BREAKING NEWS

PM मोदी के नेतृत्व और सशस्त्र बलों के योगदान ने भारत के प्रति दुनिया के नजरिये को बदला : राजनाथ◾PM मोदी ने तमिल भाषा का किया जिक्र , स्टालिन ने ‘सच्चे संघवाद’ को लेकर साधा निशाना◾भारत, यूएई ने जलवायु कार्रवाई के लिए समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर ◾J&K : कश्मीर में टीवी कलाकार की हत्या में शमिल दो आतंकवादी सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में घिरे◾J&K : कुपवाड़ा में सेना ने घुसपैठ का प्रयास किया विफल , तीन आतंकवादी मारे गए, पोर्टर की भी मौत◾PM मोदी ने ‘परिवारवाद’ के कटाक्ष से राव को घेरा, तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने ‘भाषणबाजी’ का लगाया आरोप◾टीएमसी का दावा, दिलीप घोष को बंगाल से बाहर किया जा रहा है, भाजपा का पलटवार◾ मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाया, आसमान छू रही महंगाई पर जताई चिंता◾ Tamil Nadu: चेन्नई पहुंचे PM मोदी ,हुआ जोरदार स्वागत, रोड शो में उमड़ी हजारों की भीड़◾तेलंगाना के CM चंद्रशेखर राव ने एच डी देवेगौड़ा से की मुलाकात, जानें- किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾J&K News: सुंजवां हमले में शामिल एक आतंकवादी को NIA ने किया गिरफ्तार, जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे तार◾Monkeypox Virus: कनाडा में मंकीपॉक्स ने दी दस्तक! यहां देखें- कितने मामले सामने आए◾यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाने के बाद फेंके थे पत्थर, लेकिन अब पुलिस के सामने पकड़े कान◾सुप्रीम कोर्ट ने वेश्यावृत्ति को माना प्रोफेशन, पुलिस को दी हिदायत... जारी हुए सख्त निर्देश, जानें क्या कहा ◾ गवर्नर की जगह अब CM होंगी स्टेट यूनिवर्सिटी की चांसलर, ममता बनर्जी कैबिनेट की बैठक में हुआ फैसला◾नवजोत सिंह सिद्धू का पटियाला जेल में बज गया बैंड, मिला क्लर्क का काम, जानें कितना होगा वेतन ◾ Gyanvapi Masjid: यहां जानें 2 घंटे चली वाराणसी जिला कोर्ट की बहस में क्या हुआ, अब सोमवार तक टली सुनवाई◾पाकिस्तान को 'मॉडर्न देश' बनाना चाहते हैं जरदारी! भारत और अन्य देशों से जारी संघर्षों पर कही यह बात ◾Bharat Biotech की कोवैक्सीन को जर्मनी ने दी मंजूरी, टूरिस्ट को मिली बड़ी राहत◾ US और चीन को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने दिया ये बयान, जानें मोदी सरकार को क्या दी नसीहत◾

ओमीक्रॉन के आतंक के बीच हुई नए सब-वेरिएंट BA.2 की एंट्री, भारत में भी मौजूद, जानें कितना खतरनाक?

जहां एक तरफ पूरा विश्व ओमीक्रॉन के कहर से लगातार झूझ रहा है, वहीं अब कोरोना के इस नए स्वरुप ओमीक्रॉन का सब-वेरिएंट भी सामने आ गया है। इस नए खतरे को लेकर यूके ने कहा कि 40 से अधिक देशों में ओमीक्रॉन के एक नए उप-स्ट्रेन का पता चला है और यह आरटी-पीसीआर परीक्षण से भी बच सकता है। BA.2 सब-स्ट्रेन, जिसे आमतौर पर "स्टील्थ ओमीक्रॉन" कहा जाता है, इसने पूरे यूरोप में कोरोना वायरस की एक मजबूत लहर की आशंकाओं को जन्म दिया है। तो आखिर क्या है ओमीक्रॉन का सब-वेरिएंट और यह कितना खतरनाक है? 

भारत में मौजूद है ओमीक्रॉन का नया BA.2 उप-स्ट्रेन 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक ओमीक्रॉन संस्करण में 3 उप-उपभेद हैं - BA.1, BA.2, और BA.3। जबकि दुनिया भर में रिपोर्ट किए गए ओमीक्रॉन संक्रमणों में BA.1 उप-स्ट्रेन प्रमुख है, BA.2 उप-स्ट्रेन को तेजी से फैलने वाला बताया जा रहा है। यह भारत में काफी हद तक पाया गया है बता दें कि देश में अगले महीने तक कोविड-19 के चरम पर पहुंचने की संभावना बताई जा रही है। ओमीक्रॉन अब भारत में तेजी से अपने पैर पसर रहा है और कई महानगरों में प्रभावी हो गया है, जहां कोरोना के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। BA.2 वेरिएंट भारत में एक पर्याप्त अंश में है। 

जानें किन देशों ने 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' के मामले आए सामने  

यूके और डेनमार्क के अलावा, स्वीडन, नॉर्वे और भारत में BA.2 सब-स्ट्रेन के मामलों का पता चला है। भारत और फ्रांस के वैज्ञानिकों ने भी उप-स्ट्रेन के बारे में चेतावनी दी है, इस डर से कि यह बीए.1 सब-स्ट्रेन से आगे निकल सकता है। यूके ने 10 जनवरी तक BA.2 उप-वंश के 53 अनुक्रमों की पहचान की थी, जिसमें अद्यतन आंकड़े शुक्रवार को बाद में प्रकाशित होने वाले थे।

क्या 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' है चिंता का विषय?

शोधकर्ताओं के मुताबिक, भले ही BA.2 उप-स्ट्रेन BA.1 के साथ 32 उपभेदों को साझा करता है, इसमें 28 से अधिक अद्वितीय उत्परिवर्तन हो सकते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि BA.1 में एक उत्परिवर्तन है- "S" या स्पाइक जीन में विलोपन - जो पीसीआर परीक्षणों पर दिखाई देता है, जिससे ओमीक्रॉन का पता लगाना आसान हो जाता है। दूसरी ओर BA.2 में समान उत्परिवर्तन नहीं होता है जिससे इसका पता लगाना मुश्किल हो जाता है।

BA.2 उप-वेरिएंट किस तरह से है अलग 

हालांकि, BA.2 उप-वंश में स्पाइक में इस विलोपन का अभाव है ताकि इसे RT-PCR परीक्षणों के लिए उपयोग की जा रही अधिकांश PCR किटों के उपयोग से उठाया जा सके। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस नई उप-रेखा BA.2 को 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' कहा जाता है क्योंकि इसमें विलोपन का अभाव है जिसे पीसीआर परीक्षणों द्वारा उठाया जा सकता है। BA.2 भारत और फिलीपींस के कुछ हिस्सों में प्रमुख ओमिक्रॉन वंश प्रतीत होता है और इस बात के प्रमाण हैं कि यह डेनमार्क, यूके और जर्मनी में BA.1 की तुलना में बढ़ रहा है।

लैब आरटी-पीसीआर परीक्षण है स्वर्ण मानक परीक्षण

हालांकि BA.1 सब-स्ट्रेन कभी-कभी RT-PCR परीक्षणों से बच सकते हैं, विशेषज्ञों का कहना है कि ये परीक्षण अभी भी वायरस का पता लगाने में स्वर्ण मानक हैं। मुख्य रेडियोलॉजिस्ट डॉ हर्ष महाजन ने कहा कि “लैब आरटी-पीसीआर परीक्षण स्वर्ण मानक परीक्षण है और इस परीक्षण का उपयोग करते समय ओमीक्रॉन या पिछले डेल्टा के बीच संवेदनशीलता या पिक-अप दर में कोई अंतर नहीं है। ओमीक्रॉन वैरिएंट में स्पाइक प्रोटीन में 30 से अधिक उत्परिवर्तन वर्तमान में उपलब्ध परीक्षण किट का उपयोग करके संवेदनशीलता में कोई अंतर नहीं डालते हैं।"

कोरोना के आतंक के बीच ओमिक्रॉन वैरिएंट से किन लोगों को है मौत का खतरा, WHO ने दी विस्तृत जानकारी