BREAKING NEWS

PAK में गुतारेस की J&K पर की गई टिप्पणी के बाद भारत ने कहा - जम्मू कश्मीर देश का अभिन्न हिस्सा ◾मतभेदों को सुलझाने के लिए कमलनाथ और सिंधिया इस हफ्ते कर सकते है मुलाकात◾अमेरिका राष्ट्रपति की अहमदाबाद यात्रा से पहले AIMC ने जारी किये ‘नमस्ते ट्रंप’ वाले पोस्टर ◾इस साल राज्यसभा में विपक्षी ताकत होगी कम ◾23 फरवरी से 23 मार्च तक उनका दल चलाएगा देशव्यापी अभियान - गोपाल राय◾पश्चिम बंगाल में निर्माणाधीन पुल का गर्डर ढहने से दो की मौत, सात जख्मी ◾कच्चे तेल पर कोरोना वायरस का असर, और घट सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम◾बाबूलाल मरांडी सोमवार को BJP होंगे शामिल, कई वरिष्ठ भाजपा नेता समारोह में हो सकते हैं उपस्थित◾लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा , ट्रक और वैन में टक्कर के बाद लगी आग , 7 लोग जिंदा जले◾वित्त मंत्रालय ने व्यापार पर कोरोना वायरस के असर के आकलन के लिये मंगलवार को बुलायी बैठक ◾कोरोना वायरस मामले को लेकर भारतीय राजदूत ने कहा - चीन की हरसंभव मदद करेगा भारत◾NIA को मिली बड़ी कामयाबी : सीमा पार कारोबार के जरिए आतंकवाद के वित्तपोषण के मिले सबूत◾दिल्ली CM शपथ ग्रहण समारोह दिखे कई ‘‘लिटिल केजरीवाल’’◾TOP 20 NEWS 16 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में समर्थकों ने कहा : देश की राजनीति में बदलाव का होना चाहिए◾PM मोदी ने काशी महाकाल एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर रवाना, जानिये इस ट्रेन की खासियतें ◾PM मोदी ने वाराणसी में 'काशी एक रूप अनेक' कार्यक्रम का किया शुभारंभ◾CAA को लेकर प्रधानमंत्री का बड़ा बयान, बोले-दबावों के बावजूद हम कायम हैं और रहेंगे◾PM मोदी के काफिले को सपा कार्यकर्ता ने दिखाया काला झंडा◾प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में करीब 12 सौ करोड़ रुपये की 50 विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया◾

नवाज शरीफ का इलाज पाकिस्तान में संभव नहीं, विदेश भेजने की जरुरत

भ्रष्टाचार के मामले में सजा भुगत रहे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के वकील ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय को बताया कि उनका मुवक्किल विभिन्न बीमारियों से जूझ रहा है और इलाज केवल विदेश में हो सकता है इसलिए उसे जमानत दी जानी चाहिए। 

वकील ख्वाजा हरीस ने बुधवार को नवाज की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान न्यायालय में कहा कि उन्हें मधुमेह, रक्तचाप और कार्डियोवस्कुलर डिजीज जैसी बीमारियां हैं और उनकी जान को खतरा है। अधिवक्ता ने कहा कि विभिन्न बीमारियों से जूझने की वजह से पूर्व प्रधानमंत्री मानसिक रूप से भी परेशान हैं। 

मामले की सुनवाई कर रही न्यायाधीश अमेर फारुख और न्यायमूर्ति मोहसिन अख्तर कियानी की खंडपीठ ने राष्ट्रीय जबावदेही ब्यूरो (नैब) के महानिदेशक इरफान मंगी की तरफ से नवाज की जमानत पर उत्तर देने में देरी पर नाराजगी जताई। नैब के अधिकारियों ने न्यायालय को बताया कि काम के बोझ की वजह से वह समय से जवाब नहीं दे पाये हैं। 

नवाज शरीफ को जेल में राजनीतिक बैठक करने की इजाजत नहीं

उन्होंने न्यायालय को भरोसा दिया है कि अगली बार इसमें देरी नहीं होगी। न्यायाधीश फारुख का कहना था कि यदि कोई जमानत की पात्रता रखता है तो अभियोजक की तरफ से जवाब देने में देरी नहीं की जानी चाहिए। नवाज के वकील ने खंडपीठ को बताया कि उच्चतम न्यायालय ने उसके मुवक्किल की ताजा चिकित्सा रिपोर्ट नहीं देखी है।

न्यायाधीश फारुख ने वकील से कहा कि वह अपनी दलील पेश करें कि क्या एक जमानत याचिका चिकित्सा आधार पर फिर दायर की जा सकती है यदि ऐसी याचिका पहले खारिज कर दी गई हो। न्यायाधीश ने कहा, ‘‘सामान्य तौर पर उसी आधार पर दूसरी याचिका दायर नहीं की जा सकती है जिस आधार पर पहले की याचिका खारिज की गई हो।’’ 

न्यायालय ने हालांकि यह भी कहा इस मामले में स्थिति अलग है। वकील ने न्यायालय से आग्रह किया कि उसी आधार पर फिर से याचिका दायर करने की देश में परंपरा रही है। अधिवक्ता ने कहा कि आरोपी के स्वास्थ्य की स्थिति में बदलाव आने के आधार पर याचिका फिर दायर की जा सकती है।