BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 27 मई 2022)◾त्यागराज स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी संजीव खिरवार का लद्दाख ट्रांसफर, पत्नी का अरुणाचल तबादला◾PM मोदी के नेतृत्व और सशस्त्र बलों के योगदान ने भारत के प्रति दुनिया के नजरिये को बदला : राजनाथ◾PM मोदी ने तमिल भाषा का किया जिक्र , स्टालिन ने ‘सच्चे संघवाद’ को लेकर साधा निशाना◾भारत, यूएई ने जलवायु कार्रवाई के लिए समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर ◾J&K : कश्मीर में टीवी कलाकार की हत्या में शमिल दो आतंकवादी सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में घिरे◾J&K : कुपवाड़ा में सेना ने घुसपैठ का प्रयास किया विफल , तीन आतंकवादी मारे गए, पोर्टर की भी मौत◾PM मोदी ने ‘परिवारवाद’ के कटाक्ष से राव को घेरा, तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने ‘भाषणबाजी’ का लगाया आरोप◾टीएमसी का दावा, दिलीप घोष को बंगाल से बाहर किया जा रहा है, भाजपा का पलटवार◾ मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाया, आसमान छू रही महंगाई पर जताई चिंता◾ Tamil Nadu: चेन्नई पहुंचे PM मोदी ,हुआ जोरदार स्वागत, रोड शो में उमड़ी हजारों की भीड़◾तेलंगाना के CM चंद्रशेखर राव ने एच डी देवेगौड़ा से की मुलाकात, जानें- किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾J&K News: सुंजवां हमले में शामिल एक आतंकवादी को NIA ने किया गिरफ्तार, जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे तार◾Monkeypox Virus: कनाडा में मंकीपॉक्स ने दी दस्तक! यहां देखें- कितने मामले सामने आए◾यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाने के बाद फेंके थे पत्थर, लेकिन अब पुलिस के सामने पकड़े कान◾सुप्रीम कोर्ट ने वेश्यावृत्ति को माना प्रोफेशन, पुलिस को दी हिदायत... जारी हुए सख्त निर्देश, जानें क्या कहा ◾ गवर्नर की जगह अब CM होंगी स्टेट यूनिवर्सिटी की चांसलर, ममता बनर्जी कैबिनेट की बैठक में हुआ फैसला◾नवजोत सिंह सिद्धू का पटियाला जेल में बज गया बैंड, मिला क्लर्क का काम, जानें कितना होगा वेतन ◾ Gyanvapi Masjid: यहां जानें 2 घंटे चली वाराणसी जिला कोर्ट की बहस में क्या हुआ, अब सोमवार तक टली सुनवाई◾पाकिस्तान को 'मॉडर्न देश' बनाना चाहते हैं जरदारी! भारत और अन्य देशों से जारी संघर्षों पर कही यह बात ◾

यूक्रेन मुद्दे पर बढ़ते तनाव के बीच रूस के विदेश मंत्री बोले- मास्को युद्ध शुरू नहीं करेगा

दुनिया में यूक्रेन संकट अब गहराता जा रहा है। यूक्रेन पर आक्रमण की आशंका के बीच रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने शुक्रवार को कहा कि मास्को युद्ध शुरू नहीं करेगा लेकिन चेतावनी दी कि वह पश्चिमी देशों को उसके सुरक्षा हितों को रौंदने नहीं देगा। 

जो बाइडेन ने किया आगाह 

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एक दिन पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति को आगाह किया था कि इस बात की ‘‘स्पष्ट आशंका’’ है कि रूस फरवरी में उनके देश के खिलाफ सैन्य कार्रवाई कर सकता है। विदेश मंत्री लावरोव ने रूसी रेडियो स्टेशन के साथ एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘जब तक यह रूसी संघ पर निर्भर करता है, तब तक युद्ध नहीं होगा, हम युद्ध नहीं चाहते हैं। लेकिन हम अपने हितों को बेरहमी से रौंदने और उनकी उपेक्षा नहीं करने देंगे।’’ 

गोवा: विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा झटका, पूर्व CM प्रतापसिंह राणे ने इलेक्शन नहीं लड़ने का लिया फैसला

यूक्रेन की सीमा के पास एक लाख से अधिक जवान तैनात 

रूस ने यूक्रेन की सीमा के पास 1,00,000 से अधिक सैनिकों का जमावड़ा कर रखा है जिससे इस क्षेत्र में युद्ध की आशंका तेज हो गई है। रूस ने लगातार इस बात से इनकार किया है कि वह यूक्रेन पर हमले की योजना बना रहा है, लेकिन अमेरिका और उसके नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) सहयोगियों का मानना है कि रूस युद्ध की ओर बढ़ रहा है तथा इसके लिए तैयारी कर रहा है। रूस की मुख्य मांगों में नाटो में यूक्रेन को शामिल नहीं करना और क्षेत्र से ऐसे हथियारों को हटाना शामिल है, जिससे रूस को खतरा हो सकता है। 

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन इन प्रस्तावों पर फैसला करेंगे 

लेकिन अमेरिका और नाटो रूस की मुख्य मांगों पर किसी भी तरह की रियायत को दृढ़ता से खारिज कर चुके हैं। हालांकि तनाव घटाने के लिए अमेरिका ने उन मुद्दों को रेखांकित किया है जिन पर वार्ता की जा सकती है। अब, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन इन प्रस्तावों पर फैसला करेंगे और इससे यह तय होगा कि यूक्रेन पर हमला होगा या नहीं। इस बीच, क्रेमलिन (रूस के राष्ट्रपति कार्यालय) ने कहा है कि अमेरिका और नाटो की प्रतिक्रिया के बाद ‘‘उम्मीद की बहुत कम गुंजाइश बचती है।’’ 

लावरोव ने शुक्रवार को उल्लेख किया कि अमेरिका ने सुझाव दिया है कि दोनों पक्ष मध्यम दूरी की मिसाइलों की तैनाती की सीमा तय करने, सैन्य अभ्यास रोकने और युद्धपोतों, विमानों की दुर्घटनाओं को रोकने संबंधी नियमों को लेकर चर्चा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि रूस ने वर्षों पहले इन मुद्दों पर चर्चा करने का प्रस्ताव रखा था लेकिन अमेरिका और उसके सहयोगियों ने कभी भी इस पर ध्यान नहीं दिया। 

रूस की मुख्य चिंताएं क्या है? लावरोव ने दी जानकारी  

विश्वास बहाली के उपायों पर बातचीत के लिए अमेरिका के प्रस्तावों को लावरोव ने तार्किक बताया लेकिन इस बात पर जोर दिया कि रूस की मुख्य चिंताएं नाटो के विस्तार और रूस की सीमाओं के पास गठबंधन के देशों के हथियारों की तैनाती को रोकना है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समझौते कहते हैं कि एक राष्ट्र की सुरक्षा दूसरों की कीमत पर नहीं होनी चाहिए और वह अपने पश्चिमी देशों के समकक्षों को उस दायित्व को निभाने के लिए पत्र भेजेंगे। 

तनाव बढ़ने के साथ अमेरिका ने रूस को यूक्रेन पर हमला करने की स्थिति में कठोर प्रतिबंध लगाने की चेतावनी दी है। संभावित प्रतिबंधों के बारे में पूछे जाने पर लावरोव ने कहा कि मास्को ने वाशिंगटन को आगाह कर दिया है उनका किसी भी तरह का कदम संबंधों को पूरी तरह से तोड़ने के समान होगा।