BREAKING NEWS

असम में गरजे अमित शाह- कांग्रेस बताए इतने सालों तक रक्तरंजित क्यों रहा राज्य◾कृषि कानून को लेकर 60वें दिन आंदोलन जारी, 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली की तैयारी में जुटे किसान ◾LAC विवाद : भारत और चीन के बीच कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठक मोल्डो में जारी ◾दिल्ली में आधी रात को लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, छह लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ा◾गणतंत्र दिवस पर 2 बजे के बाद खुलेगी कनॉट प्लेस मार्केट, बंद रहेंगे ये 4 मेट्रो स्टेशन◾उत्तर भारत में सर्दी का सितम जारी, शीतलहर से फिर कांपेगी राजधानी दिल्ली ◾राहुल गांधी का तंज- जनता महंगाई से त्रस्त, मोदी सरकार टैक्स वसूली में मस्त◾CM उद्धव ठाकरे की साइन की हुई फाइल से छेड़छाड़, PWD इंजीनियर के खिलाफ जांच के दिए थे आदेश◾BJP सांसद साक्षी महाराज का आरोप-कांग्रेस ने कराई थी नेताजी की हत्या◾देश में कोरोना के 14849 नए मामलों की पुष्टि, पॉजिटिव केस 1 करोड़ 65 लाख के पार ◾TOP 5 NEWS 24 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 9.86 करोड़ तक पहुंचा◾ममता बनर्जी के लिये ‘जय श्री राम’ का नारा सांड को लाल कपड़ा दिखाने के समान है : अनिल विज◾ सात और राज्य अगले सप्ताह से स्वदेशी तौर पर विकसित ‘कोवैक्सीन’ टीका लगाएंगे : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾ वायुसेना प्रमुख भदौरिया बोले- भारत पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों पर काम कर रहा है◾आज का राशिफल (24 जनवरी 2021)◾गुजरात में फरवरी में होंगे स्थानीय निकाय चुनाव ◾लालू प्रसाद यादव को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया ◾जय श्रीराम के नारों की नुसरत जहां ने की निंदा, कहा-राम का नाम गले लगाकर बोलें, गला दबाकर नहीं◾केंद्र पूर्वोत्तर को दुनिया के नक्शे पर क्षेत्र में प्रगति और समृद्धि लाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही : अमित शाह ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नेपाल : ओली के लिए नया संकट, रॉ प्रमुख सामंत कुमार गोयल की नेपाल यात्रा से मचा विवाद

जब नेपाली सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी एक नए संकट में घिरी है, तभी भारत की एक्सरटनल स्पाय एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) के प्रमुख सामंत कुमार गोयल ने काठमांडू की एक अनौपचारिक यात्रा की। गोयल बुधवार को नेपाल की राजधानी में थे और गुरुवार को नई दिल्ली वापस आने वाले हैं। नेपाल की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 9 सदस्यीय टीम का नेतृत्व करते हुए गोयल ने प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली और पूर्व प्रधानमंत्रियों पुष्पा कमल दहल, शेर बहादुर देउबा, माधव कुमार नेपाल समेत अन्य नेताओं से मुलाकात की। 

पार्टी के 2 वरिष्ठ नेताओं दहल और नेपाल ने ओली की प्रधानमंत्री और पार्टी अध्यक्ष के तौर पर काम करने की शैली को चुनौती दी है। इसके बाद से ओली एक नए संकट का सामना कर रहे हैं। हालांकि ओली और दहल के बीच 8 महीने से चल रहा विवाद अगस्त में खत्म हो गया था, फिर भी दहल के करीबी करनाली प्रांत के मुख्यमंत्री महेन्द्र बहादुर शाही को पिछले हफ्ते ओली के अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ा। 

इस अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे के साथ ही पार्टी के अंदर की दरारें खुल कर सामने आ गईं। नई दिल्ली की सरकार को यह भी आशंका है कि काठमांडू का मौजूदा शासन चीन की ओर झुक रहा है, जिसकी जांच नई दिल्ली अपने अलग तंत्र के जरिए करना चाहती है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने बताया कि ओली भारतीय समर्थन की मदद से अपने और दहल के बीच विवाद को दूर करना चाहते हैं इसलिए गोयल ने यह यात्रा की थी। हालांकि प्रधानमंत्री के प्रेस सलाहकार सूर्य थापा ने ओली और गोयल के बीच किसी भी बैठक से इनकार किया है। गोयल की यात्रा का मिशन अभी तक ज्ञात नहीं है, लेकिन सूत्रों ने कहा कि गोयल को सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के एक वर्ग ने वहां आमंत्रित किया था जो आंतरिक तनाव का सामना कर रहा है। 

गौरतलब है कि गोयल की यात्रा भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे की यात्रा से ठीक पहले हुई है। नरवणे 3 नवंबर को 3 दिवसीय यात्रा के लिए नेपाल में रहेंगे। गोयल की इस यात्रा से नेपाल में विवाद छिड़ गया है। ओली के किसी जासूसी एजेंसी के प्रमुख से मिलने की खासी आलोचना हो रही है। एक मीडिया ने लिखा है, नेपाल एक स्वतंत्र और संप्रभु देश है और गोयल की यात्रा देश की संप्रभुता को प्रभावित करती है। काठमांडू के दैनिक नयापत्रिका ने सनसनीखेज शीर्षक दिया, राष्ट्रवाद ने रॉ बॉस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। वहीं समाचार में लिखा गया है, रॉ के प्रमुख वायु सेना के विमान से काठमांडू आए। प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री से मुलाकात की। यह दर्शाता है कि देश राजनयिक रूप से बर्बाद हो गया है और यह शर्मनाक है।