BREAKING NEWS

RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾पुतिन ने यूक्रेन के इलाकों को रूस का हिस्सा किया घोषित , कीव और पश्चिमी देशों ने किया खारिज , EU ने कहा -कभी मान्यता नहीं देंगे ◾आखिर ! क्या होगा सोनिया का फैसला ?, अब सब की निगाहें राजस्थान पर◾PM मोदी ने अंबाजी मंदिर में प्रार्थना की, गब्बर तीर्थ में ‘महा आरती’ में हुए शामिल◾Maharashtra: महाराष्ट्र में कोविड-19 के 459 नए मामले, 5 मरीजों की मौत◾शाह के दौरे से पहले कश्मीर को दहलाना चाहते थे आतंकी, सुरक्षाबलों ने बरामद किया जखीरा ◾भाजपा ने थरूर को घोषणापत्र में भारत का विकृत नक्शा दिखाने पर लिया आड़े हाथ, जानें क्या कहा ... ◾कार्यकर्ताओं से थरूर का वादा - बंद करूंगा एक लाइन की पंरपरा, क्षत्रपों को दूंगा बढ़ावा ◾कांग्रेस का अध्यक्ष मैं हूं? थरूर बोले- पार्टी को लेकर मेरा अपना दृष्टिकोण.... मैं हूं शशि पीछे नहीं हटूंगा ◾KCR द्वारा राष्ट्रीय पार्टी की औपचारिक घोषणा के बाद विमान खरीदेगा टीआरएस ◾अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾ अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबूल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾पंजाब : कांग्रेस ने भगवंत मान पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, पूछा- क्या हुआ उन उपदेशों का ?◾CDS जनरल चौहान ने कार्यभार संभालने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की मुलाकात ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में नामांकन कर सबको चौंकाने वाले केएन त्रिपाठी कौन ? चुनाव को लेकर कितने गंभीर ◾इलाहाबाद HC ने मुख्यमंत्री योगी द्वारा दिए गए राजस्थान में आपत्तिजनक भाषण पर दायर याचिका को खारिज किया ◾

यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव, तुर्की के राष्ट्रपति के साथ बैठक की

यूक्रेन में करीब छह महीने जारी युद्ध के बीच अनाज की आपूर्ति को बढ़ाने और यूरोप के सबसे बड़े परमाणु संयंत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के महासचिव और तुर्की के राष्ट्रपति ने बृहस्पतिवार को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से मुलाकात की।

युद्ध के मोर्चे से दूर, पोलैंड की सीमा के नजदीक यूक्रेन के पश्चिमी शहर में यह बैठक हुई। युद्ध की शुरुआत के बाद से तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोआन का पहला और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस का यूक्रेन का यह दूसरा दौरा है।

अर्दोआन ने लगातार युद्ध को रूकवाने की कोशिशें की हैं। तुर्की उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) का सदस्य है जिसने युद्ध में यूक्रेन का साथ दिया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति की वेबसाइट के मुताबिक बैठक में तुर्की सड़कों और पुलों सहित यूक्रेन के बुनियादी ढांचे के पुनर्निर्माण में मदद करने के लिए सहमत हो गया। जेलेंस्की ने गुतारेस से जबरन रूस भेजे गए यूक्रेन के नागरिकों तक संयुक्त राष्ट्र की पहुंच मुहैया कराने का अनुरोध किया। जेलेंस्की ने बंदी बनाए गए यूक्रेन के सैनिकों और चिकित्साकर्मियों को मुक्त कराने में संयुक्त राष्ट्र से मदद के लिए भी कहा।

उधर युद्ध के मैदान में, यूक्रेन के खारकीव क्षेत्र में बुधवार रात और बृहस्पतिवार सुबह के बीच रूसी मिसाइल हमले में कम से कम 11 लोग मारे गए और 40 लोग घायल हो गए। यूक्रेन के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

वहीं, रूस की सेना ने दावा किया कि उसने खारकीव में भाड़े के विदेशी लड़ाकों के अड्डे को निशाना बनाया जिसमें 90 लोग मारे गए। यूक्रेन की तरफ से इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं की गई है।

रूस की सेना ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने देश के कालिनिनग्राद क्षेत्र में अत्याधुनिक हाइपरसोनिक मिसाइलों से लैस युद्धक विमान तैनात कर दिए हैं।

जेलेंस्की, अर्दोआन और गुतारेस की बैठक में दक्षिणी यूक्रेन में रूस नियंत्रित जापोरिज्जिया परमाणु संयंत्र को लेकर भी बातचीत हुई। रूस और यूक्रेन ने एक दूसरे पर परमाणु संयंत्र परिसर के आसपास गोलाबारी के आरोप लगाए हैं और संघर्ष से परमाणु आपदा का खतरा बढ़ गया है।

जेलेंस्की ने बुधवार को वीडियो संबोधन में रूसी सैनिकों से संयंत्र छोड़ने की मांग करते हुए कहा कि ‘‘केवल पूर्ण पारदर्शिता और स्थिति पर नियंत्रण’’ से ही संयुक्त राष्ट्र की अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) परमाणु सुरक्षा की गारंटी दे सकती है।

इस महीने की शुरुआत में अर्दोआन ने युद्ध को लेकर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बातचीत की थी। तुर्की और संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता से काला सागर बंदरगाह के जरिए यूक्रेन से 2.2 करोड़ टन अनाज की आपूर्ति का मार्ग प्रशस्त हुआ।