BREAKING NEWS

किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए सरकार ने बनाया रोडमैप : कृषि मंत्री ◾उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड, दिल्ली में भी हुई बारिश ◾भाजपा नेता विनय कटियार को मिली जान से मारने की धमकी◾नागरिकता विधेयक पर बवाल के बीच गुवाहाटी के पुलिस प्रमुख हटाए गए, अन्य अधिकारियों का भी तबादला ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी, कानून बना ◾राज्यों की जीएसटी क्षतिपूर्ति के वादे को पूरा करेगा केन्द्र, समयसीमा नहीं बताई - सीतारमण◾ठाकरे ने गृह शिवसेना, वित्त राकांपा और राजस्व कांग्रेस को दिया ◾फिर बढ़े प्याज के दाम, सरकार ने किए 12660 टन आयात के नए सौदे◾असम के हथकरघा मंत्री के आवास पर हमला, तेजपुर, ढेकियाजुली में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू◾जब लोकसभा में मुलायम सिंह ने पूछा ... ‘‘सत्ता पक्ष कहां है''◾केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक को लोकसभा की मंजूरी, निशंक ने सभी भारतीय भाषाओं को सशक्त बनाने पर दिया जोर ◾भारत और अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ वार्ता 18 दिसम्बर को वाशिंगटन में होगी : विदेश मंत्रालय◾TOP 20 NEWS 12 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सभी पुनर्विचार याचिकाएं◾महाराष्ट्र में BJP की कोर समिति की सदस्य नहीं, बावजूद पार्टी नहीं छोड़ूंगी : पंकजा मुंडे◾झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनते ही किसानों का ऋण किया जाएगा माफ : राहुल गांधी ◾CAB :बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने भारत दौरा किया रद्द ◾झारखंड विधानसभा चुनाव: तीसरे चरण में 17 सीटों पर वोटिंग जारी, दोपहर 1 बजे तक 45.14 प्रतिशत मतदान◾झारखंड : धनबाद में रैली को संबोधित करते हुए बोले PM मोदी-कांग्रेस में सोच और संकल्प की कमी◾असम के लोगों से PM की अपील, कांग्रेस बोली- मोदी जी, वहां इंटरनेट सेवा बंद है◾

विदेश

बांग्लादेश में रोहिंग्या समुदाय के लोगों ने ‘जल्दबाजी में’ देश वापसी की योजना का किया विरोध

 rohingya-community

बांग्लादेश में अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित सैंकड़ों रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों ने गुरूवार को ‘जल्दबाजी में’ म्यांमार वापसी की योजना के खिलाफ प्रदर्शन किया, वहीं ढाका ने कहा कि वह योजना को लागू करने के लिए पूरी तरह तैयार है जिसका संयुक्त् राष्ट्र और सहायता एजेंसियों ने विरोध किया है।

पिछले साल अगस्त से सात लाख से अधिक रोहिंग्या शरणार्थी म्यांमार का रखाइन प्रांत छोड़ चुके हैं। इससे पहले उनके खिलाफ कू्रतापूर्ण सैन्य कार्रवाई की गयी थी। संयुक्त राष्ट्र ने इसे जातीय सफाये का उदाहरण बताया था, वहीं अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने इसे नरसंहार की संज्ञा दी। इसे लेकर दुनियाभर में नाराजगी देखने को मिली।

अधिकारियों ने कहा कि कॉक्स बाजार के उनचिपरांग शिविर में गुरूवार सुबह से चार ट्रक और तीन बसें खड़ी हैं जो उन शरणार्थियों को ले जाने को तैयार हैं लेकिन एक भी उन पर सवार होने को तैयार नहीं है।

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांत, समृद्धि के लिये प्रतिबद्ध है भारत : PM मोदी

कई हजार रोहिंग्या लोगों ने म्यांमार वापस जाने से इनकार करते हुए प्रदर्शन किया। बांग्लादेश ने 2000 रोहिंग्या मुसलमानों के पहले जत्थे को म्यामां वापस भेजने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। यह सब म्यामां के साथ अक्टूबर में तय हुई योजना की तर्ज पर किया जा रहा है।

मौके पर मौजूद राहत आयुक्त कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘बसें तैयार हैं और हमने वापस जाने वालों के लिए तीन दिन का राशन भी तैयार कर रखा है, लेकिन पहले बैच में कोई बस पर सवार नहीं हुआ है।’’

एक रोहिंग्या प्रदर्शनकारी ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में कहा, ‘‘हम अपनी सुरक्षा और सम्मान चाहते हैं। हमें उन पर (म्यांमार के अधिकारियों पर) भरोसा नहीं है।’’

बांग्लादेश के शरणार्थी आयुक्त मोहम्मद अबुल कलाम ने पहले कहा था कि जिन 50 परिवारों से बातचीत की गयी है, उनमें से कोई भी मौजूदा परिस्थितियों में वापस जाने को तैयार नहीं है। हम उनकी इच्छा के विरुद्ध वापस जाने के लिए मजबूर नहीं कर सकते।

कलाम ने कहा, ‘‘हम इंतजार कर रहे हैं, अगर शाम चार बजे तक कोई वापसी के लिए तैयार हो गया तो हम वापसी शुरू करेंगे।’’