BREAKING NEWS

हमारा ध्यान देश की विरासत और संस्कृति बचाने पर : PM मोदी◾मोदी सरकार चेहरे पर कुछ और बोलती है, लेकिन अपने बगल में खंजर रखती है : दर्शन पाल◾किसानों को डर दिखाकर बहकाया जा रहा है, कृषि कानून पर बैकफुट पर नहीं आएगी सरकार : PM मोदी◾किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नेपाल ने FM रेडियो के जरिए शुरू किया भारत विरोधी दुष्प्रचार

भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाली भूभाग बताने वाले अपने दावे को मजबूत करने के लिए नेपाल अब भारत के साथ लगती सीमा के पास अपने एफएम रेडियो चैनलों के जरिए भारत विरोधी दुष्प्रचार कर रहा है । सीमा के पास रह रहे भारतीय गांवों के निवासियों का कहना है कि नेपाली चैनलों द्वारा प्रसारित गीत आधारित या अन्य कार्यक्रमों के बीच में भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा क्षेत्रों को वापस किये जाने की मांग करने वाले भारत-विरोधी भाषण दिए जा रहे हैं।

जिले के धारचूला सबडिवीजन के दांतू गांव की निवासी शालू दताल ने बताया, ‘‘कुछ नेपाली एफएम चैनलों ने हाल में नेपाली गीतों के बीच में भारत विरोधी भाषण चलाना शुरू किया है। चूंकि सीमा के दोनों तरफ के लोग नेपाली गाने सुनते हैं, इसलिए वे उनके बीच में प्रसारित किए जा रहे नेपाली नेताओं के भारत विरोधी भाषणों को भी सुनते हैं।’’ दताल ने बताया कि नेपाली गीतों के बीच में भारत विरोधी भाषणों का प्रसारण करने वाले प्रमुख चैनल नया नेपाल और कालापानी रेडियो हैं।

उन्होंने कहा, 'कुछ पुराने चैनल जैसे मल्लिकार्जुन रेडियो और वेबसाइटस जैसे अन्नपूर्णा डॉट आनलाइन भी कालापानी को नेपाली भूभाग बताते हुए खबरें दे रहे हैं। ये सभी एफएम चैनल नेपाल में दारचुला जिला मुख्यालय के पास चाबरीगर में स्थित हैं। इन एफएम चैनलों की रेंज तीन किलोमीटर तक की है, जो भारत में धारचूला, बलुआकोट, जौलजीबी और कालिका शहरों में सुने जा सकते हैं ।

धारचूला में रं समुदाय के एक प्रमुख नेता कृष्णा गर्बियाल ने बताया कि इन नेपाली चैनलों ने हाल में ही कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाली भूभाग मानते हुए उनकी मौसम रिपोर्ट भी देना शुरू कर दिया है। हालांकि, इस बारे में पूछे जाने पर पिथौरागढ़ जिला प्रशासन और पुलिस ने अनभिज्ञता प्रकट की। पिथौरागढ़ की पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शिनी ने कहा, ‘‘हमारे पास ऐसी कोई सूचना नहीं है। इस विषय पर हमें अपनी खुफिया इकाइयों से कोई खबर नहीं मिली है।’’

धारचूला के सर्किल अधिकारी वीके आचार्य ने भी इस मसले पर अपनी अनभिज्ञता जतायी और कहा कि खुफिया तंत्र से नेपाल द्वारा चलाये जा रहे भारत विरोधी दुष्प्रचार के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। व्यास घाटी के एक प्रमुख स्थानीय नेता अशोक नबियाल ने कहा कि भारत-नेपाल सीमा पर सक्रिय भारतीय खुफिया एजेंसियों को स्थिति का संज्ञान लेना चाहिए, जिससे नेपाल के भारत विरोधी दुष्प्रचार का मुकाबला किया जा सके।

उल्लेखनीय है कि नेपाली संसद ने हाल ही में एक नए आधिकारिक मानचित्र को मंजूरी दी है जिसमें कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाली भूभाग के रूप में दर्शाया गया है।

कपिल सिब्बल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- चीन की घुसपैठ पर सच छिपाने की वजह बताएं PM मोदी