BREAKING NEWS

भारत के रिकॉर्ड टीकाकरण का अमेरिका ने भी माना लोहा, कहा- महामारी को हराने में दुनिया की होगी मदद ◾दुनिया ने भारत पर किया शक लेकिन देश ने सबसे पहले 100 करोड़ वैक्सीन लगाकर दिया जवाब : PM मोदी ◾सिंघु बॉर्डर पर फ्री में चिकन नहीं देने पर तोड़ी युवक की टांग, पुलिस ने निहंग नवीन को किया गिरफ्तार◾कल से तीन दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे पर होंगे अमित शाह, टारगेट किलिंग पर करेंगे हाईलेवल मीटिंग ◾बांग्लादेश : कॉक्स बाजार से गिरफ्तार हुआ हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा भड़काने वाला आरोपी◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में 15786 नए मामलों की पुष्टि, 231 लोगों ने गंवाई जान ◾हॉलीवुड स्टार एलेक बाल्डविन ने गलती से सेट पर चला दी गोली, महिला कैमरामैन की मौत, एक घायल◾महामारी पर पीएम मोदी का लेख: ‘‘चिंता से आश्वासन’’ की ओर यात्रा है कोरोना टीकाकरण अभियान◾मायावती का तंज- समझना होगा कि जनता से छल व वादाखिलाफी के कारण कांग्रेस के आए बुरे दिन◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 25 करोड़ के करीब◾सुबह 10 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे PM मोदी, क्या रिकॉर्ड वैक्सीनेशन पर करेंगे चर्चा ◾इतिहास रचा, भारत में अब कोविड से लड़ने का मजबूत सुरक्षा कवच है : PM मोदी◾स्मृति ईरानी एवं हेमा मालिनी पर टिप्पणी कों लेकर EC से कांग्रेस की शिकायत◾उप्र विधानसभा चुनाव जीतने के लिए नफरत फैला रही है भाजपा, हो सकता है भारत का विघटन : फारूक अब्दुल्ला◾एनसीबी के सामने पेश हुईं अभिनेत्री अनन्या पांडे, कल सुबह 11 बजे फिर होगा सवालों से सामना ◾सिद्धू का अमरिंदर सिंह पर पलटवार - कैप्टन ने ही तैयार किये है केन्द्र के तीन काले कृषि कानून◾हिमाचल के छितकुल में 13 ट्रैकरों की हुई मौत, अन्य छह लापता◾कांग्रेस का PM से सवाल- जश्न से जख्म नहीं भरेंगे, ये बताएं 70 दिनों में 106 करोड़ टीके कैसे लगेंगे ◾केरल - वरिष्ठ माकपा नेता पर बेटी ने ही लगाया बच्चा छीनने का आरोप, मामला दर्ज ◾‘विस्तारवादी’ पड़ोसी को सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब, संप्रभुता से कभी समझौता नहीं करेगा भारत : नित्यानंद राय ◾

रूस ने सैन फ्रांसिस्को में वाणिज्यदूतावास और न्यूयार्क, वाशिंगटन में कार्यालय बंद किए

वाशिंगटन : रूस ने सैन फ्रांसिस्को में अपने वाणिज्य दूतावास और न्यूयार्क एवं वाशिंगटन डीसी स्थित दो कार्यालयों को बंद कर दिया है। अमेरिका ने अपने अधिकारियों द्वारा तीनों इमारतों की जांच किए जाने के बाद इस बात की पुष्टि कर दी है। रूस के इस कदम से कुछ ही दिन पहले ट्रंप प्रशासन ने मास्को से उसके तीन राजनयिक परिसर बंद करने के लिए कहा था। अमेरिका का यह निर्देश दरअसल मास्को के पिछले माह के उस फैसले की प्रतिक्रिया है, जिसमें उसने रूस में अमेरिकी राजनयिक कर्मचारियों की संख्या को कुछ सौ तक सीमित करने की बात कही थी।

विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, \"विदेश मंत्रालय इस बात की पुष्टि कर सकता है कि रूसी सरकार ने अपना वाणिज्यदूतावास और दो कार्यालय खाली करने के आदेश का पालन किया है। रूस को अब इन केंद्रों का इस्तेमाल राजनयिक और वाणिज्य दूतावास संबंधी कार्यों के लिए करने की इजाजत नहीं होगी।\"

विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, रूसी दूतावास के कर्मचारी विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के साथ ही इन तीनों इमारतों से बाहर आए। ये तीनों इमारतें सैन फ्रांसिस्को, वाशिंगटन डीसी और न्यूयार्क में स्थित हैं। अधिकारी ने कहा, \"ये जांचें इन केंद्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए और यह रूसी सरकार द्वारा परिसर खाली कर दिए जाने की पुष्टि के लिए की गई थीं।अमेरिका विएना संधि, अमेरिकी नियम और द्विपक्षीय समझौतों का पूरी तरह पालन कर रहा है। \"

उन्होंने मौजूदा आवासीय इस्तेमालों को खत्म करने के लिए अलग इंतजाम किए हैं। इससे परिवारों को अपना सामान पैक करके निकलने के लिए पर्याप्त समय मिल जाएगा। अधिकारी ने कहा, \"इन इमारतों में प्रवेश विदेश मंत्रालय की अनुमति से ही मिलेगा। मंत्रालय ही इस इमारत की सुरक्षा एवं रख रखाव का काम देखेगा। इन इमारतों को खाली कराया जा रहा है लेकिन किसी रूसी राजनयिक को अमेरिका से निकाला नहीं जा रहा।\"

अधिकारी ने कहा, \"रूसी सरकार द्वारा लगाए गए ये आरोप गलत हैं कि अमेरिकी अधिकारियों ने इन इमारतों के द्वारों को तोडऩे की धमकी दी और एफबीआई परिसरों को खाली करवा रहा है।\"