BREAKING NEWS

'असंवैधानिक' नागरिकता विधेयक पर लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में होगी : चिदंबरम◾हरियाणा : होमवर्क पूरा न करने पर दलित लड़की का मुंह काला कर स्कूल में घुमाया गया ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को JDU के समर्थन से प्रशांत किशोर निराश◾अनुच्छेद 370 को खत्म किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज से करेगा सुनवाई ◾PM मोदी ने की शाह की तारीफ, बोले- नागरिकता विधेयक समावेश करने की भारत की सदियों पुरानी प्रकृति के अनुरूप◾नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में आज छात्र संगठनों की तरफ से पूर्वात्तर भारत में बंद ◾लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पारित, पक्ष में पड़े 311 वोट, विपक्ष में 80◾जब तक मोदी प्रधानमंत्री हैं, किसी भी धर्म के लोगों को डरने की जरूरत नहीं : शाह ◾महिलाओं के खिलाफ अत्याचार, चिंताजनक और शर्मनाक : नायडू ◾ओवैसी ने लोकसभा में नागरिकता विधेयक की प्रति फाड़ी भाजपा सदस्यों ने संसद का अपमान बताया ◾पूर्वोत्तर के अधिकतर राज्यों के दलों ने नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया ◾अनुच्छेद 370 को रद्द किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर संविधान पीठ कल से करेगी सुनवाई ◾दुष्कर्म की राजधानी बना भारत, फिर भी चुप हैं मोदी : राहुल गांधी◾कांग्रेस कभी गठबंधन के भरोसे पर खरा नहीं उतरती : नरेन्द्र मोदी ◾TOP 20 NEWS 09 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भीकाजी कामा प्लेस मेट्रो स्टेशन के नजदीक जेएनयू के छात्रों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज ◾नागरिकता संशोधन विधेयक भाजपा के घोषणापत्र का हिस्सा रहा, जनता ने इसे मंजूर किया : अमित शाह◾कर्नाटक उपचुनाव : BJP को 12 सीटों पर जीत मिली, विधानसभा में मिला स्पष्ट बहुमत ◾कर्नाटक : सिद्धारमैया ने कांग्रेस विधायक दल के नेता पद से दिया इस्तीफा◾JNU छात्रों ने राष्ट्रपति भवन तक शुरू किया मार्च, पुलिस ने की शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अपील◾

विदेश

म्यांमार सेना ने छह लोगों को को गोली मारी

 136

म्यांमार सेना ने राखिने राज्य के गांव के स्कूल में हिरासत में लिये गये छह लोगों को गोली मार दी है और और इस दौरान सुरक्षा बलों की गोलीबारी मे आठ अन्य लोग भी घायल हुए हैं। बीबीसी न्यूज के मुताबिक सेना के प्रवक्ता ने इस घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि जवानों को इसलिए गोलियां चलानी पड़ क्योंकि हिरासत में लिये गये लोग जवानों के हथियार छीनने की कोशिश कर रहे थे। हिरासत में लिये गये लोगों से उनके अराकान सेना के विद्रोहियों से संबंध होने के बारे में पूछताछ की जा रही थी।

विद्रोही प्राचीन राखिने बोद्ध हैं। सेना और विद्रोहियों के बीच ताजे संघर्ष के बाद 30 हजार से अधिक लोग विस्थापित हो चुके है जिनमें अधिकांश बौद्ध नागरिक हैं। म्यांमार में कई विद्रोही समूह सक्रिय हैं। हाल के वर्षों में म्यांमार से मुस्लिम रोहिंज्ञा आबादी का बंगलादेश में पलायन ने सभी का ध्यान आकृष्ट किया है। इसके अलावा कई अन्य नस्ली अल्पसंख्यकों से सेना के साथ प्राय: झड़प होती रहती है। पत्रकारों तथा अधिकांश सहायता एजेंसियों का उत्तरी राखिने में प्रवेश तक प्रतिबंधित है।

तथा गुरुवार की सुबह घटनास्थल पर वास्तव में क्या हुआ इसका पता लगाना काफी मुश्किल काम है। सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल जाउ मिन तुन ने कहा कि राथेदाउंग बस्ती के क्याउक तान गांव के स्कूल में जांच के लिए 275 लोगों को हिरासत में रखा गया था। गुरुवार की सुबह जब हिरासत में लिये गये लोगों ने जवानों के हथियार लूटने की कोशिश की तो कोई और विकल्प नहीं रहने के कारण गोलीबारी करनी पड़।

 प्रवक्ता ने कहा कि गोली चलाने से पूर्व चेतावनी गोली भी चलाई गई थी। लेकिन गोलीबारी में छह लोग मारे गये तथा आठ अन्य घायल हो गये। इस दौरान हिरासत में से चार लोग फरार हो गये। मयांमार के पश्चिम इलाके में स्थित आर्थिक रूप से गरीब राखिने राज्य में वर्षों से झड़पें तथा विवाद जारी है। वर्ष 2016 से राखिने से कई लाख रोहिंज्ञा मुसलमानों का बंगलादेश तथा अन्य देशों में पलायन हो चुका है। संयुक्त राष्ट्र अधिकारियों का मानना है कि म्यांमार सेना ने रोहिंज्ञा मामले में युद्ध अपराध किया है जिससे देश की सरकार साफ इंकार करती है।