BREAKING NEWS

UP चुनाव : CM योगी आदित्यनाथ बृहस्पतिवार को बिजनौर में करेंगे जनसंपर्क◾उप्र चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीसरी सूची में 89 और उम्मीदवार घोषित किए, महिलाओं को 40 प्रतिशत टिकट◾गृह मंत्री अमित शाह ने की पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेताओं के साथ बैठक, ये है भाजपा का प्लान ◾उम्मीदवारों के प्रदर्शन पर रेल मंत्री बोले : ‘अपनी संपत्ति’ को नष्ट न करें, शिकायतों का करेंगे समाधान ◾गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾RRB-NTPC Exam: परीक्षार्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने भर्ती परीक्षा पर लगाई रोक, जांच के लिए बनाई समिति◾विधानसभा चुनाव तक चलेगी हिंदू-मुसलमानको लेकर तीखी बयानबाजी: राकेश टिकैत◾World Corona: दुनियाभर में जारी है कोरोना का कोहराम, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 35.79 करोड़ के पार◾Corona Update: देश में तीसरी लहर का सितम जारी, संक्रमण के 2 लाख 85 हजार से अधिक नए केस, 665 लोगों की मौत ◾दिल्ली: गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 27,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात◾गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं◾

पाकिस्तान: टीएलपी के आगे झुकी इमरान सरकार, प्रतिबंधित संगठन के 350 कार्यकर्ताओं को किया रिहा

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार कितनी मजबूत है, इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एक प्रतिबंधित संगठन के आगे प्रधानमंत्री इमरान  खान को झुकना पड़ा। पाकिस्तान सरकार ने इस्लामाबाद की ओर ‘‘लंबे मार्च’’ की धमकी देने वाले कट्टर इस्लामी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के साथ संघर्ष की स्थिति से बचने के लिए इस प्रतिबंधित संगठन के 350 कार्यकर्ताओं को रिहा कर दिया है। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद ने यह घोषणा की।

लाहौर समेत देशभर में हुए हिंसक प्रदर्शन 

टीएलपी के सदस्य अपने पार्टी प्रमुख साद हुसैन रिजवी को रिहा नहीं किए जाने के कारण पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार के खिलाफ लाहौर समेत देशभर में हिंसक प्रदर्शन कर रहे हैं। रशीद ने कहा कि टीएलपी की मांग की समीक्षा करने के बाद मंगलवार को इस मामले को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझा लिया जाएगा।

विपक्षी दलों और प्रतिबंधित संगठन ने देश के कई शहरों में प्रदर्शन किए थे, जिसके कारण इस्लामाबाद, लाहौर और रावलपिंडी में आंशिक बंद लागू हो गया था। बुधवार से शुरू हुई हिंसा में तीन पुलिसकर्मियों और सात टीएलपी सदस्यों की मौत हो चुकी है।

गृह मंत्री ने किया नेतृत्व

गृह मंत्री ने हिरासत में बंद टीएलपी के प्रमुख रिजवी समेत इस्लामी समूह के प्रतिनिधियों के साथ इस्लामाबाद में वार्ता के दौरान एक सरकारी दल का नेतृत्व किया। उन्होंने कहा, ‘‘हमने अब तक 350 टीएलपी सदस्यों को रिहा कर दिया है और हम टीएलपी के साथ वार्ता में लिए गए फैसले के अनुसार मुरीदके सड़क को दोनों ओर से खोले जाने का अभी इंतजार कर रहे हैं।’’

रशीद ने रविवार को कहा कि टीएलपी और सरकार के बीच वार्ता सफल रही। उन्होंने कहा कि टीएलपी सदस्य (इस्लामाबाद की ओर) आगे नहीं बढ़ेंगे और मंगलवार तक मुरीदके में रहेंगे। रिजवी की पार्टी के नेता अजमल कादरी ने शुक्रवार को कहा था कि रिजवी की रिहाई को लेकर सरकार के साथ बातचीत नाकाम रहने के बाद उनके समर्थकों ने मार्च निकालने का निर्णय लिया।

रिजवी की हिरासत, देश में प्रदर्शन 

गृह मंत्री ने कहा कि सरकार टीएलपी सदस्यों के खिलाफ दर्ज मामले बुधवार तक वापस ले लेगी। रशीद ने कहा कि प्रतिबंधित संगठन के वार्ताकार दूसरे दौर की वार्ता के लिए सोमवार को गृह मंत्रालय आएंगे। एक टीएलपी नेता ने दावा किया है कि गृह मंत्री ने देश के प्रधानमंत्री इमरान खान की वापसी तक का समय मांगा है। प्रधानमंत्री इस समय सऊदी अरब की आधिकारिक यात्रा पर हैं।

फ्रांस पर लगाए प्रतिबंध

पैंगबर मोहम्मद का कार्टून बनाने को लेकर फ्रांस के खिलाफ पार्टी के प्रदर्शनों, फ्रांस के राजदूत को वापस भेजे जाने एवं उस देश से आयातित वस्तुओं पर प्रतिबंध लगाए जाने की पार्टी की मांग के बाद ‘सार्वजनिक व्यवस्था’ बरकरार रखने के लिए पंजाब सरकार ने रिजवी को पिछली अप्रैल से हिरासत में ले रखा है।

इसके बाद, टीएलपी ने नेशनल असेंबली में फ्रांसीसी राजदूत के निष्कासन पर एक प्रस्ताव पेश करने के पाकिस्तान सरकार के आश्वासन के बाद देश भर में विरोध प्रदर्शन बंद करने पर सहमति व्यक्त की थी। सरकार ने फ्रांसीसी दूत के निष्कासन पर बहस के लिए नेशनल असेंबली का सत्र बुलाया था और प्रस्ताव पर मतदान से पहले सदन के अध्यक्ष ने इस मामले पर चर्चा करने के लिए एक विशेष समिति के गठन की घोषणा की थी और इस मामले पर आम सहमति बनाने के लिए सरकार एवं विपक्ष से वार्ता करने को कहा था। इस विशेष समिति की अप्रैल के बाद से कोई बैठक नहीं हुई है।