BREAKING NEWS

दुनियाभर में कोरोना मामलों का आंकड़ा 19.77 करोड़ के पार, US सबसे अधिक प्रभावित देश◾दिल्ली-एनसीआर में सुबह से बारिश का सिलसिला जारी, कई जगह हुआ जलजमाव ◾पीडीपी पार्टी नहीं बल्कि एक आंदोलन, भाजपा इसे तोड़ नहीं सकती : महबूबा मुफ़्ती◾सैन्य वार्ता : भारत का हॉटस्प्रिंग्स, गोगरा एवं अन्य बिन्दुओं से सैनिकों की जल्द वापसी पर जोर◾PM मोदी सोमवार को डिजिटल भुगतान के लिए 'ई-रुपी' की करेंगे शुरुआत ◾राजस्थान में भारी बारिश के बाद रेल की पटरी बही, उत्तर और मध्य भारत में तेज बारिश की संभावना◾महाराष्ट्र के पुणे जिले में जीका वायरस का पहला मामला आया सामने ◾मानसून सत्र के पहले दो सप्ताहों में राज्यसभा के 40 घंटे हंगामे की भेंट चढ़े◾राजस्थान : गहलोत मंत्रिमंडल में संभावित फेरबदल से पहले अजय माकन बोले- कई मंत्री पद छोड़ने के इच्छुक◾शिवराज के मंत्री ने बढ़ती महंगाई के लिए नेहरू पर फोड़ा ठीकरा, कहा-1947 के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली◾संसद में पेगासस व किसानों के मुद्दे पर चर्चा करवाने के लिए विपक्षी दलों ने किया राष्ट्रपति से दखल देने का आग्रह◾मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान, बोले- समाज सेवा के लिए आया था◾राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह बने जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए नीतीश के करीबी का राजनीतिक संघर्ष◾UP बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट जारी, 10वीं में 99.53% और 12वीं में 97.88% स्टूडेंट्स पास ◾टोक्यो ओलंपिक 2020 : पीवी सिंधु फाइनल की रेस से हुई बाहर, मेडल की उम्मीद अब भी बरकरार◾मिजोरम पुलिस की FIR पर CM सरमा का ट्वीट, 'किसी भी जांच में शामिल होने पर होगी खुशी'◾ओलंपिक मुक्केबाजी : क्वार्टर फाइनल में हारीं पूजा रानी, पहले ही मुकाबले में हारकर बाहर हुए अमित पंघाल ◾चुनावों से पहले BJP खेल रही आरक्षण का कार्ड, जानिए UP समेत किन 5 राज्यों में गूंजेगा OBC रिजर्वेशन का मुद्दा ◾आतंकी सरगना मसूद अजहर का भतीजा 'लंबू' मुठभेड़ में ढेर, पुलवामा हमले की साजिश में था शामिल ◾असम और मिजोरम के बीच हुई हिंसा पर बोले राहुल- देश में दंगों को बीज की तरह बोया जा रहा है◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

परवेज मुशर्रफ ने मौत की सजा वाले फैसले को उच्चतम न्यायालय में दी चुनौती

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने एक विशेष न्यायाधिकरण के उस फैसले को गुरुवार को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी जिसमें उन्हें राजद्रोह का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनायी गयी है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है। 

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के नेतृत्व वाली सरकार ने पूर्व सेना प्रमुख के खिलाफ 2013 में राजद्रोह का मामला दायर किया था। इन दिनों दुबई में रह रहे स्व-निर्वासित मुशर्रफ पर आरोप है कि उन्होंने नवंबर 2007 में संविधान को स्थगित करते हुए आपातकाल लगाया था। इस वजह से ऊंची अदालतों के कई न्यायाधीशों को उनके घरों में बंद कर दिया और और 100 से अधिक न्यायाधीशों को बर्खास्त कर दिया गया था। 

इस्लामाबाद की विशेष अदालत ने पिछले साल 17 दिसंबर को 74 वर्षीय सेवानिवृत्त जनरल को राजद्रोह के मामले में मौत की सजा सुनाई थी। हालांकि, सोमवार को राजद्रोह मामले में मुशर्रफ के मुकदमे को असंवैधानिक घोषित कर दिया गया था जिससे पूर्व सेना प्रमुख को मौत की सजा सुनायी गयी थी। डॉन समाचार पत्र के अनुसार 90 पृष्ठों की अपील में मुशर्रफ ने विशेष अदालत के आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया है। 

अपील में अदालत से अन्य उचित राहत प्रदान किए जाने का अनुरोध किया गया है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार याचिका में कहा गया है कि विशेष अदालत में पूर्व राष्ट्रपति की अनुपस्थिति जानबूझकर नहीं थी और वह बीमारी के कारण अदालत में पेश नहीं हो पाए थे। इसमें कहा गया है कि विशेष अदालत ने मुशर्रफ की बीमारी को स्वीकार कर लिया था, लेकिन पूर्व राष्ट्रपति को उनकी अनुपस्थिति में ही दोषी ठहरा दिया।