BREAKING NEWS

दस साल तक प्रदर्शन के लिए तैयार हैं, लेकिन कृषि कानूनों को लागू नहीं होने देंगे : राकेश टिकैत◾संयुक्त किसान मोर्चा की सोमवार को भारत बंद के दौरान शांति की अपील, कई राजनीतिक दलों ने दिया समर्थन◾मंत्रिमंडल विस्तार में भाजपा ने विधानसभा चुनाव को लक्ष्य कर जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधा◾दिग्विजय सिंह ने RSS संचालित सरस्वती शिशु मंदिर के खिलाफ दिया विवादित बयान◾PM मोदी ने नए संसद भवन के निर्माण स्थल का किया दौरा ◾RCB vs MI : पटेल की हैट्रिक और मैक्सवेल के शानदार प्रदर्शन से आरसीबी ने मुंबई इंडियंस को 54 से हराया◾अर्थव्यवस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत को ‘एसबीआई जैसे’ 4-5 बैंकों की जरूरत : सीतारमण◾आरएसएस से जुड़ी साप्ताहिक पत्रिका 'पांचजन्य' ने अमेजन को 'ईस्ट इंडिया कंपनी 2.0' बताया◾‘भारत बंद’ से पहले दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस ने गश्त बढ़ायी, अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती की◾गन्ना खरीद मूल्य 350 रुपये किए जाने पर प्रियंका का CM योगी पर तंज, कहा- किसानों के साथ किया धोखा◾पारंपरिक पोशाक पहनने वालों को प्रवेश नहीं देने वाले रेस्तरां के खिलाफ हो कार्रवाई : कांग्रेस◾बिहार : CM नीतीश कुमार बोले- राष्ट्र हित में है जातिगत जनगणना◾UP: योगी कैबिनेट में शामिल हुए 7 नए मंत्री, इन विधायकों ने ली शपथ◾पंजाब : चन्नी कैबिनेट में शामिल हुए 15 नए चेहरे, जाने किसको मिली जगह तो किसका कटा पत्ता ◾योगी सरकार का किसानो के लिए बड़ा फैसला, गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रूपए से बढ़ाकर 350 किया ◾MP में एक व्यक्ति की अजीबोगरीब मांग, कहा- प्रधानमंत्री की मौजूदगी में ही लगवाउंगा वैक्सीन ◾स्वास्थ्य मंत्री ने AIIMS के डॉक्टरों का बड़े पैमाने पर तबादले वाली खबरों का बताया गलत, कही ये बात ◾पंजाब : मंत्रिमंडल विस्तार से पहले कांग्रेस नेताओं ने नवजोत सिंह सिद्धू को लिखा पत्र, जानिए क्या है मामला ◾भारत ने रिकॉर्ड लक्ष्य का पीछा करते हुए आस्ट्रेलिया को 2 विकेट से दी मात, कंगारू टीम के 26 मैचों के अजेय अभियान को रोका◾बिना थके डटे रहे PM मोदी, अमेरिका के 65 घंटे के दौरे पर की 20 बैठकें◾

क्या नहीं हुआ है खूनी युद्ध का समापन, फिलिस्तीन का दावा- संघर्ष विराम को स्थिरता देने में इजरायल ने डाली बाधा

लगभग दो महीने पहले कई दिन के युद्ध के बाद इजराइल और हमास ने अंतत: संघर्षविराम की घोषणा कर दी, लेकिन दोनों देशों के बीच गतिरोध अभी भी जारी है। इस बीच फिलिस्तीन ने इजरायल पर गाजा पट्टी में नाकाबंदी को मजबूत करके मिस्र की मध्यस्थता से युद्धविराम को स्थिर करने के प्रयासों में बाधा डालने का आरोप लगाया है।

इजरायल की अंतहीन नाकेबंदी के कारण भारी कीमत चुका रहे हैं 20 लाख से ज्यादा लोग

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को एक बयान में, फिलीस्तीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि गाजा पट्टी में 20 लाख से ज्यादा लोग "इजरायल की अंतहीन नाकेबंदी के कारण भारी कीमत चुका रहे हैं, जिससे उनकी जिंदगी बर्बाद हो चुकी है।" बयान में कहा गया है, "इजरायल की नाकाबंदी ने फिलिस्तीनी नागरिकों के जीवन को तबाह कर दिया है और इजरायल की देरी और जबरन वसूली के दबाव में प्रदान की जाने वाली बुनियादी सेवाओं के स्तर में गिरावट आई है।"

250 से अधिक फिलिस्तीनियों और 13 इजरायलियों की मौत

2007 में इस्लामिक हमास मूवमेंट द्वारा तटीय एन्क्लेव पर कब्जा करने के ठीक बाद से इजरायल गाजा पट्टी पर कड़ी नाकाबंदी कर रहा है। इजरायल ने हमास के नेतृत्व वाले आतंकवादी समूहों के साथ 11-दिवसीय लड़ाई के दौरान नाकाबंदी को कड़ा कर दिया, जो 21 मई को समाप्त हो गया। इस दौरान 250 से अधिक फिलिस्तीनियों और 13 इजरायलियों की मौत हो गई।

गाजा पट्टी में आपूर्ति लाने पर इजरायल का प्रतिबंध एन्क्लेव में महत्वपूर्ण क्षेत्रों को खतरे में डालता है

बयान में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से अपनी जिम्मेदारियों को निभाने और 'अंतर्राष्ट्रीय और मानवीय कानूनों का पालन करने के लिए इजरायल को बाध्य करने के लिए' सभी आवश्यक उपाय करने का आह्वान किया। 9 जुलाई को कब्जे वाले फिलिस्तीनी क्षेत्र के संयुक्त राष्ट्र मानवीय समन्वयक लिन हेस्टिंग्स ने चेतावनी दी थी कि घिरे गाजा पट्टी में आपूर्ति लाने पर इजरायल का प्रतिबंध एन्क्लेव में महत्वपूर्ण क्षेत्रों को खतरे में डालता है।