BREAKING NEWS

निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾न्यायालय से संपर्क करने से पहले राज्यपाल को सूचित करने की कोई जरूरत नहीं : येचुरी◾ममता ने एनपीआर,जनसंख्या पर केन्द्र की बैठक में नहीं लिया भाग◾सिंध में हिंदू समुदाय की लड़कियों के अपहरण को लेकर भारत ने पाक अधिकारी को किया तलब◾नड्डा का 20 जनवरी को निर्विरोध भाजपा अध्यक्ष चुना जाना तय◾हमें कश्मीर पर भारत के रुख को लेकर कोई शंका नहीं है : रूसी राजदूत◾IND vs AUS : भारत की दमदार वापसी, ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया, सीरीज में बराबरी◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 48 और नामांकन दाखिल◾राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾कश्मीर में शहीद सलारिया का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, दो महीने की बेटी ने दी मुखाग्नि ◾बुलेट ट्रेन परियोजना के लिये भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के खिलाफ याचिकाओं पर न्यायालय करेगा सुनवाई ◾चुनाव में ‘कांग्रेस वाली दिल्ली’ के नारे के साथ प्रचार में उतरी कांग्रेस◾यूपी सीएम योगी ने हिमस्खलन में कुशीनगर के शहीद जवान की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया◾TOP 20 NEWS 17 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾निर्भया के गुनहगारों का नया डेथ वारंट जारी, 1 फरवरी को सुबह 6 बजे होगी फांसी◾दिल्ली चुनाव के लिए BJP ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली सूची◾

मजबूत संबंधों के लिए उत्तर कोरिया ने चीन को दिया औपनिवेशिक शासन का हवाला

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की बेहद महत्वपूर्ण सांकेतिक यात्रा के एक दिन बाद उत्तर कोरिया ने कहा कि प्योंगयांग और बीजिंग के संबंध ‘‘अजेय’’ हैं क्योंकि दोनों ने जापान के औपनिवेशिक शासन का दंश झेला है। उत्तर कोरिया के सरकारी समाचार पत्र ‘रोदोंग सिनमुन’ में यह लेख जापान में होने वाले जी20 शिखर बैठक के कुछ ही दिन पहले प्रकाशित हुआ है। 

इस सम्मेलन के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मुलाकात होने की संभावना है। व्यापार को लेकर चीन और अमेरिका के बीच जारी गतिरोध की पृष्ठभूमि में बीजिंग ट्रंप को यह समझाना चाहता है कि परमाणु हथियार संपन्न उत्तर कोरिया पर उसका कितना गहरा प्रभाव है। साथ ही वह अमेरिका के महत्वपूर्ण सहयोगी जापान का अपनी मुहिम में शामिल करना चाहता है।