BREAKING NEWS

खुद के विकास में जुटे नेता, एमसीडी चुनाव दोबारा लड़ रहे 75 पार्षदों की संपत्ति में तीन से 4,437% तक की वृद्धि : ADR◾SC ने कहा- सबसे महत्वपूर्ण सवाल, क्या ‘जल्लीकट्टू’ को किसी भी रूप में अनुमति दी जा सकती◾सीएम योगी ने कहा- सैनी ने मुजफ्फरनगर की गरिमा बचाने के लिए खोई विधानसभा सदस्यता◾Congress ने कहा- तीसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर और गिरने का डर, सच्चाई से मुंह नहीं मोड़ें PM◾Delhi Excise Policy: अमित अरोड़ा की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने 7 दिन के लिए ईडी हिरासत में भेजा◾धामी सरकार का कट्टरपंथियों पर प्रहार, विधानसभा में सख्त प्रावधान वाला धर्मांतरण रोधी संशोधन ​विधेयक पारित◾गुजरात पर चुनाव पूर्व सर्वेक्षण से कांग्रेस को तकलीफ, EC से कार्रवाई की मांग की◾GDP growth rate दूसरी तिमाही में घटकर 6.3% रही, विनिर्माण, खनन क्षेत्रों में गिरावट का असर◾Border dispute: महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद के बीच बेलगावी जिले में सुरक्षा सख्त◾Bihar: तेजस्वी यादव ने कहा- 5 दिसंबर को होगा लालू प्रसाद यादव का प्रतिरोपण◾भाजपा ने PM मोदी के खिलाफ ‘आपत्तिजनक शब्दों’ के इस्तेमाल पर कांग्रेस को लिया आड़े हाथ ◾दिल्ली: चांदनी चौक हुई धुंआ-धुंआ! एक दुकान में लगी भीषण आग, दमकल विभाग ने संभाला मोर्चा ◾Gyanvapi Case: श्रृंगार गौरी की पूजा के मामले में अगली सुनवाई पांच दिसंबर को होगी ◾अफगानिस्तान में दर्दनाक वारदात! मदरसे में हुए बम धमाके में 15 की मौत, 27 घायल◾नवाब मलिक की बढ़ी मुश्किलें, विशेष अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जमानत देने से किया इनकार ◾एक्शन में CBI, टीआरएस नेता कमलाकर व रविचंद्र तलब, IPS अधिकारी बनकर पैसे ऐंठने के मामले में होगी पूछताछ ◾Karnataka: कर्नाटक में पुलिस प्रशासन से बड़ी लापरवाही, आरोपी ने चलती जीप से लगाई छलांग, मौके पर हुई मौत◾Gold Rate Today: शादी के सीजन में सोने में गिरावट, प्रति 10 ग्राम पहुंचा इतना भाव, चांदी भी पड़ी फीकी◾गुजरात के रण में वादों की बौछार, भगवंत मान ने कहा- AAP की सरकार बनी तो लोगों को बिजली बिल में मिलेगी राहत ◾china: चीन के पूर्व राष्ट्रपति जियांग जेमिन का हुआ निधन, 96 वर्ष की आयु में ली आखिरी सांस◾

अफगानिस्तान संकट पर पेंटागन का दावा- 14 अगस्त के बाद से अब तक 7,000 लोगों को निकला गया सुरक्षित

अफगानिस्तान संकट पर पेंटागन ने कहा कि 14 अगस्त को शुरू किए गए निकासी अभियान के बाद से अब तक कुल सात हजार लोगों को अफगानिस्तान से निकाला जा चुका है और काबुल में अभी 5,200 से अधिक अमेरिकी सैनिक मौजूद हैं। कुल मिलाकर, अफगानिस्तान से बाहर आने वाले लोगों की संख्या 12,000 के करीब है। तालिबान ने रविवार को अफगानिस्तान पर कब्जा जमा लिया था। 20 साल तक चले युद्ध के बाद देश से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बीच तालिबान को अचानक मिली जीत से काबुल हवाईअड्डे पर अव्यवस्था की स्थिति उत्पन्न हो गई जहां से अमेरिका और संबद्ध देश अपने हजारों नागरिकों और सहयोगियों को सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश में जुटे हुए हैं।

सैन्य अभियान जांच कमान के कमांडिंग जनरल, मेजर जनरल हैंक टेलर ने कहा, “अमेरिका की बची हुई सैन्य टुकड़ियां और काबुल में मैदान पर अब 5,200 से अधिक सैनिक हैं। काबुल हवाईअड्डा उड़ान अभियानों के लिए सुरक्षित एवं खुला हुआ है। अब ऐसे कई द्वार हैं जो हवाई क्षेत्र में प्रवेश देंगे, जो सुरक्षित और व्यवस्थित तरीके से प्रक्रिया में तेजी लाने में मदद करेंगे।” तालिबान संकट के बीच अफगानिस्तान से अमेरिकी नागरिकों को हवाई मार्ग से लाने की जिम्मेदारी संभाल रहे मेजर जनरल टेलर ने कहा कि पिछले 24 घंटों में, 13 सी-17 विमानों ने अतिरिक्त सैनिकों एवं उपकरणों के साथ और 12 सी-17 सैन्य विमानों ने यहां से प्रस्थान किया है।

उन्होंने कहा कि 2,000 से अधिक यात्रियों को लेकर ये विमान काबुल से रवाना हुए और सेंटकॉम अभियान क्षेत्र में निर्दिष्ट सुरक्षित ठिकानों में पहुंचे। टेलर ने पेंटागन में संवाददाता सम्मेलन में कहा, “14 अगस्त को निकासी अभियान शुरू होने के बाद से, हमने लगभग 7,000 लोगों को हवाई मार्ग से सुरक्षित निकाला है। यह वृद्धि विमान और एयरलिफ्ट क्षमता को बढ़ाने, निकासी की तेज प्रक्रिया, और रिपोर्टिंग में अधिक जानकारी और निष्ठा दोनों को दर्शाती है।”

वहीं, हवाईअड्डे पर भ्रम एवं अव्यवस्था के बीच, अमेरिका ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने अफगानिस्तान से निकलने के इच्छुक लोगों को राहत देने का कदम उठाया है जिसमें अब उन्हें कोविड-19 की जांच करानी जरूरी नहीं होगी। अफगानिस्तान भले ही कोरोना वायरस वैश्विक महामारी का बड़ा केंद्र रहा हो लेकिन विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वहां से निकाले जा रहे लोगों को यात्रा के लिए कोविड-19 जांच की नेगेटिव रिपोर्ट देनी जरूरी नहीं होगा। मंत्रालय ने कहा, “अमेरिकी सरकार द्वारा अफगानिस्तान से निकाले जा रहे सभी व्यक्तियों के लिए कोविड जांच के संबंध में एक व्यापक मानवीय छूट लागू की गई है।”