BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

PAK नेशनल असेंबली ने कुलभूषण जाधव की सजा की समीक्षा के लिए विधेयक को दी मंजूरी

पाकिस्तान नेशनल असेंबली की कानून और न्याय संबंधी स्थायी समिति ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की सजा की समीक्षा करने के लिए एक विधेयक को मंजूरी दी है। कुलभूषण को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई है। यह विधयक अंतरराष्ट्रीय अदालत के निर्देशों का अनुपालन करता है। 

मीडिया में गुरुवार को जारी खबरों के अनुसार, ‘‘अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (समीक्षा और पुनर्विचार) अध्यादेश’ शीर्षक से प्रस्तुत मसौदा विधेयक पर नेशनल असेंबली की विधि एवं न्याय से संबंधित स्थायी समिति ने विपक्ष के तीखे विरोध के बावजूद बुधवार को चर्चा की और इसे अपनी मंजूरी दी। 

समिति की बहस में हिस्सा लेते हुए पाकिस्तान की न्याय एवं विधि मंत्री फरोग नसीम ने कहा कि यह विधेयक अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के निर्देशों के अनुपालन के तहत लाया गया है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर विधेयक को संसद मंजूरी नहीं देती तो पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के फैसले का अनुपालन नहीं करने पर प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। 

जासूसी के आरोप में अप्रैल 2017 में सुनाई मौत की सजा

उल्लेखनीय है कि जासूसी और आतंकवाद में शामिल होने के आरोप में भारतीय नौसेना से अवकाश प्राप्त 50 वर्षीय अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में मौत की सजा सुनाई थी। भारत ने पाकिस्तान के सैन्य अदालत के फैसले और जाधव को राजनयिक संपर्क देने से इनकार करने के खिलाफ वर्ष 2017 में ही अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का रुख किया था। 

हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत ने जुलाई 2019 में दिए फैसले में कहा कि पाकिस्तान जाधव को दोषी ठहराने और सजा देने के फैसले की प्रभावी तरीके से समीक्षा करे और पुनर्विचार करे। इसके साथ ही अदालत ने भारत को बिना देरी जाधव तक राजनयिक पहुंच देने का आदेश दिया। 

डान अखबार के मुताबिक स्थायी समिति में विपक्षी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन), पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) और जमीयत उलेमा -ए-इस्लाम (जेयूआई-एफ) के सदस्यों ने अध्यक्ष रियाज फत्याना से अनुरोध किया कि वह इस विधेयक को खारिज कर दें। हालांकि, सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ (पीटीआई) से संबंध रखने वाले फत्याना ने गतिरोध को मतदान से सुलझाने का फैसला किया। 

उन्होंने पीटीआई के दो सदस्यों को भी मतदान से पहले बैठक में जाने से रोकने का प्रयास किया। खबर के मुताबिक समिति के आठ सदस्यों ने विधेयक के पक्ष में मतदान किया जबकि पांच सदस्य इसके विरोध में रहे। विपक्षी सदस्यों ने विधेयक को जाधव के लिए राष्ट्रीय मेल-मिलाप अध्यादेश (एनआरओ) करार दिया है। 

उललेखनीय है कि एनआरओ को पूर्व राष्ट्रपति और सैन्य तानाशाह जनरल (अवकाशप्राप्त) परवेज मुशर्रफ ने तब देश के निर्वासित राजनीतिक नेतृत्व के लिए जारी किया गया था जिसमें राजनेताओं के खिलाफ भ्रष्टाचार के कई मामलों को वापस ले लिया गया था। 

जेयूआई-एफ की आलिया कामरान ने आरोप लगाया कि सरकार देश की अवस्थापना को यह कहकर भ्रमित कर रही है कि वह विधेयक जाधव के लिए नहीं ला रही है। उन्होंने कहा कि विधेयक को आम बहस के लिए जनता और बार एसोसिएशन के समक्ष रखना चाहिए। 

कामरान ने कहा, ‘‘विधेयक गैर जरूरी है क्योंकि पाकिस्तान के पूर्व प्रधान न्यायाधीश ने पहले ही अपने फैसले में कह दिया है कि संवैधानिक अदालतें सैन्य अदालतों के फैसलों की समीक्षा कर सकती हैं।’’ पीपीपी के सैयद नवीद कमर ने कहा कि विधेयक के जरिये सरकार जाधव को सैन्य अदालत के फैसले के खिलाफ अपील से राहत देना चाहती है जो पाकिस्तानी नागरिकों को भी उपलब्ध नहीं है। 

उन्होंने कहा कि जाधव को एनआरओ देने के लिए लाए जा रहे इस विधेयक का हम विरोध करते हैं। विधि मंत्रालय ने कहा कि वह इस विधेयक के जरिये भारत को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में पाकिस्तान के खिलाफ संभावित अवमानना का मुकदमा दर्ज करने से रोकना चाहता है। 

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होता और मामला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को प्रेषित किया जाता है तो देश को प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। मंत्री ने रेखांकित किया कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के आदेश के अनुरूप अनुमति दिए जाने के बावजूद न तो भारत ने और न ही कुलभूषण जाधव ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय में राहत के लिए याचिका दायर की है।