BREAKING NEWS

यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾न्यायालय से संपर्क करने से पहले राज्यपाल को सूचित करने की कोई जरूरत नहीं : येचुरी◾ममता ने एनपीआर,जनसंख्या पर केन्द्र की बैठक में नहीं लिया भाग◾सिंध में हिंदू समुदाय की लड़कियों के अपहरण को लेकर भारत ने पाक अधिकारी को किया तलब◾नड्डा का 20 जनवरी को निर्विरोध भाजपा अध्यक्ष चुना जाना तय◾हमें कश्मीर पर भारत के रुख को लेकर कोई शंका नहीं है : रूसी राजदूत◾IND vs AUS : भारत की दमदार वापसी, ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया, सीरीज में बराबरी◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 48 और नामांकन दाखिल◾राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾कश्मीर में शहीद सलारिया का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, दो महीने की बेटी ने दी मुखाग्नि ◾बुलेट ट्रेन परियोजना के लिये भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के खिलाफ याचिकाओं पर न्यायालय करेगा सुनवाई ◾चुनाव में ‘कांग्रेस वाली दिल्ली’ के नारे के साथ प्रचार में उतरी कांग्रेस◾यूपी सीएम योगी ने हिमस्खलन में कुशीनगर के शहीद जवान की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया◾TOP 20 NEWS 17 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾निर्भया के गुनहगारों का नया डेथ वारंट जारी, 1 फरवरी को सुबह 6 बजे होगी फांसी◾दिल्ली चुनाव के लिए BJP ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली सूची◾निर्भया केस : स्मृति ईरानी ने राष्ट्रपति का जताया आभार, केजरीवाल पर साधा निशाना◾CAA के विरोध प्रदर्शन में जामा मस्जिद पहुंचे चंद्रशेखर, समर्थकों के साथ मिलकर पढ़ी संविधान प्रस्तावना◾आरोपी की दया याचिका को पर राष्ट्रपति के फैसले का निर्भया के पिता ने किया स्वागत◾

नवाज शरीफ ने उच्च न्यायालय में फिर से जमानत याचिका की दायर

पाकिस्तान के जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अल अजीजिया भ्रष्टाचार मामले में स्वास्थ्य के आधार पर जमानत की मांग को लेकर सोमवार को इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) का रूख किया। इस महीने की शुरूआत में सुप्रीम कोर्ट ने तीन बार प्रधानमंत्री रह चुके 69 वर्षीय नवाज शरीफ की, स्वास्थ्य के आधार पर स्थायी जमानत और इलाज के लिए विदेश जाने की अनुमति की मांग करने वाली पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया था।

शरीफ छह सप्ताह की जमानत की अवधि समाप्त होने के बाद अपनी सात साल कैद की सजा काटने के लिए सात मई को कोट लखपत जेल वापस आए थे। यह जमानत उन्हें चिकित्सा आधार पर दी गई थी जिसमें शर्त थी कि वह पाकिस्तान से बाहर नहीं जाएंगे। एक्सप्रेस टिब्यून ने खबर दी है कि उच्च न्यायालय में शरीफ के वकील ख्वाजा हैरिस की ओर से दायर याचिका में स्विट्जरलैंड, अमेरिका और ब्रिटेन के विशेषज्ञों और डॉक्टरों की राय को शामिल किया गया है।

रोड शो के बाद कोट लखपत जेल पहुंचे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

याचिका में बताया गया है, ‘‘मेडिकल बोर्ड के मुताबिक, नवाज कई बीमारियों से ग्रस्त हैं।’’ खबर के मुताबिक, डॉक्टरों ने सिफारिश की है कि शरीफ की स्थिति बिल्कुल भी अच्छी नहीं है और तनाव उनके जीवन के लिए खतरा साबित हो सकता है। याचिका में बताया गया है कि यहां तक कि शरीफ का रक्तचाप और शर्करा का स्तर भी सामान्य नहीं है।

इस याचिका में कहा गया है कि विशेष मेडिकल बोर्ड के सभी सदस्यों, लाहौर के शेख जायद अस्पताल और नेशनल हॉस्पिटल के डॉक्टरों और ब्रिटेन, अमेरिका तथा स्विटजरलैंड के डॉक्टरों एवं विशेषज्ञों की एकमत राय है कि जेल परिसरों में शरीफ का इलाज संभव नहीं है। 24 दिसंबर 2018 से लाहौर की कोटलखपत जेल में सात साल कैद की सजा काट रहे पूर्व प्रधानमंत्री शरीफ को इलाज के लिए 26 मार्च को छह सप्ताह की जमानत मिली थी। शरीफ ने 27 अप्रैल को समीक्षा याचिका दाखिल की थी।