BREAKING NEWS

जयशंकर ने भारत में अवसरों पर ध्यान देने के लिए इजराइली कारोबारियों को किया प्रोत्साहित ◾राहुल से मुलाकात कर भी नहीं माने सिद्धू, सोनिया को लिखा 13 सूत्री एजेंडा वाला खत◾आतंकवादी हमले में बिहार के दो लोगों की हत्या पर CM नीतीश ने की चिन्ता व्यक्त, उपराज्यपाल से फोन पर की बात ◾J&K: 'टारगेट किलिंग' के मद्देनजर इमरजेंसी एडवाइजरी जारी, पुलिस-आर्मी कैंप में लाए जाएंगे बाहरी मजदूर ◾सिंघु बॉर्डर लिंचिंग : कोर्ट ने तीन आरोपियों को पुलिस रिमांड पर भेजा, दो एसआईटी कर रही जांच◾ J-K: लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने किया गैर-कश्मीरियों पर हमला, कुलगाम में बिहार के दो मजदूरों की हत्या◾UP विधानसभा चुनाव : चंद्रशेखर आजाद बोले- सत्ता में आए तो किसानों को एमएसपी की देंगे गारंटी◾ J-K में आतंकी हमलो के बीच भारत-पाकिस्तान मैच को रद्द करने की मांग:केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह◾UP विधानसभा उपाध्यक्ष पद के लिए सपा के उम्मीदवारों ने दाखिल किया नामांकन पत्र, BJP ने नितिन अग्रवाल का किया समर्थन ◾ PM मोदी ने केरल के CM पिनराई विजयन से की बात, भारी बारिश और भूस्खलन पर हुई चर्चा◾गोवा के एक नेता ने मां दुर्गा से की ममता बनर्जी की तुलना, कहा- BJP की 'भस्मासुर' सरकार का करेंगी नाश ◾BJP राज में महंगाई की बोझ तले दबे हैं किसान, केवल मोदी मित्र हो रहे हैं धनवान : प्रियंका गांधी ◾किस वजह से अधिक खतरनाक बना डेल्टा कोविड वेरिएंट, रिसर्च में हुआ खुलासा ◾जम्मू-कश्मीर : पुंछ में फिर मुठभेड़, आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने घेरा, दोनों तरफ से हुई गोलीबारी ◾विपक्ष पर बरसे CM योगी- पिछली सरकारों की दंगा ही थी फितरत, प्रश्रय देकर दंगाइयों को बढ़ाते थे आगे ◾सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र, 13 सूत्री एजेंडे के साथ मुलाकात का मांगा समय◾अखिलेश का तीखा हमला- 'UP को योगी सरकार नहीं, योग्य सरकार चाहिए', अंधेरे में है देश का भविष्य ◾ड्रैगन पर पाकिस्तान का सख्त एक्शन- फर्जी दस्तावेज जमा करने पर चीनी कंपनी को ब्लैक लिस्ट में डाला◾ उत्तराखंड में भारी बारिश होने की संभावना को लेकर जारी किया गया अलर्ट, SDRF की 29 टीमों ने संभाला मोर्चा◾बाढ़ प्रभावित केरल को गृहमंत्री शाह ने हर संभव मदद का दिया आश्वासन, भूस्खलन से मरने वालों की संख्या हुई 11◾

पाकिस्तान का भारत पर बड़ा आरोप, कहा- जाधव मामले में आईसीजे के फैसले को गलत ढंग से पेश किया

पाकिस्तान की कैद में पिछले काफी समय से रह रहे भारत के पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव मामले में एक नया मोड़ा सामने आया है। दरअसल पाकिस्तान ने शनिवार को भारत पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले को भारत सरकार ने गलत ढंग से पेश किया। साथ ही अपने आपको बेगुनाह बताते हुए कहा कि पाकिस्तान इस मामले में अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत सभी दायित्वों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है।

पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव मामले में भारत पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले को गलत ढंग से पेश करने का शनिवार को आरोप लगाया। साथ ही, जोर देते हुए कहा कि वह (पाकिस्तान) अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत सभी दायित्वों को पूरा करने को तैयार है।

गौरतलब है कि भारत ने बृहस्पतिवार को पाकिस्तान से उस विधेयक में मौजूद खामियों को दूर करने को कहा था, जो जाधव के मामले की समीक्षा के लिए लाया गया है। भारत ने कहा था कि प्रस्तावित कानून इस पर पुनर्विचार करने का तंत्र नहीं गठित करता है, जबकि आईसीजे के आदेश में इसके लिए कहा गया है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने नयी दिल्ली में कहा था कि समीक्षा एवं पुनर्विचार विधेयक 2020 आईसीजे के फैसले के अनुरूप जाधव के मामले में प्रभावी समीक्षा एवं पुनर्विचार का मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक तंत्र गठित नहीं करता है। उन्होंने कहा था कि सरकार ने अंतरराष्ट्रीय कानून के दायित्वों का निर्वहन किया है या नहीं, इसे देश की अदालतें तय नहीं कर सकतीं।

भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी, 51 वर्षीय जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी एवं आतंकवाद के आरोपों में अप्रैल 2017 में दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी। भारत ने जाधव को राजनयिक पहुंच न देने और मौत की सजा को चुनौती देने के लिए अंतरराष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) का रुख किया था, जिसने जुलाई 2019 के अपने फैसले में कहा था कि पाकिस्तान जाधव की दोषसिद्धि और सजा की अवश्य ही प्रभावी समीक्षा एवं पुनिर्वचार करे तथा बगैर किसी विलंब के राजनयिक पहुंच प्रदान करे।

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने शनिवार को कहा कि इस्लामाबाद अपने सभी अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का निर्वहन कर रहा है और यह जाधव के मामले में आईसीजे के फैसले पर भी लागू होता है। विदेश कार्यालय ने कहा, ‘‘यह अफसोसजनक है कि भारत सरकार ने आईसीजे के फैसले को गलत ढंग से पेश करने का विकल्प चुना, जिसने (आईसीजे ने) पैराग्राफ 147 में स्पष्ट रूप से कहा है कि पाकिस्तान जाधव की दोषसिद्धि और सजा की प्रभावी समीक्षा तथा पुनर्विचार का विकल्प उपलब्ध कराने के लिए आबद्ध है।’’

कार्यालय ने कहा, ‘‘आईसीजे के फैसले के पैराग्राफ 146 के अनुरूप पाकिस्तान ने (समीक्षा एवं पुनर्विचार) अध्यादेश, 2020 के जरिए अपने यहां जाधव को ऊपरी अदातलों में समीक्षा एवं पुनर्विचार का अधिकार उपलब्ध कराने का विकल्प चुना।’’

विदेश कार्यालय ने कहा कि पाकिस्तान आईसीजे के फैसले को कायम रखने के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, आईसीजे के फैसले के पैरा 118 के अनुसार भारत को भलमनसाहत के साथ कार्य करने और जाधव के लिए कानूनी प्रतिनिधित्व का इंतजाम करने की जरूरत है।