BREAKING NEWS

आज का राशिफल (15 अगस्त 2022)◾Independence Day : प्रधानमंत्री मोदी आज लाल किले की प्राचीर से फहराएंगे तिरंगा, सुरक्षा ऐसी व्यवस्था की परिंदा भी पर न मार सके◾J&K : कश्मीर में आतंकवादियों के घरों पर तिरंगा फहराया◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने ने राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में भारत की सफलता की कहानी पर प्रकाश डाला◾उपराष्ट्रपति ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को दी बधाई ◾PM मोदी 15 अगस्त को प्रमुख स्वास्थ्य परियोजनाओं की कर सकते हैं घोषणा◾ममता ने Modi सरकार पर साधा निशाना , कहा -गैर-राजग शासित राज्यों में सरकार गिराने की कोशिश कर रही है BJP◾हमने तरक्की की, पर कई देश भारत से आगे निकल गए भारत पीछे क्यों रह गया : AK◾जम्मू-कश्मीर : 'छड़ी-मुबारक' 'पूजन' और 'विसर्जन' के साथ वार्षिक अमरनाथ यात्रा का समापन◾राष्ट्रपति मुर्मू ने वीरता पुरस्कारों को मंजूरी दी; सेना के स्वान एक्सेल की सेवा को भी सराहा गया◾राजस्थान में दलित बच्चे की पिटाई करने के मामले में आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए : राहुल◾स्वतंत्रता दिवस से पहले पंजाब पुलिस ने दिल्ली पुलिस की मदद से बड़े आतंकी खतरे को किया नाकाम ◾स्वतंत्रता दिवस : दिल्ली से लेकर कश्मीर तक सुरक्षा के चाक चौबंद इंतज़ाम◾J&K : श्रीनगर के नौहट्टा इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी घायल◾एकनाथ का ऐलान - ‘वास्तविक’ शिवसेना और भाजपा मिलकर महाराष्ट्र में निकाय चुनाव लड़ेंगे◾J&K : श्रीनगर में 1850 मीटर लंबा तिरंगा प्रदर्शित किया गया, अधिकारियों ने बताया इसे देश में सबसे लंबा झंडा ◾भाकपा ने कहा- सम्मानजनक प्रतिनिधित्व मिलने पर नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में शामिल होंगे◾भारत ने दुनिया को लोकतंत्र की वास्तविक क्षमता का पता लगाने में मदद की: राष्ट्रपति मुर्मू◾Delhi: केजरीवाल ने कहा- ऊंचाई वाले 500 स्तंभों पर झंडा लहराने के साथ दिल्ली ‘तिरंगे का शहर’ बन गया◾मध्यप्रदेश : शहर की 80 फीसदी सरकार पर भी भाजपा का कब्जा ◾

ओली-प्रचंड के मतभेद फिर उभरे, प्रधानमंत्री ने सत्तारूढ़ पार्टी में विभाजन का दिया संकेत

प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली और उनके विरोधी माने जाने वाले पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ के बीच एक मुलाकात के बाद नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी में मतभेद फिर से उभर गये हैं और प्रधानमंत्री ने पार्टी में विभाजन का संकेत दिया है। 

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने रविवार को यह जानकारी दी। 

ओली और प्रचंड ने सितंबर में सत्ता साझेदारी के एक समझौते पर पहुंचकर अपने मतभेद सुलझा लिये थे और पार्टी में कई महीने तक चले विवाद को समाप्त कर दिया था। 

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि ओली ने शनिवार को पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष प्रचंड से मुलाकात के बाद पार्टी में बिखराव होने का संकेत दिया।

प्रचंड और ओली की मुलाकात करीब दो सप्ताह के अंतराल के बाद हुई थी जिसमें प्रधानमंत्री ने प्रचंड से कहा , ‘‘अगर हम साथ नहीं चल सकते तो अपने अपने रास्ते चलना चाहिए।’’ 

दोनों नेताओं के बीच कई मुद्दों पर मतभेद हैं।