BREAKING NEWS

लोकसभा में साध्वी प्रज्ञा के शपथ लेने के दौरान विपक्ष ने किया हंगामा ◾ममता बनर्जी और डॉक्टरों की बैठक को कवर करने के लिए 2 क्षेत्रीय न्यूज चैनलों को मिली अनुमति◾बिहार : बच्चों की मौत मामले में हर्षवर्धन और मंगल पांडेय के खिलाफ मामला दर्ज◾वायनाड से निर्वाचित हुए राहुल गांधी ने ली लोकसभा सदस्यता की शपथ◾सलमान को झूठा शपथपत्र पेश करने के केस में राहत, कोर्ट ने राज्य सरकार की अर्जी खारिज की◾भागवत ने ममता पर साधा निशाना, कहा-सत्ता के लिए छटपटाहट के कारण हो रही है हिंसा ◾लोकसभा में स्मृति ईरानी के शपथ लेने पर सोनिया गांधी समेत कई विपक्षी नेताओं ने किया अभिनंदन ◾डॉक्टरों और ममता बनर्जी के बीच प्रस्तावित बैठक को लेकर संशय◾डॉक्टरों की देशभर में प्रदर्शन, महाराष्ट्र में 40,000 डॉक्टर हड़ताल पर ◾डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कल : सुप्रीम कोर्ट ◾17वीं लोकसभा का पहला सत्र प्रारंभ, PM मोदी सहित नवनिर्वाचित सांसदों ने ली शपथ ◾संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण, संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं : PM मोदी ◾वर्ल्ड कप में भारत की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत, लगा बधाईयों का तांता, अमित शाह ने बताया एक और स्ट्राइक ◾IMA की हड़ताल में शामिल होंगे दिल्ली के अस्पताल, AIIMS ने किया किनारा ◾ममता आज सचिवालय में जूनियर डॉक्टरों से करेंगी बैठक◾विश्व कप 2019 Ind vs Pak : भारत ने पाकिस्तान को डकवर्थ लुइस नियम के तहत 89 रन से रौंदा◾IMA के आह्वान पर सोमवार को दिल्ली के कई अस्पतालों में नहीं होगा काम ◾सभी वर्गों को भरोसे में लेकर करेंगे सबका विकास : PM मोदी◾PM मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ कूटनीतिक और रणनीतिक रिवायत को बदला : जितेन्द्र सिंह◾प्रणव मुखर्जी से मिले नीतीश कुमार◾

विदेश

रोहिंज्ञा मुद्दे पर म्यांमार अपने वादे से मुकरा : शेख हसीना

बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने रविवार को दस लाख से अधिक रोहिंज्ञा नागरिकों के स्वदेश लौटने को लेकर म्यांमार की ओर से किये गये वादे से मुकरने का आरोप लगाया और आशंका जताई कि कुछ अंतर्राष्ट्रीय सहायता एजेंसियां संकट को बनाये रखने के लिए इसका इस्तेमाल करेगी। 

सुश्री हसीना ने आधिकारिक आवास गणभवन में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि समस्या म्यांमार के साथ है क्योंकि वह नहीं चाहता है कि रोहिंज्ञा किसी भी तरह से वापस लौटे। उन्होंने कहा कि म्यांमार ने बंगलादेश के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है जिसमें उन्हें(रोहिंज्ञा को) वापस लेने का वादा किया है। 

प्रधानमंत्री ने आशंका जतायी कि कुछ अंतर्राष्ट्रीय सहायता एवं स्वैच्छिक एजेंसियां है जो इस संकट को हल करने के लिए तैयार नहीं है, वे चाहती हैं कि शरणार्थी कभी स्वदेश न लौटे। 

सुश्री हसीना जापान, सऊदी अरब और फिनलैंड के अपने त्रि-राष्ट्र दौरे से लौटने के एक दिन बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह वही है जो मैं देख रही हूं। 

इस धारणा के बारे में टिप्पणियों के लिए कहा गया कि तीन प्रमुख देशों - चीन, जापान और भारत - ने इस संकट पर म्यांमार का पक्ष लिया तो उन्होंने(प्रधानमंत्री) ने कहा कि बंगलादेश ने इन देशों के साथ अलग-अलग बातचीत की और सभी देशों ने रोहिंज्ञाओं के म्यांमार के नागरिक होने की बात स्वीकार की और वहां वापस लौटने पर सहमति व्यक्त की। 

उन्होंने कहा कि हालांकि तीन देशों ने तर्क दिया कि यदि वे सभी म्यांमार का विरोध करेंगे तो उसे(म्यांमार को) मनाने वाला कौन बचेगा। 

यह पूछे जाने पर कि चीन के सक्रिय समर्थन प्राप्त करने के लिए जापान के बाद चीन जाने की योजना बनाई है तो उन्होंने (शेख हसीना) ने सकारात्मक जवाब देते हुए कहा कि इस साल जुलाई में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के आमंत्रण पर शिखर सम्मेलन में शामिल होने की योजना बनाई है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि आमंत्रण मिलने पर वह भारत का भी दौरा करेंगी। साथ ही यह भी कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द, मोदी के दोबारा चुने जाने पर उन्हें बधाई दी थी।