BREAKING NEWS

अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾

सऊदी अरब की सबसे बड़ी तेल कंपनी अरामको पर ड्रोन से हमला, लगी भीषण आग

सऊदी अरब में तेल की दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी के दो संयंत्रों में शनिवार को ड्रोन से हमला किया गया। यमन के विद्रोहियों द्वारा यह हमला ऐसे समय में किया गया है जब यह कंपनी शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने को लेकर तैयारी कर रही है। पूर्वी सऊदी अरब में अरामको के दो बड़े संयंत्रों अब्कैक और खुरैस पर हमलों के बाद आसमान में धुएं के गुबार उठने लगे। 

ईरान के साथ चल रहे क्षेत्रीय तनावों के बीच यह हमला हुआ है। इन हमलों से पता चलता है कि ईरान से जुड़े हूती विद्रोही सऊदी अरब में तेल प्रतिष्ठानों के लिए कैसे गंभीर खतरा बन गए हैं। सऊदी अरब दुनिया में कच्चे तेल का सबसे बड़ा निर्यातक है। आधिकारिक सऊदी प्रेस एजेंसी ने गृह मंत्रालय के एक बयान के हवाले से कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय समयानुसार एक बजे अरामको के औद्योगिक सुरक्षा दलों ने अब्कैक और खुरैस में ड्रोन हमले के कारण लगी आग से निपटना शुरू किया।’’ उसने बताया, ‘‘दोनों संयंत्रों में लगी आग पर नियंत्रण पा लिया गया है।’’ बयान में कहा गया है कि ईस्टर्न प्रांत में हमले के बाद जांच शुरू कर दी गई। 

सीजफायर उल्लंघन का भारतीय सेना ने दिया मुंह तोड़ जवाब, मार गिराए दो सैनिक, पाक सैनिक सफेद झंडा दिखाकर शव ले गए

हालांकि उसने ड्रोनों के सूत्र के बारे में नहीं बताया। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हमलों में कोई घायल हुआ है या नहीं और न ही तेल उत्पादन पर असर का पता लगा है। हाल के महीनों में हूती विद्रोहियों ने सीमा पार सऊदी अरब के अड्डों और अन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनाते हुए मिसाइल और ड्रोन हमले तेज कर दिए हैं जिसे वह यमन में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाकों में सऊदी अरब के नेतृत्व में लंबे समय से की जा रही बमबारी का बदला बताते हैं। 

अरामको के धहरान मुख्यालय से 60 किलोमीटर दक्षिणपश्चिम में स्थित अब्कैक संयंत्र कंपनी के सबसे बड़े तेल प्रसंस्करण संयंत्र का गढ़ है। पहले भी आतंकवादी इसे निशाना बनाते रहे हैं। अल-कायदा के आत्मघाती विस्फोटकों ने फरवरी 2006 में इस तेल कंपनी पर हमला करने की कोशिश की थी लेकिन वे नाकाम रहे थे। 

धहरान से 250 किलोमीटर दूर स्थित खुरैस अरामको का प्रमुख ऑयल फील्ड है। इस हमले से विश्व शक्ति के साथ परमाणु समझौते को लेकर अमेरिका और ईरान के आमने-सामने होने के बीच तनाव बढ़ने की संभावना है। अमेरिका और सऊदी अरब खाड़ी में टैंकरों पर हमलों के लिए ईरान को भी जिम्मेदार ठहराते रहे हैं। यह ताजा हमला ऐसे समय में हुआ है जब सऊदी अरब ने अरामको को शेयर बाजार में उतारने की तैयारी तेज कर दी है।