BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : दोनों सदनों में ससुर -दामाद ही पीठासीन, ससुर विधानपरिषद के चैयरमैन व दामाद बनें विधानसभा अध्यक्ष ◾अपने ही गढ़ में मिली करारी हार के बाद अखिलेश का बड़ा फैसला, राष्ट्रीय कार्यकारिणी समेत सभी संगठन भंग ◾ नई विदेश नीति लाने की तैयारी में वाणिज्य मंत्रालय, सितंबर से पहले उठाया जा सकता हैं कदम ◾Maharashtra Assembly Speaker: BJP विधायक राहुल नार्वेकर ने मारी बाजी, 164 वोटों के साथ जीता चुनाव ◾एकनाथ शिंदे : ऑटो वाले से महाराष्ट्र के CM की कुर्सी तक का सफर, सब्र का नहीं बगावत का फल निकला मीठा◾महाठग सुकेश ने तिहाड़ प्रशासन को फिर दिखाया ठेंगा, सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाकर किया यह 'कारनामा' ◾कुर्सी बचाने के लिए मुगलों की नीति पर चल रहे हैं अखिलेश, सपा बन चुकी है ‘समाप्तवादी पार्टी’ : निरहुआ◾लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को ग्रामीणों ने दबोचा, प्रशासन ने दिया 2 लाख का नकद इनाम ◾'उल्टी गिनती शुरू.. अगला नंबर तेरा', Ex रोडीज निहारिका को मिली धमकी, उदयपुर हत्यकांड पर की थी निंदा ◾पर्यटक कृपया ध्यान दें, उत्तराखंड में भारी बारिश को लेकर चेतावनी, राजधानी समेत इन जिलों में अलर्ट जारी ◾असम बाढ़ से जिंदगी मुहाल, 22.17 लाख से अधिक अब भी फंसे, मरने वालों की संख्या बढ़कर 174◾India Corona Update: देश में कोरोना के 16,103 नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें कितने लोगों ने गंवाई जान ◾शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुटविधायक दल के कार्यालय को किया सील, श्वेत पत्र चिपकाया ◾आज का राशिफल ( 03 जुलाई 2022)◾BJP कर रही है ‘रचनात्मक’ राजनीति, विपक्षी दलों की भूमिका ‘विनाशकारी’ : जे पी नड्डा◾महाराष्ट्र : शिंदे का समर्थन कर रहे शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई लौट , विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव रविवार को◾PM मोदी की अगवानी ना कर KCR ने व्यक्ति नहीं संस्था का किया अपमान : BJP◾ Maharashtra Politics: मुख्यमंत्री शिंदे के साथ शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई के लिए रवाना◾ बडा़ खुलासा : कन्हैया का सर कलम करने वाले मौहम्मद रियाज ने की थी बीजेपी दफ्तर की रेकी, गौस ने पाक में ली आतंकी ट्रेनिंग ◾ IPS Transfer list: यूपी में 21 IPS अधिकारियों का हुआ ट्रांसफर, इन जिलों के SP बदले गए, देखें पूरी सूची◾

ओमीक्रॉन का 'सबटाइप' बनता जा रहा खतरे का रेड अलर्ट, WHO ने बताया 'वैरिएंट ऑफ कंसर्न', जानें क्या कहा

कुछ यूरोपीय और एशियाई देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के बीए.2 सबटाइप (उप-प्रकार) की बढ़ती उपस्थिति की चिंताओं के बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बुधवार को इस बात पर जोर दिया कि बीए.2 को अभी भी वैरिएंट ऑफ कंसर्न (चिंता का एक प्रकार) माना जाना चाहिए। सार्स-सीओवी-2 वायरस इवोल्यूशन (टीएजी-वीई) पर डब्ल्यूएचओ के तकनीकी सलाहकार समूह, जिसकी मंगलवार को बैठक हुई थी, ने कहा कि इसे ओमिक्रॉन के रूप में वर्गीकृत किया जाना चाहिए। समूह ने इस बात पर भी जोर दिया कि सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा बीए.2 की निगरानी ओमिक्रॉन के एक विशिष्ट उप-वंश के रूप में की जानी चाहिए।

ओमिक्रॉन बना हुआ है वैरिएंट ऑफ कंसर्न :WHO

डब्ल्यूएचओ ने एक बयान में कहा, ओमिक्रॉन वैरिएंट ऑफ कंसर्न वर्तमान में विश्व स्तर पर प्रसारित होने वाला प्रमुख वैरिएंट है, जो जीआईएसएआईडी (एक ओपन एक्सेस डेटाबेस) को रिपोर्ट किए गए लगभग सभी सीक्वेंस के लिए जिम्मेदार है। ओमिक्रॉन कई उप-वंशों से बना है, जिनमें से प्रत्येक की निगरानी डब्ल्यूएचओ और इसके भागीदारों द्वारा की जा रही है। उनमें से, सबसे आम हैं- बीए.1, बीए.1.1 (या नेक्स्टस्ट्रेन क्लैड 21के) और बीए.2 (या नेक्स्टस्ट्रेन क्लैड 21एल)। वैश्विक स्तर पर, हाल के हफ्तों में बीए.2 नामित सीक्वेंस का अनुपात बीए.1 के सापेक्ष बढ़ रहा है, हालांकि सभी वैरिएंट का वैश्विक प्रचलन कथित तौर पर घट रहा है।

बीए.2 अपने आनुवंशिक अनुक्रम बीए.1 से अधिक फैलता है 

विशेषज्ञों ने समझाया कि बीए.2 अपने आनुवंशिक अनुक्रम (जेनेटिक सीक्वेंस) में बीए.1 से भिन्न है। यद्यपि यह समझने के लिए अध्ययन चल रहे हैं कि क्यों, प्रारंभिक डेटा का सुझाव है कि बीए.2 स्वाभाविक रूप से बीए.1 की तुलना में अधिक फैलने की क्षमता के साथ प्रतीत होता है। विशेषज्ञों ने यह भी कहा कि हालांकि, ट्रांसमिसिबिलिटी (फैलने की क्षमता) में यह अंतर बीए.1 और डेल्टा वैरिएंट के बीच की तुलना में बहुत छोटा प्रतीत होता है। इस बीच, हालांकि बीए.2 सीक्वेंस अन्य ओमिक्रॉन उप-वंशों के अनुपात में बढ़ रहे हैं, फिर भी वैश्विक स्तर पर समग्र मामलों में गिरावट दर्ज की गई है।

WHO बारीकी से कर रहा बीए.2 वेरिएंट की निगरानी 

इसके अलावा, जबकि बीए.1 के साथ संक्रमण के बाद बीए.2 के साथ पुन: संक्रमण के मामलों का दस्तावेजीकरण किया गया है, अध्ययनों के बाद प्रारंभिक डेटा से पता चलता है कि बीए.1 के साथ संक्रमण बीए.2 के साथ पुन: संक्रमण के खिलाफ मजबूत सुरक्षा प्रदान करता है। डब्ल्यूएचओ ओमिक्रॉन के हिस्से के रूप में बीए.2 की बारीकी से निगरानी करना जारी रखेगा। संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने देशों से सतर्क रहने, विभिन्न सीक्वेंस की निगरानी और रिपोर्ट करने और विभिन्न ओमिक्रॉन सबलाइनेज के स्वतंत्र और तुलनात्मक विश्लेषण करने का आग्रह किया है।