BREAKING NEWS

LIVE: BJP मुख्यालय लाया गया अरुण जेटली का पार्थिव शरीर◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾

विदेश

जरूरी नहीं कि खुफिया एजेंसियों के निष्कर्षों से हमेशा सहमत रहूं : राष्ट्रपति ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह अपने खुफिया अधिकारियों के निष्कर्षों से हमेशा सहमत नहीं होते। यही कारण है कि ईरान और इराक पर वह निष्कर्षों को खारिज कर चुके हैं। ट्रंप ने पिछले सप्ताह अपने खुफिया प्रमुखों पर तंज कसा था। कांग्रेस की बहस में वैश्विक खतरे पर राष्ट्रीय खुफिया निदेशक और सीआईए तथा एफबीआई के अधिकारियों के बयान का उन्होंने उपहास किया था।

ईरान, उत्तर कोरिया और आईएसआईएस पर भी राष्ट्रपति की राय खुफिया अधिकारियों की राय के उलट थी। कांग्रेस में बहस के दौरान नेशनल इंटेलिजेन्स के निदेशक डेन कोट्स, सीआईए की निदेशक जिना हास्पेल तथा अन्य शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने सांसदों को बताया कि 2015 का परमाणु समझौता ईरान के लिए स्थायी है।

राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि वह अपने खुफिया अधिकारियों के निष्कर्ष से सहमत नहीं थे कि ईरान के साथ परमाणु समझौता टिकाऊ है। उन्होंने दावा किया कि ईरान अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इराक पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के मिथ्या आकलन की वजह से अमेरिका जंग में मुब्तला हुआ, ऐसा नहीं होना चाहिए था।

राष्ट्रपति ट्रंप ने सीबीसी न्यूज को एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘खुफिया तंत्र के लोग हैं लेकिन इसका ये मतलब नहीं है मैं (उनके निष्कर्षों) से हमेशा सहमत हो जाऊं...जो लोग कहते थे कि इराक में सद्दाम हुसैन के पास परमाणु हथियार हैं, खुफिया तंत्र के उन लोगों को पता नहीं था कि जो गड़बड़ी उन्होंने की और जंग में हमें फंसाया, वहां हमें बिल्कुल नहीं होना चाहिए था। ’’

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि बुश प्रशासन के दौरान हुए खुफिया आकलन की वजह से अमेरिका ने पश्चिम एशिया पर न केवल 7000 अरब डॉलर खर्च कर दिए बल्कि हजारों जान भी गंवा दी। राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि वह अपने खुफिया अधिकारियों के इस आकलन से सहमत नहीं हैं कि ईरान परमाणु समझौते का पालन कर रहा है। उन्होंने कहा कि ईरान अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम पर आगे बढ़ रहा है।