BREAKING NEWS

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में भीड़ ने मंदिर पर किया हमला, सख्त हुई मोदी सरकार, राजनयिक को किया तलब◾संघर्षविराम के बावजूद 140 आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में घुसने का कर रहे इंतजार, अधिकारी ने बताया ◾रवि दहिया को हरियाणा सरकार देगी 4 करोड़ रुपये, गांव में स्टेडियम भी बनेगा◾तोक्यो ओलंपिक : अंतिम 10 सेकंड में ब्रॉन्ज से चूके दीपक पुनिया◾ममता ने PM को लिखा पत्र, कहा- वैक्सीन की आपूर्ति नहीं बढ़ाई गई तो कोरोना की स्थिति हो सकती है गंभीर ◾ओलंपिक (कुश्ती) : फाइनल में गोल्ड से चूके रवि दहिया, रजत पदक से करना पड़ेगा संतोष◾मिजोरम और असम ने सीमा विवाद पर की वार्ता, सौहार्द्रपूर्ण तरीके से मुद्दे का समाधान करने को हुए सहमत ◾5 अगस्त को हमेशा याद रखेगा देश, 'सेल्फ गोल' करने में जुटा है विपक्ष : PM मोदी◾ ऐतिहासिक जीत के बाद PM ने टीम के कप्तान से फोन पर की बात, कहा- गजब का काम किया , पूरा देश नाच रहा है◾देश के सामने बेरोजगारी सबसे बड़ा मुद्दा, रोजगार के बारे में एक शब्द नहीं बोलते प्रधानमंत्री : राहुल गांधी◾पेगासस केस पर SC ने कहा- जासूसी के आरोप यदि सही हैं तो क्यों नहीं करवाई FIR, मामला गंभीर◾संसद में पेगासस विवाद समेत कई मुद्दों का लेकर विपक्ष केंद्र पर हमलवार, राज्यसभा की बैठक स्थगित◾भारतीय हॉकी टीम के कोच बोले - ये अहसास अद्भुत, प्लेयर्स ने ऐसे बलिदान दिए है जो किसी को नहीं पता◾कांग्रेस का केंद्र पर आरोप - विपक्ष को बाहर निकाल कर सदन चलाना चाहती है सरकार, हम नहीं झुकेंगे ◾UP चुनाव को धार देने के लिए सपा ने निकाली साइकिल यात्रा, अखिलेश का दावा- हम जीतेंगे 400 सीटें◾संसद में कांग्रेस का एक सीधा मंत्र है 'परिवार का हित', हमें भी उनसे पूछने हैं तीखे सवाल : BJP◾पंजाब चुनाव से पहले प्रशांत किशोर ने 'प्रधान सलाहकार' पद से दिया इस्तीफा◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 42982 नए केस की पुष्टि, 533 मरीजों की मौत◾हॉकी में भारत की जीत पर टीम को बधाई देने वालों का लगा तांता, PM समेत कई दिग्गज नेताओं ने दी शुभकामनाएं◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों की संख्या 20 करोड़ के पार, 42.5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पश्चिम एशिया की पहली यात्रा पर US विदेश मंत्री ब्लिंकन ने फलस्तीनियों को समर्थन की घोषणाएं कीं

 अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने फलस्तीनियों के लिए एक प्रमुख राजनयिक संपर्क कार्यालय को पुन: खोलने की योजना की घोषणा की है और ट्रंप प्रशासन की प्रमुख नीतियों को पलटते हुए करीब चार करोड़ डॉलर की नई सहायता राशि का भी ऐलान किया है।

ब्लिंकन ने वेस्ट बैंक में संकटग्रस्त फलस्तीनी सरकार को समर्थन देने के अमेरिका के प्रयासों के तहत यह घोषणा की। मंगलवार को क्षेत्र के पहले आधिकारिक दौरे पर पहुंचे अमेरिकी विदेश मंत्री ने इजराइल और फलस्तीन के बीच पिछले सप्ताह हुए संघर्ष-विराम को मजबूती प्रदान करने के मकसद से दोनों के नेताओं से मुलाकात की।गाजा पट्टी में इजराइल और हमास चरमपंथियों के बीच 11 दिन की लड़ाई के बाद संघर्ष-विराम हुआ।

ब्लिंकन ने इन प्रयासों के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने का संकल्प व्यक्त किया, वहीं यह भी सुनिश्चित करने का वादा किया कि सहायता राशि का एक भी हिस्सा हमास तक नहीं पहुंचेगा। ब्लिंकन ने बार-बार दशकों पुराने संघर्ष के लंबित मुद्दों की ओर इशारा किया और दोनों पक्षों के प्रति सहानुभूति जताई। हालांकि उन्होंने दीर्घकालिक शांति बनाए रखने के लिए अमेरिका की ओर से एक और बार दबाव बनाने में रुचि नहीं दिखाई। ऐसा संभवत: इसलिए है कि पूर्व प्रशासन के इस दिशा में किए गए प्रयास विफल रहे। ब्लिंकन ने हालांकि बेहतर माहौल बनाने की उम्मीद जताई जिसमें एक दिन शांति वार्ता शुरू हो सकेगी।

ब्लिंकन ने यह भी साफ किया कि राष्ट्रपति जो बाइडन क्षेत्र के लिए पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तुलना में अधिक निष्पक्ष तरीके से प्रयास करेंगे। ट्रंप ने फलस्तीनियों के साथ एक तरह से हर क्षेत्र में असहमति दिखाते हुए इजराइल का भरपूर समर्थन जताया था।

ब्लिंकन ने वेस्ट बैंक में फलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास के साथ बातचीत के बाद कहा, ‘‘जैसा कि मैंने राष्ट्रपति को बताया, मैं यहां फलस्तीनी शासन और फलस्तीनी जनता के साथ रिश्तों के पुनर्निर्माण की अमेरिका की प्रतिबद्धता को रेखांकित करने आया हूं। ऐसे रिश्ते जो आपसी सम्मान के आधार पर बने हों और उनमें फलस्तीनियों तथा इजराइलियों के लिए सुरक्षा, स्वतंत्रता के अवसर एवं सम्मान के समान उपायों का साझा संकल्प हो।’’

उन्होंने बताया कि अमेरिका इस दिशा में यरूशलम में वाणिज्य दूतावास को पुन: खोलेगा जो वर्षों तक फलस्तीनियों के लिए वस्तुत: दूतावास की तरह काम करता रहा।ट्रंप ने 2018 में तेल अवीव से अमेरिकी दूतावास को यरूशलम स्थानांतरित करके वाणिज्य दूतावास के कामकाज को भी अमेरिकी दूतावास के अधीन कर दिया था।

मालवाहक जहाज में आग, भारत ने श्रीलंकाई नौसेना को भेजी मदद, चालक दल के 25 सदस्यों को बचाया