BREAKING NEWS

अनिल मेनन बनेंगे नासा एस्ट्रोनॉट, बन सकते हैं चांद पर पहुंचने वाले पहले भारतीय◾PM मोदी ने SP पर साधा निशाना , कहा - लाल टोपी वाले लोग खतरे की घंटी,आतंकवादियों को जेल से छुड़ाने के लिए चाहते हैं सत्ता◾ किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए राकेश टिकैत ने कही ये बात◾DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾

आतंकवादी संगठनों के पाकिस्तानी आकाओं के नाम अब भी ब्लैक लिस्ट में नहीं : संयुक्त राष्ट्र

पाकिस्तानी नागरिक भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा (एक्यूआईएस), इस्लामिक स्टेट इन इराक एंड द लेवेंट- खुरासान (आईएसआईएल-के) और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) जैसे आतंकवादी संगठनों में नेतृत्व स्तर पर बने हुए हैं और इनमें से कई के नाम अब भी काली सूची में शामिल नहीं किए गए हैं। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। 

‘आईएसआईएस, अल-कायदा और संबद्ध व्यक्तियों एवं संस्थाओं से संबंधित विश्लेषणात्मक सहायता एवं प्रतिबंध निगरानी टीम’ की 26वीं रिपोर्ट में कहा गया कि अफगान विशेष बलों ने देशव्यापी अभियान चलाए जिससे आईएसआईएल-के का मुखिया असलम फारुकी, उसके पूर्ववर्ती जिया उल हक और अन्य को गिरफ्तार किया था। 

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा का रहने वाला फारुकी, काबुल के एक प्रमुख गुरुद्वारे पर हुए घातक आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड था जिसमें 25 सिख मारे गए थे। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अल कायदा प्रतिबंध समिति ने उसका नाम काली सूची में नहीं डाला है। इसी तरह, हक भी एक पाकिस्तानी नागरिक है और वह भी काली सूची में नहीं है। 

‘भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा’ (एक्यूआईएस) तालिबान के तहत अफगानिस्तान के निमरूज, हेलमंद और कंधार प्रांतों से काम करता है और इसका मौजूदा आका पाकिस्तान में जन्मा ओसामा महमूद है जिसे यूएनएससी प्रतिबंधों के तहत “सूचीबद्ध” नहीं किया गया है। महमूद ने असिम उमर की जगह ली थी। 

रिपोर्ट में कहा गया कि संगठन में बांग्लादेश, भारत, म्यामां और पाकिस्तान से 150 से 200 के बीच सदस्य हैं और खबरें हैं कि अपने पूर्व आका की मौत का बदला लेने के लिए वह क्षेत्र में जवाबी कार्रवाई की साजिश रच रहा है।” 

प्रतिबंध निगरानी टीम की रिपोर्ट में कहा गया कि, ‘‘अफगानिस्तान में मौजूद सबसे बड़ा आतंकवादी संगठन” तहरीक-ए-तालिबान है जिसकी अगुवाई आमिर नूर वली महसूद कर रहा है। टीटीपी सगरना बनने के दो साल से भी ज्यादा वक्त के बाद, यूएनएससी प्रतिबंध समिति ने पाकिस्तानी मूल के महसूद को इस माह वैश्विक आतंकवादी घोषित किया। 

महसूद का समर्थन उसके साथी कारी अमजद और टीटीपी प्रवक्ता मोहम्मद खुरासानी करते हैं और दोनों का ही नाम यूएनएससी प्रतिबंध समिति में शामिल नहीं है। 

यह दिखाता है कि पाकिस्तानी नागरिक आतंकवादी संगठनों में नेतृत्व के स्तर पर काम करते हैं और आतंकवादी संगठनों का पाकिस्तानी संबंध है। 

सदस्य राष्ट्रों के मुताबिक, अल-कायदा 12 अफगान प्रांतों में गुप्त रूप से सक्रिय है और इसका सरगना ऐमन अल-जवाहिरी देश में अड्डा डाले हुए है। निगरानी टीम का अनुमान है कि अफगानिस्तान में अल-कायदा लड़ाकों की कुल संख्या 400 से 600 के बीच है। 

नेतृत्व का हक्कानी नेटवर्क के साथ करीबी संपर्क है। फरवरी 2020 में, अल-जवाहिरी ने “जारी सहयोग पर चर्चा के लिए याहया हक्कानी के साथ मुलाकात की थी जो 2009 मध्य से अल-कायदा के साथ हक्कानी नेटवर्क का प्रारंभिक संपर्क है।” 

Covid-19 : पाकिस्तान में संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 73 हजार के पार, 5882 लोगों की मौत