BREAKING NEWS

थाईलैंड के विदेश मंत्री के साथ एस. जयशंकर ने की खास बातचीत, जानिए किन मुद्दों पर हुई चर्चा? ◾दिल्ली में रोहिंग्या मुसलमानों को फ्लैट देने का नहीं दिया कोई निर्देश : केंद्रीय गृह मंत्रालय ◾दिल्ली के बक्करवाला के अपार्टमेंट में भेजे जाएंगे रोहिंग्या शरणार्थी, पुलिस सुरक्षा भी कराई जाएगी मुहैया : हरदीप सिंह पुरी◾अब रोहिंग्या शरणार्थियों के पास होगा रहने का ठिकाना, केंद्र के फैसले पर AAP हमलावर, BJP नाखुश◾उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक ने किया ब्याज दरों में इजाफा, वरिष्ठ नागरिकों के लिए दर 0.50 प्रतिशत से बढ़कर 0.75◾MP मंत्री तुलसीराम की कार को ट्रक ने मारी टक्कर, बाल-बाल बचा परिवार ◾उत्तर प्रदेश की 10 हजार बेटियों को दी जाएगी 'Self Defense' की ट्रेनिंग : यूपी सरकार ◾राजस्थान : रामदेवरा मेले में आने लगे श्रद्धालु, 35 लाख से अधिक भक्तों के आने की उम्मीद◾बीजेपी ने पार्टी के संसदीय बोर्ड में किया बड़ा बदलाव, गडकरी और चौहान को हटाकर इन नोताओं को किया शामिल ◾गुजरातः चुनावों से पहले कांग्रेस के दो नेता भाजपा में शामिल, बीजेपी ने किया भगवा अंगवस्त्र और टोपियां देकर स्वागत ◾CM केजरीवाल ने की ‘मेक इंडिया नंबर 1’ अभियान की शुरुआत, कहा-इसका राजनीति से कोई संबंध नहीं◾कचरा बनी बागमती, मानी जाती है नेपाल की सबसे पवित्र नदी ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- भारत ने रूस से तेल खरीदने के अपने रुख का कभी बचाव नहीं किया◾राजस्थान में बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए कौन जिम्मेदार? जानिए क्या कहती है जनता◾कार्तिकेय सिंह के अरेस्ट वारंट पर बोले CM नीतीश, मुझे मामले की जानकारी नहीं◾Mann Ki Baat :PM मोदी ने 'मन की बात' की 28वीं कड़ी के लिए मांगे सुझाव, 28 अगस्त को होगा प्रसारण◾दलित छात्र की मौत को लेकर पायलट ने अपनी ही सरकार को दी नसीहत, BJP ने पूर्व उपमुख्यमंत्री का किया समर्थन◾बिलकिस बानो केस के दोषियों की रिहाई को लेकर राहुल का तंज, कहा-PM की कथनी और करनी को देख रहा है देश◾Yamuna Water Level : दिल्ली में यमुना नदी का जल स्तर एक बार फिर खतरे के पार पहुंचा◾Assembly Elections : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आज से गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों की करेंगे समीक्षा◾

नेपाल चुनाव आयोग का एनसीपी के किसी भी गुट को आधिकारिक मान्यता प्रदान करने से इनकार

नेपाल के चुनाव आयोग ने सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के दो गुटों में से किसी को भी यह कहते हुए आधिकारिक पार्टी के रूप में मान्यता देने से इनकार कर दिया है कि दोनों वैध दर्जा हासिल करने के लिए उचित प्रक्रियाओं को अपनाने में विफल रहे हैं। 

चुनाव आयोग ने रविवार को अपने फैसले में कहा कि चूंकि दोनों गुट- यानि पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ वाला और दूसरा प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली के नेतृत्व वाला दूसरा गुट- उचित प्रक्रियाओं को अपनाने में विफल रहा है इसलिए उन्हें कोई मान्यता नहीं मिलेगी। 

चुनाव आयोग के इस नवीनतम निर्णय के साथ ही ओली और प्रचंड पार्टी में विभाजन के बावजूद अध्यक्ष बने रहेंगे। इससे पहले प्रचंड के नेतृत्व वाले गुट ने ओली को अध्यक्ष पद से हटा दिया था और उनकी जगह माधव कुमार नेपाल को चुना था। रविवार को गुट ने ओली को पार्टी की सामान्य सदस्यता से भी हटाने का फैसला किया। 

प्रचंड के नेतृत्व वाले गुट ने दावा है कि उसे आधिकारिक एनसीपी के रूप में मान्यता दी जानी चाहिए क्योंकि उसका पार्टी के सचिवालय, स्थायी समिति और केंद्रीय समिति में बहुमत है। चुनाव आयोग के अधिकारियों ने कहा कि एनसीपी के दोनों गुटों द्वारा मांग के अनुसार रिकॉर्ड में कोई संशोधन, परिवर्तन या फेरबदल करना मुश्किल है।