BREAKING NEWS

मुलायम सिंह का आशीर्वाद लेकर BJP में शामिल हुई अपर्णा, बोलीं- परिवार से विमुख नहीं, मैं स्वतंत्र हूं... ◾अमित पालेकर होंगे आगामी गोवा विधानसभा चुनाव में AAP का CM फेस, अरविंद केजरीवाल ने किया ऐलान ◾भारत में 15 फरवरी तक चरम पर होगा ओमीक्रॉन, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने किया दावा- तीसरी लहर जल्द हो सकती है समाप्त◾उत्तराखंड चुनाव: कांग्रेस की CEC बैठक में 70 सीटों पर होगा फैसला, जल्द जारी होगी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट ◾श्रीलंका के तमिल नेताओं ने PM मोदी को लिखा पत्र, 13वें संशोधन को लागू करने की मांग की, जानें पूरा मामला◾UP: हाथरस पीड़ित का परिवार नहीं लड़ेगा विधानसभा चुनाव, कहा- पहले हमें इंसाफ दिलाओ◾UP चुनाव में JDU को नहीं मिला BJP का साथ, केसी त्यागी ने किया पार्टी के अकेले मैदान में उतरने का ऐलान ◾UP विधानसभा चुनाव: नेताओं को रिझाने के लिए कांग्रेस कर रही तरह-तरह के जतन ◾अखिलेश के चुनाव लड़ने पर BJP का तंज, नक़वी बोले-जुगाड़ से चल रही है विपक्ष का चौधरी बनने की जंग◾विश्व में कहीं खत्म नहीं हुआ कोरोना का आतंक, WHO ने ओमीक्रॉन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें क्या कहा? ◾World Corona: कोविड के वैश्विक मामलों में वृद्धि का दौर जारी, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 33.35 करोड़ के पार◾BJP ने मुलायम परिवार में लगाई बड़ी सेंध, भगवा दल में शामिल हुईं अपर्णा यादव ◾उत्तराखंड और गोवा चुनाव: BJP की CEC बैठक में उम्मीदवारों के नामों पर लगेगी मुहर, सीटों पर होगी चर्चा ◾कोविड 19 के गहराते संकट से जल्द मिलेगी राहत! कोरोना की तीसरी लहर को लेकर SBI के शोध में बड़ा दावा◾UP Assembly Election : सपा प्रमुख अखिलेश यादव लड़ेंगे विधानसभा चुनाव◾today's corona case: बीते 24 घंटों में कोविड के मामलों में हुई वृद्धि, सामने आए 2 लाख 82 हजार से ज्यादा नए मरीज◾UP : कोरोना गाइडलाइंस उल्लंघन मामले में सपा को राहत, चुनाव आयोग ने हिदायत देकर छोड़ा◾कोरोना ने डाला गणतंत्र दिवस समारोह पर असर, जानिए कौन होगा इस बार मुख्य अतिथि? ◾उत्तर भारत में अभी ठंड से ठिठुरन का सिलसिला रहेगा जारी, तो दिल्ली-UP समेत इन राज्यों में बारिश की संभावना◾उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में SP के लिए प्रचार करेंगी ममता बनर्जी◾

पाकिस्तान की उम्मीदें एक बार फिर होंगी तार-तार! FATF की ग्रे सूची में बने रहने की संभावना

पाकिस्तान का आतंकवाद प्रेम जगजाहिर है, जिसे दुनिया का हर देश जानता है। ऐसे में एक बार फिर उसकी बड़ी उम्मीदों को झटका लगना वाला है, क्योंकि ऐसी पूरी संभावना है कि वह अप्रैल 2022 तक फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की ग्रे लिस्ट में बना रहेगा। पाकिस्तान मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद के वित्तपोषण का मुकाबला करने के लिए एक कार्य योजना को पूरा करने में विफल रहा है और वह अभी भी इस दिशा में काम कर रहा है।

पेरिस में बुधवार से शुरू होगी FATF की बैठक

सूत्रों के अनुसार, पेरिस में बुधवार से शुरू होने वाली एफएटीएफ की आगामी तीन दिवसीय बैठक में मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवादी वित्तपोषण पर अंकुश लगाने के लिए पाकिस्तान की प्रगति और 27-सूत्रीय कार्य योजना के अनुपालन का आकलन और चर्चा होगी।

पाकिस्तान का नाम अप्रैल 2022 में एफएटीएफ के अगले सत्र तक ग्रे लिस्ट में रहने की उम्मीद है, क्योंकि यह कार्य योजना के पूर्ण अनुपालन को सुनिश्चित करने में विफल रहा है, जिसे वॉचडॉग (निगरानी करने वाला) के क्षेत्रीय साझेदार, एशिया पैसिफिक ग्रुप (एपीजी) द्वारा प्रस्तुत किया गया था।

27-सूत्रीय कार्य योजना में छह को पूरा करने में विफल रहा पाकिस्तान 

पाकिस्तान एफएटीएफ में अपने पिछले आकलन में 27-सूत्रीय कार्य योजना में से कम से कम छह को पूरा करने में विफल रहा है, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय सहयोग बढ़ाना और यह प्रदर्शित करना शामिल है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पदनामों को लागू करने में विदेशों से सहायता मांगी जा रही है।

एफएटीएफ के आकलन पाकिस्तान के लिए बहुत महत्व रखते हैं, क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ), यूएन और एग्मोस्ट ग्रुप ऑफ फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट्स सहित वित्तीय दाता भी पर्यवेक्षक संगठनों के रूप में एफएटीएफ बैठक का हिस्सा बनने जा रहे हैं।

एफएटीएफ करेगी अपने अगले कदम पर चर्चा

एफएटीएफ ने एक बयान में कहा, यह आभासी संपत्तियों और उनके सेवा प्रदाताओं पर संशोधित मार्गदर्शन सहित प्रमुख रिपोटरें को अंतिम रूप देगा और लाभकारी स्वामित्व की पारदर्शिता पर अपने मानकों को मजबूत करने के लिए अगले कदमों पर चर्चा करेगा।

जापान: आम चुनाव के लिए प्रचार अभियान शुरू, PM किशिदा ने आर्थिक नीतियों को ध्यान में रखते हुए प्राधिकरण की मांग की

25 जून को, एफएटीएफ ने काम करने के लिए छह नए एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग क्षेत्रों को सौंपते हुए, पाकिस्तान को अपनी ग्रे लिस्ट में रखने का फैसला किया था। हालांकि, इसने पाकिस्तान की प्रगति और अपने देश की कार्य योजना को संबोधित करने के प्रयासों को मान्यता दी थी, जो कि आतंकवाद के वित्तपोषण का मुकाबला करने के लिए संदर्भित है।

एफएटीएफ की ग्रे सूची से बाहर आने का संघर्ष जारी 

प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान सरकार कार्य योजना के सभी 27 बिंदुओं को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रही है, जो इसे एफएटीएफ की ग्रे सूची से हटाने का आधार है। देश की डूबती अर्थव्यवस्था आईएमएफ द्वारा वित्तीय खैरात पर चल रही है, जिसके परिणामस्वरूप बुनियादी उपयोगिताओं और पेट्रोलियम की कीमतों में भारी उछाल आया है, जिससे स्थानीय लोगों को देश के प्रमुख के रूप में खान की क्षमताओं और समझ पर सवाल उठाने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

इमरान सरकार का खोखला दावा

हालांकि, सरकार का कहना है कि उसने देश में मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवादी वित्तपोषण के खतरे को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए हैं। इसने जोर देकर कहा है कि इसे एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से हटाया जाना चाहिए। कानून मंत्री फारोघ नसीम ने अपने एक बयान में कहा है कि पाकिस्तान ने ग्रे लिस्ट से बाहर निकलने के लिए सब कुछ किया है, इसलिए अब देश का मामला 'वास्तव में एफएटीएफ की निष्पक्षता की परीक्षा' है।