BREAKING NEWS

कांग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कश्मीर को लेकर पाक राष्ट्रपति की चिंताओं का समर्थन करने की बात से किया इनकार◾US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के लिए रवाना, कल सुबह 11.40 बजे पहुंचेंगे अहमदाबाद◾Trump - Modi गुजरात में कल करेंगे रोड शो, एक लाख से अधिक लोगों की मौजूदगी में होगा ‘नमस्ते ट्रंप’, शाह ने की समीक्षा◾भारत के सामने गिड़गिड़ाया चीन, कहा- हमें उम्मीद है कि भारत कोरोना वायरस संक्रमण की वस्तुपरक समीक्षा करेगा◾इंडोनेशिया के विश्वविद्यालय में पढ़ाया जाएगा भाजपा का इतिहास ◾राष्ट्रपति ट्रम्प को आगरा के मेयर भेंट करेंगे 1 फुट लंबी चांदी की चाबी ◾ट्रंप को भेंट की जाएगी 90 वर्षीय दर्जी की सिली हुई खादी की कमीज◾‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में हिस्सा लेने से पहले साबरमती आश्रम जाएंगे राष्ट्रपति ट्रम्प ◾तंबाकू सेवन की उम्र बढ़ाने पर विचार कर रही है केंद्र सरकार ◾TOP 20 NEWS 23 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾मौजपुर में CAA को लेकर दो गुटों में झड़प, जमकर हुई पत्थरबाजी, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले◾दिल्ली : सरिता विहार और जसोला में शाहीन बाग प्रदर्शन के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग◾पहले शाहीन बाग, फिर जाफराबाद और अब चांद बाग में CAA के खिलाफ धरने पर बैठे प्रदर्शनकारी ◾ट्रम्प की भारत यात्रा पहले से मोदी ने किया ट्वीट, लिखा- अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत करने के लिए उत्साहित है भारत◾सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसलों ने देश के कानूनी और संवैधानिक ढांचे को किया मजबूत : राष्ट्रपति कोविंद ◾Coronavirus के प्रकोप से चीन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 2400 पार ◾शाहीन बाग प्रदर्शन को लेकर वार्ताकार ने SC में दायर किया हलफनामा, धरने को बताया शांतिपूर्ण◾मन की बात में बोले PM मोदी- देश की बेटियां नकारात्मक बंधनों को तोड़ बढ़ रही हैं आगे◾बिहार में बेरोजगारी हटाओ यात्रा के खिलाफ लगे पोस्टर, लिखा-हाइटैक बस तैयार, अतिपिछड़ा शिकार◾भारत दौरे से पहले दिखा राष्ट्रपति ट्रंप का बाहुबली अवतार, शेयर किया Video◾

फिलीस्तीन ने अमेरिका को नीचा दिखाने की कोशिश की : ट्रम्प

दावोस : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इजरायल के साथ शांति की पहल नहीं करने पर फिलीस्तीन को दी जाने वाली सहायता पर रोक लगाने की आज चेतावनी जारी करते हुए आरोप लगाया कि उसने (फिलीस्तीन ने) हाल में उप राष्ट्रपति माइक पेंस के दौरे के दौरान उनसे मुलाकात नहीं कर अमेरिका को नीचा दिखाने की कोशिश की। श्री ट्रम्प विश्व आर्थिक मंच में इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामीन नेतन्याहू से मुलाकात के बाद बोलते हुए कहा कि वह शांति चाहते हैं। हालांकि, उनकी टिप्पणी ने लंबे समय से रुके हुए इजरायल-फिलिस्तीनी वार्ता को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य को नाकाम कर सकता है। श्री ट्रम्प की ओर से इजरायल की राजधानी के रूप में यरुशलेम को मान्यता देने और अमेरिकी दूतावास को वहां ले जाने की घोषणा के बाद फिलीस्तीनियों ने गत सप्ताह देश में श्री पेंस की यात्रा को नजरअंदाज किया। यरुशलेम का दर्जा इजरायल-फिलिस्तीनी संघर्ष का मुख्य केंद्रबिंदु है।

गत दिसंबर में इजरायल के दावे के अनुरुप यरुशलेम को राजधानी के रूप में मान्यता देने की श्री ट्रम्प के निर्णय की अरब देशों के नेताओं और दुनिया भर में जमकर आलोचना की गयी। इसके साथ ही दशकों पुरानी अमेरिकी नीति भी टूट गयी जिसमें कहा गया था कि शहर का दर्जा इजरायल और फ़रलिस्तीनियों के बीच वार्ता में तय किया जाना चाहिए।

श्री ट्रम्प ने कहा,'उन्होंने गत सप्ताह हमारे महान उप राष्ट्रपति को उनसे मुलाकात की इजाजत नहीं देकर हमें अपमानित किया और हम उन्हें सहायता और समर्थन के तौर पर सैकड़ मिलियन डॉलर दे देते हैं, भारी संख्या में, जो नंबर कोई नहीं समझ सकता। और यदि वे (फिलीस्तीनी) बैठकर शांति से बातचीत नहीं करते तो उनको सहायता राशि भी नहीं दी जाएगी।'

अमेरिका ने कहा कि इस माह फिलीस्तीनी शरणार्थियों को संयुक्त राष्ट्र एजेंसी के जरिये दी जानेवाली 12 करोड़ 50 लाख अमेरिकी डॉलर की सहायता राशि में से छह करोड़ 50 लाख अमेरिकी डॉलर की सहायता रोक देगी। संरा एजेंसी संयुक्त राष्ट्र से जुड़ देशों की स्वैच्छिक सहायता पर शरणार्थियों की आर्थिक मदद करता है तथा इनमें अमेरिका सबसे बड़ योगदानकर्ता है।

फिलीस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास के एक प्रवक्ता नबील अबू रदनैना ने कहा कि अमेरिका ने यरूशलेम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देकर शांति मध्यस्थ के रूप में खुद को 'मेज से दूर' कर लिया है। प्रवक्ता ने फोन पर जॉर्डन से रायटर को बताया,'फिलिस्तीनी अधिकार किसी भी सौदे के लिए नहीं हैं और यरूशलेम बिक्री के लिए नहीं है। अमेरिका की तबतक कोई भूमिका नहीं हो सकती जब तक कि वह यरुशलेम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने के फैसले से पीछे नहीं हटती।' श्री अब्बास ने श्री ट्रम्प के यरुशलेम घोषणा को 'चेहरे पर थप्पड़' बताते हुए इजरायल के साथ भावी बातचीत के लिए अमेरिका को इमानदार मध्यस्थ मानने से इंकार कर दिया है। श्री अब्बास श्री पेंस के दौरे से ठीक पहले विश्व भ्रमण पर निकल गये थे। श्री अब्बास ने कहा है कि वह इत्रराइल के साथ शांति वार्ता के लिए एक व्यापक, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समर्थित पैनल को मध्यस्थ के तौर पर स्वीकार करेंगे।

4X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।