BREAKING NEWS

PM मोदी प्रयागराज में 26,526 दिव्यांगों, बुजुर्गों को बांटेंगे उपकरण◾ओडिशा : 28 फरवरी को अमित शाह करेंगे CAA के समर्थन में रैली को संबोधित◾SP आजम खान के बेटे अब्दुल्ला की विधानसभा सदस्यता खत्म◾AAP पार्टी ने पार्षद ताहिर हुसैन को किया सस्पेंड, दिल्ली हिंसा में मृतक संख्या 38 पहुंची◾दिल्ली हिंसा : अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कई सनसनीखेज खुलासे, चाकू मारकर की गई थी हत्या◾दिल्ली हिंसा सोनिया समेत विपक्षी नेताओं के भड़काने का नतीजा : BJP ◾रॉ के पूर्व चीफ एएस दुलत ने फारूक अब्दुल्ला से की मुलाकात◾दिल्ली हिंसा : AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर को किया गया सील, SIT करेगी हिंसा की जांच◾दिल्ली HC में अरविंद केजरीवाल, सिसोदिया के निर्वाचन को दी गई चुनौती◾दिल्ली हिंसा की निष्पक्ष जांच हो, दोषियों को मिले कड़ी से कड़ी सजा -पासवान◾CAA पर पीछे हटने का सवाल नहीं : रविशंकर प्रसाद◾बंगाल नगर निकाय चुनाव 2020 : राज्य निर्वाचन आयुक्त मिले पश्चिम बंगाल के गवर्नर से◾दिल्ली हिंसा : आप पार्षद ताहिर हुसैन के घर से मिले पेट्रोल बम और एसिड, हिंसा भड़काने की थी पूरी तैयारी ◾TOP 20 NEWS 27 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने लगाई जीत की हैट्रिक, शान से पहुंची सेमीफाइनल में ◾पार्षद ताहिर हुसैन पर लगे आरोपों पर बोले केजरीवाल : आप का कोई कार्यकर्ता दोषी है तो दुगनी सजा दो ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार को 10-10 लाख का मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार◾दिल्ली में हुई हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस और आम आदमी पार्टी : प्रकाश जावड़ेकर ◾दिल्ली हिंसा : केंद्र ने कोर्ट से कहा-सामान्य स्थिति होने तक न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं ◾ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान : गौतम गंभीर ◾

रोहिंग्या संकट से अस्थिर हो सकता है क्षेत्र: बांग्लादेशी विदेश सचिव

बांग्लादेश ने आज कहा कि रोहिंग्या संकट अभी एक मानवीय मुद्दा है, लेकिन इसमें क्षेत्र को अस्थिर बनाने की क्षमता है। विदेश सचिव एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से कल मुलाकात कर चुके बांग्लादेश के विदेश सचिव शाहिदुल हक ने कहा कि म्यांमार से रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों का लगातार आगमन प्रमुखता से चर्चा में रहा और उन्होंने इस मुद्दे के सभी पहलुओं की चर्चा की। हक ने म्यांमार के रखाइन प्रांत में हिंसा को नस्ली सफाया करार देते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को अवगत करा दिया गया है कि म्यांमार किस तरह रोहिंग्या अल्पसंख्यकों के अधिकार छीन रहा है।

उन्होंने यहां बांग्लादेश उच्चायोग में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, यह सिर्फ लोगों का आवागमन नहीं है बल्कि एक सुरक्षा मुद्दा भी है, जिसमें न सिर्फ म्यांमार और बांग्लादेश के इलाकों, बल्कि क्षेत्र को भी अस्थिर करने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश की समझ साफ है कि यह समस्या म्यांमार की पैदा की हुई है और उसका हल वहीं है। बांग्लादेश चाहता है कि शरणार्थी यथासंभव जल्द से जल्द वापस जाएं। म्यांमार ने बांग्लादेश से पांच लाख से ज्यादा रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों को वापस लेने का हाल में प्रस्ताव किया था और दोनों देश उनकी वापसी के समन्वय के लिए एक कार्यसमूह का गठन करने पर सहमत हुए हैं।

बांग्लादेशी विदश सचिव ने बताया कि बांग्लादेश ने हल सुझाते हुए म्यांमार को एक लिखित प्रस्ताव दिया था जिसके बाद दोनों देशों ने एक कार्यसमूह का गठन किया। हक ने कहा, लोगों को किसी प्रक्रिया के माध्यम से उनके अपने देश भेजना एक सामान्य तरीका है। हमने प्रस्ताव दिया कि चूंकि संख्या ज्यादा है, हमें इस प्रक्रिया में अंतरराष्ट्रीय निकायों को भी शामिल करना चाहिए हक से जब भारत के इस रुख के बारे में पूछा गया कि रोहिंग्या शरणार्थी सुरक्षा के लिए खतरा हैं तो उन्होंने कहा कि जहां भी बड़े पैमाने पर लोगों का विस्थापन होता है, वहां उग्रवाद की तरफ रुझान होने की आशंका होती है, लेकिन अब तक बांग्लादेश हालात को काबू में रखने में सक्षम रहा है।

बांग्लादेशी विदेश सचिव ने कहा, ऐसा नहीं है कि हमेशा यह (सुरक्षा के लिए खतरा) होता है, यह इस पर निर्भर करता है कि आप कैसे इससे निबटते हैं। अभी तक बांग्लादेश इसपर अंकुश लगाने में कामयाब रहा है। इसने सुरक्षा के दायरे में प्रवेश नहीं किया है। हक ने कहा, लोग निष्पक्ष बने हैं। वे सभी वापस जाने की बाट जोह रहे हैं। यह राष्ट्र की जिम्मेदारी है कि वह ऐसा (चरमपंथ की तरफ रुझान) होने की गुंजाइश नहीं दे। उन्होंने कहा कि इस तरह के मुद्दों को चरमपंथ के चश्मे से देखने का रऊझान है, लेकिन यह इस यथार्थ को धुंधला कर देता है कि यह सबसे पहले एक मानवीय मुद्दा है और इससे महिलाएं और बच्चे जुड़े हैं जिन्हें सहायता की जरूरत है।

उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों में शिविरों में रह रहे 40 हजार रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस उनके देश भेजने के भारत के प्रस्ताव पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। हक ने कहा, लेकिन मुझे यकीन है कि आखिर में मानवीय मुद्दों पर भी उचित ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने कहा, भारत 1971 जैसे या बाद में मुश्किल हालात में बांग्लादेश के साथ रहा है। वह हमारा निकटतम साझेदार है। हम सहमत हैं कि यह बांग्लादेश पर एक विशाल बोझ है और इसमें क्षेत्र को अस्थिर करने की क्षमता है। मैं समझता हूं कि हम एक ही जुबान में बात कर रहे हैं।

म्यांमार के हिंसाग्रस्त इलाके में हिंदुओं की सामूहिक कब्रें मिलने की रिपोर्टों पर हक ने कहा कि जो नस्ली सफाया कर रहे हैं वे धर्म के मामले में फर्क नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा, यह नस्ली सफाए का एक हिस्सा है। एक बार जब नस्ली सफाया होता है तो मुझे नहीं लगता कि ऐसा करने वाले मुसलमानों और हिंदुओं के बीच फर्क करते हैं। मुझे बताया गया है कि वे एक मुक्त क्षेत्र स्थापित करने के लिए समूचे इलाके को खाली कराना चाहते हैं। यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अपने सभी नागरिकों की रक्षा करे।