BREAKING NEWS

पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾यूपी : सपा और रालोद प्रमुख की आज मेरठ में संयुक्त रैली, सीट बटवारें को लेकर कर सकते है घोषणा ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज, प्रदूषण को कम करने के लिए किया जा रहा है पानी का छिड़काव ◾विश्व में वैक्सीनेशन के बावजूद बढ़ रहे है कोरोना के आंकड़े, मरीजों की संख्या हुई इतनी ◾सदस्यीय समिति को अभी तक सरकार से नहीं हुई कोई सूचना प्राप्त,आगे की रणनीति के लिए आज किसान करेंगे बैठक ◾ पीएम मोदी आज गोरखपुर को 9600 करोड़ रूपये की देंगे सौगात, खाद कारखाना और AIIMS का करेंगे लोकार्पण◾

दुनियाभर में कोरोना का कहर बरकरार: शोध में खुलासा- ग्रे मैटर लॉस पोस्ट है मस्तिष्क के लिए नुकसानदायक

कोरोना वायरस के दुष्प्रभावों के कारण शरीर को कई तरह की बीमारियां जकड़ रही हैं। जिस तरह कोरोना का वायरस अपना रूप बदल रहा है ठीक उसी तरह इससे जुड़ी कई बीमारियां भी दुनिया के सामने आ रही है। इसी कड़ी में पता चला है की कोविड-19 से संक्रमित लोगों के मस्तिष्क स्कैन का विश्लेषण समय के साथ ग्रे पदार्थ के नुकसान में एक सुसंगत पैटर्न का सुझाव देता है। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से संबद्ध शोधकर्ताओं ने यूके बायोबैंक के डेटा पर आरेखण करते हुए, मेडरेक्सिव को सहकर्मी समीक्षा से पहले निष्कर्ष पोस्ट किए। 

लेखकों ने लिखा, हमारे निष्कर्ष इस प्रकार लगातार प्राथमिक घर्षण और स्वाद प्रणाली से जुड़े लिम्बिक कॉर्टिकल क्षेत्रों में भूरे रंग के पदार्थ के नुकसान से संबंधित हैं या मस्तिष्क में गंध और स्वाद की धारणा से संबंधित क्षेत्र हैं। फॉक्स न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, टीम ने 394 कोविड-19 रोगियों और 388 मिलान नियंत्रणों के बीच लगभग तीन साल बाद लिए गए ब्रेन स्कैन की तुलना प्री-महामारी से की। आगे के विश्लेषण में अस्पताल में भर्ती नहीं होने वाले 379 लोगों की तुलना में 15 अस्पताल में भर्ती मरीज शामिल थे। 

शोधकतार्ओं ने कहा कि महामारी से पहले किए गए स्कैन के शुरूआती सेट निष्कर्षों को मजबूत करते हैं, क्योंकि वे मरीजों की पहले से मौजूद स्वास्थ्य स्थितियों से कोविड-19 रोग के प्रभावों को अलग करने में मदद करते हैं। टीम ने कहा कि कोविड-19 रोगियों के बीच ग्रे पदार्थ की मोटाई और मात्रा में 'महत्वपूर्ण नुकसान' का खुलासा करने वाले तीन क्षेत्र 'पैराहिपोकैम्पल गाइरस, लेटरल ऑर्बिटोफ्रंटल कॉर्टेक्स और बेहतर इंसुला' थे, बाद में उन्होंने कहा कि कोविड-19 के सबसे मजबूत हानिकारक प्रभाव मुख्य रूप से बाएं गोलार्ध में देखा जा सकता है। 

अस्पताल में भर्ती मरीजों की तुलना के परिणाम 'महत्वपूर्ण नहीं थे' लेकिन लेखकों ने कोविड-19 रोगियों के बड़े समूह के लिए 'तुलनात्मक रूप से समान' निष्कर्षों का उल्लेख किया, इसके अलावा, सिंगुलेट कॉर्टेक्स में ग्रे पदार्थ का एक बड़ा नुकसान, केंद्रीय एमिग्डाला और हिप्पोकैम्पस कॉर्नू अमोनिया का केंद्रक है। अध्ययन डिजाइन के कारण टीम ने एक कारण संबंध को कम करना बंद कर दिया, फिर भी परिणामों में विश्वास व्यक्त किया। 

टीम ने कहा, स्वचालित, उद्देश्य और मात्रात्मक तरीकों का उपयोग करके, हम एक घर्षण और स्वाद नेटवर्क बनाने वाले लिम्बिक मस्तिष्क क्षेत्रों में भूरे पदार्थ के नुकसान के लगातार स्थानिक पैटर्न को उजागर करने में सक्षम थे। उन्होंने जोड़ा क्या ये असामान्य परिवर्तन मस्तिष्क में बीमारी (या स्वयं वायरस) के प्रसार की पहचान हैं, जो इन रोगियों के लिए स्मृति सहित लिम्बिक सिस्टम की भविष्य की भेद्यता को पूर्वनिर्धारित कर सकते हैं, इसकी जांच की जानी बाकी है।