतिथ्य-सत्कार, ट्रक चलाने और दवा क्षेत्र में योगदान दिया है।’’ 

मेनेनडेज ने कहा, ‘‘सिख समुदाय ने न्यूजर्सी और समूचे अमेरिका में सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्रों में कई उद्यमों के माध्यम से नागरिक जीवन में अनगिनत योगदान किया है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘प्रस्ताव में कहा गया है कि जीवन के हर क्षेत्र में सिखों की बदौलत अमेरिका एक बेहतर देश बना है। पिछले महीने मुझे अमृतसर में स्वर्ण मंदिर जाने का अवसर मिला और वहां जाकर सिख धर्म में निहित मूल्यों के प्रति मेरी श्रद्धा और गहरी हो गयी।’’ कार्डिन ने कहा, ‘‘अमेरिकी सिख नागरिक पीढ़ियों से अमेरिका का गौरवशाली हिस्सा रहे हैं और वे अपने तरीके से हमारे देश तथा समुदायों को समृद्ध करते रहेंगे।’’