BREAKING NEWS

कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾पीड़िता की आत्मदाह की धमकी और जनता के दबाव में हुई चिन्मयानंद की गिरफ्तारी : प्रियंका गांधी ◾यौन शोषण के आरोप में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए चिन्मयानंद, 3 और गिरफ्तार◾सरकार ने घरेलू कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर घटाकर की 25.17 प्रतिशत : वित्तमंत्री◾कश्मीर मुद्दे को उठाकर पाकिस्तान नीचे गिरेगा, तो हम ऊंचा उठेंगे : सैयद अकबरुद्दीन ◾शाहजहांपुर यौन शोषण केस में आरोपी स्वामी चिन्मयानंद गिरफ्तार◾अमेरिका : व्हाइट हाउस के नजदीक गोलीबारी में 1 की मौत, 5 घायल◾LIC का पैसा घाटे वाली कंपनियों में लगा रही है मोदी सरकार : प्रियंका गांधी ◾'Howdy Modi' से पहले ह्यूस्टन में भारी बारिश ने मचाई तबाही◾GST काउंसिल की अहम बैठक आज, कर दरों में कटौती पर होगा निर्णय◾Modi के अमेरिका दौरे के दौरान रहेगा व्यस्त कार्यक्रम, सीईसे से करेंगे मुलाकात ◾शाह रविवार को मुंबई भाजपा के एक कार्यक्रम को करेंगे संबोधित◾PAK ने पुंछ में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन , भारतीयों जवानों ने दिया मुहतोड़ जवाब◾दिल्ली विधानसभा ने अलका लांबा को किया अयोग्य घोषित◾ईडी ने तृणमूल कांग्रेस के सांसद के परिसरों पर छापा मारा ◾VIDEO : बीजेपी दफ्तर में देखने को मिला हाई वोल्टेज ड्रामा, साउथ दिल्ली की पूर्व मेयर को उनके ही पति ने मारा थप्पड़◾कांग्रेस नेता मणि शंकर अय्यर के खिलाफ नहीं बनता राजद्रोह का मामला : दिल्ली पुलिस ने कोर्ट से कहा◾

विदेश

नवाज शरीफ का इलाज पाकिस्तान में संभव नहीं, विदेश भेजने की जरुरत

भ्रष्टाचार के मामले में सजा भुगत रहे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के वकील ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय को बताया कि उनका मुवक्किल विभिन्न बीमारियों से जूझ रहा है और इलाज केवल विदेश में हो सकता है इसलिए उसे जमानत दी जानी चाहिए। 

वकील ख्वाजा हरीस ने बुधवार को नवाज की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान न्यायालय में कहा कि उन्हें मधुमेह, रक्तचाप और कार्डियोवस्कुलर डिजीज जैसी बीमारियां हैं और उनकी जान को खतरा है। अधिवक्ता ने कहा कि विभिन्न बीमारियों से जूझने की वजह से पूर्व प्रधानमंत्री मानसिक रूप से भी परेशान हैं। 

मामले की सुनवाई कर रही न्यायाधीश अमेर फारुख और न्यायमूर्ति मोहसिन अख्तर कियानी की खंडपीठ ने राष्ट्रीय जबावदेही ब्यूरो (नैब) के महानिदेशक इरफान मंगी की तरफ से नवाज की जमानत पर उत्तर देने में देरी पर नाराजगी जताई। नैब के अधिकारियों ने न्यायालय को बताया कि काम के बोझ की वजह से वह समय से जवाब नहीं दे पाये हैं। 

नवाज शरीफ को जेल में राजनीतिक बैठक करने की इजाजत नहीं

उन्होंने न्यायालय को भरोसा दिया है कि अगली बार इसमें देरी नहीं होगी। न्यायाधीश फारुख का कहना था कि यदि कोई जमानत की पात्रता रखता है तो अभियोजक की तरफ से जवाब देने में देरी नहीं की जानी चाहिए। नवाज के वकील ने खंडपीठ को बताया कि उच्चतम न्यायालय ने उसके मुवक्किल की ताजा चिकित्सा रिपोर्ट नहीं देखी है।

न्यायाधीश फारुख ने वकील से कहा कि वह अपनी दलील पेश करें कि क्या एक जमानत याचिका चिकित्सा आधार पर फिर दायर की जा सकती है यदि ऐसी याचिका पहले खारिज कर दी गई हो। न्यायाधीश ने कहा, ‘‘सामान्य तौर पर उसी आधार पर दूसरी याचिका दायर नहीं की जा सकती है जिस आधार पर पहले की याचिका खारिज की गई हो।’’ 

न्यायालय ने हालांकि यह भी कहा इस मामले में स्थिति अलग है। वकील ने न्यायालय से आग्रह किया कि उसी आधार पर फिर से याचिका दायर करने की देश में परंपरा रही है। अधिवक्ता ने कहा कि आरोपी के स्वास्थ्य की स्थिति में बदलाव आने के आधार पर याचिका फिर दायर की जा सकती है।