BREAKING NEWS

सैन्य वार्ता : भारत का हॉटस्प्रिंग्स, गोगरा एवं अन्य बिन्दुओं से सैनिकों की जल्द वापसी पर जोर◾PM मोदी सोमवार को डिजिटल भुगतान के लिए 'ई-रुपी' की करेंगे शुरुआत ◾राजस्थान में भारी बारिश के बाद रेल की पटरी बही, उत्तर और मध्य भारत में तेज बारिश की संभावना◾महाराष्ट्र के पुणे जिले में जीका वायरस का पहला मामला आया सामने ◾मानसून सत्र के पहले दो सप्ताहों में राज्यसभा के 40 घंटे हंगामे की भेंट चढ़े◾राजस्थान : गहलोत मंत्रिमंडल में संभावित फेरबदल से पहले अजय माकन बोले- कई मंत्री पद छोड़ने के इच्छुक◾शिवराज के मंत्री ने बढ़ती महंगाई के लिए नेहरू पर फोड़ा ठीकरा, कहा-1947 के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली◾संसद में पेगासस व किसानों के मुद्दे पर चर्चा करवाने के लिए विपक्षी दलों ने किया राष्ट्रपति से दखल देने का आग्रह◾मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान, बोले- समाज सेवा के लिए आया था◾राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह बने जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए नीतीश के करीबी का राजनीतिक संघर्ष◾UP बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट जारी, 10वीं में 99.53% और 12वीं में 97.88% स्टूडेंट्स पास ◾टोक्यो ओलंपिक 2020 : पीवी सिंधु फाइनल की रेस से हुई बाहर, मेडल की उम्मीद अब भी बरकरार◾मिजोरम पुलिस की FIR पर CM सरमा का ट्वीट, 'किसी भी जांच में शामिल होने पर होगी खुशी'◾ओलंपिक मुक्केबाजी : क्वार्टर फाइनल में हारीं पूजा रानी, पहले ही मुकाबले में हारकर बाहर हुए अमित पंघाल ◾चुनावों से पहले BJP खेल रही आरक्षण का कार्ड, जानिए UP समेत किन 5 राज्यों में गूंजेगा OBC रिजर्वेशन का मुद्दा ◾आतंकी सरगना मसूद अजहर का भतीजा 'लंबू' मुठभेड़ में ढेर, पुलवामा हमले की साजिश में था शामिल ◾असम और मिजोरम के बीच हुई हिंसा पर बोले राहुल- देश में दंगों को बीज की तरह बोया जा रहा है◾अखिलेश यादव ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को बताया ई-रावण, सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने का लगाया आरोप ◾'UPA सरकार ने कभी पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा नहीं दिया', BJP का कांग्रेस पर पलटवार◾भारत और चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता, हॉट स्प्रिंग और गोगरा इलाकों से गतिरोध खत्म करने पर जोर ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पाकिस्तान का भारत पर बड़ा आरोप, कहा- जाधव मामले में आईसीजे के फैसले को गलत ढंग से पेश किया

पाकिस्तान की कैद में पिछले काफी समय से रह रहे भारत के पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव मामले में एक नया मोड़ा सामने आया है। दरअसल पाकिस्तान ने शनिवार को भारत पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले को भारत सरकार ने गलत ढंग से पेश किया। साथ ही अपने आपको बेगुनाह बताते हुए कहा कि पाकिस्तान इस मामले में अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत सभी दायित्वों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है।

पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव मामले में भारत पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले को गलत ढंग से पेश करने का शनिवार को आरोप लगाया। साथ ही, जोर देते हुए कहा कि वह (पाकिस्तान) अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत सभी दायित्वों को पूरा करने को तैयार है।

गौरतलब है कि भारत ने बृहस्पतिवार को पाकिस्तान से उस विधेयक में मौजूद खामियों को दूर करने को कहा था, जो जाधव के मामले की समीक्षा के लिए लाया गया है। भारत ने कहा था कि प्रस्तावित कानून इस पर पुनर्विचार करने का तंत्र नहीं गठित करता है, जबकि आईसीजे के आदेश में इसके लिए कहा गया है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने नयी दिल्ली में कहा था कि समीक्षा एवं पुनर्विचार विधेयक 2020 आईसीजे के फैसले के अनुरूप जाधव के मामले में प्रभावी समीक्षा एवं पुनर्विचार का मार्ग प्रशस्त करने के लिए एक तंत्र गठित नहीं करता है। उन्होंने कहा था कि सरकार ने अंतरराष्ट्रीय कानून के दायित्वों का निर्वहन किया है या नहीं, इसे देश की अदालतें तय नहीं कर सकतीं।

भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी, 51 वर्षीय जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी एवं आतंकवाद के आरोपों में अप्रैल 2017 में दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी। भारत ने जाधव को राजनयिक पहुंच न देने और मौत की सजा को चुनौती देने के लिए अंतरराष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) का रुख किया था, जिसने जुलाई 2019 के अपने फैसले में कहा था कि पाकिस्तान जाधव की दोषसिद्धि और सजा की अवश्य ही प्रभावी समीक्षा एवं पुनिर्वचार करे तथा बगैर किसी विलंब के राजनयिक पहुंच प्रदान करे।

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने शनिवार को कहा कि इस्लामाबाद अपने सभी अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का निर्वहन कर रहा है और यह जाधव के मामले में आईसीजे के फैसले पर भी लागू होता है। विदेश कार्यालय ने कहा, ‘‘यह अफसोसजनक है कि भारत सरकार ने आईसीजे के फैसले को गलत ढंग से पेश करने का विकल्प चुना, जिसने (आईसीजे ने) पैराग्राफ 147 में स्पष्ट रूप से कहा है कि पाकिस्तान जाधव की दोषसिद्धि और सजा की प्रभावी समीक्षा तथा पुनर्विचार का विकल्प उपलब्ध कराने के लिए आबद्ध है।’’

कार्यालय ने कहा, ‘‘आईसीजे के फैसले के पैराग्राफ 146 के अनुरूप पाकिस्तान ने (समीक्षा एवं पुनर्विचार) अध्यादेश, 2020 के जरिए अपने यहां जाधव को ऊपरी अदातलों में समीक्षा एवं पुनर्विचार का अधिकार उपलब्ध कराने का विकल्प चुना।’’

विदेश कार्यालय ने कहा कि पाकिस्तान आईसीजे के फैसले को कायम रखने के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, आईसीजे के फैसले के पैरा 118 के अनुसार भारत को भलमनसाहत के साथ कार्य करने और जाधव के लिए कानूनी प्रतिनिधित्व का इंतजाम करने की जरूरत है।