BREAKING NEWS

नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾SC ने गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की दी अनुमति, कोई राजनीतिक रैली न करने का दिया आदेश◾हिंद महासागर में दिखा चीनी युद्धपोत जियान-32, अलर्ट पर भारतीय नौसेना◾कश्मीर में स्थिति सामान्य करने के लिए हरसंभव प्रयास करें केंद्र : सुप्रीम कोर्ट◾SC ने फारूक अब्दुल्ला को पेश करने संबंधी याचिका पर केंद्र को जारी किया नोटिस ◾जन्मदिन पर चिदंबरम को बेटे कार्ति का पत्र, लिखा-कोई 56 इंच वाला आपको रोक नहीं सकता◾Howdy Modi कार्यक्रम में शामिल होने के ट्रंप के फैसले की PM ने की प्रशंसा, ट्वीट कर कही यह बात◾अयोध्या विवाद में सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्वाणी अखाड़े ने सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थता पैनल को लिखा पत्र◾पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम तिहाड़ जेल में मनाएंगे अपना 74वां जन्मदिन◾‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में शामिल होंगे ट्रम्प, भारतीय-अमेरिकी लोगों को एक साथ करेंगे संबोधित◾पुंछ: पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, तीन जवान घायल◾अखिलेश यादव बोले- तानाशाही से सरकार चलाकर अपना लोकतंत्र चला रही है भाजपा◾शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾

विदेश

सूडान में सेना के खिलाफ नागरिक अवज्ञा आंदोलन पर पुलिस की कार्रवाई, चार लोग मारे गए

खार्तूम : सूडान में सेना के खिलाफ नागरिक अवज्ञा आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों पर रविवार को पुलिस की कार्रवाई में चार लोग मारे गए।

असैन्य शासन के लिए खार्तूम में सेना मुख्यालय के बाहर धरने पर बैठे प्रदर्शनकारियों पर की गई खूनी कार्रवाई के करीब हफ्ते भर बाद सेना के खिलाफ यह आंदोलन चलाया जा रहा है। 

गौरतलब है कि इस घटना से पहले प्रदर्शनकारियों के नेता और सैन्य शासकों के बीच इस सिलसिले में चली कई दौर की वार्ता टूट गई थी कि देश में किसे शासन करना चाहिए- असैन्य नेतृत्व को, या सेना को। 

सूडानी डॉक्टरों की केंद्रीय कमेटी ने प्रदर्शन के दौरान रविवार को हुई चार मौतों के लिए सत्तारूढ़ सैन्य परिषद और अर्द्धसैनिक मिलिशिया को जिम्मेदार ठहराया है। 

कमेटी के मुताबिक धरने को तितर-बितर करने के लिए तीन जून से की जा रही कार्रवाई में मारे जाने वाले प्रदर्शनकारियों की संख्या बढ़ कर 118 पहुंच गई है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक बीते सोमवार को हुई कार्रवाई में देश भर में 61 लोग मारे गए।