BREAKING NEWS

सोनिया ने पार्टी सांसदों को दिया रात्रिभोज◾UP : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी ◾पूर्वोत्तर में नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ व्यापक प्रदर्शन, सामान्य जनजीवन ठप पड़ा◾लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत पर मोदी के Tweet को इस साल मिले सबसे अधिक LIKE◾नागरिकता संशोधन विधेयक देश के मुसलमानों के खिलाफ नहीं : BJP◾कांग्रेस ने एक व्यक्ति के निजी हित के लिए द्विराष्ट्र के सिद्धान्त को किया स्वीकार : गोयल◾शिवसेना सरकार ने पहले से चल रही परियोजनाओं को रोकने के अलावा कुछ नहीं किया : फडणवीस◾एकनाथ खडसे ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात, कहा- भाजपा से कोई दिक्कत नहीं ◾19 साल में मारे गए 22 हजार आतंकी, 370 हटने के बाद भी जारी है घुसपैठ◾शाह की हरी झंडी के बाद होगा कर्नाटक कैबिनेट का विस्तार : मुख्यमंत्री ◾हैदराबाद एनकाउंटर : पुलिस ने दुष्कर्म आरोपियों के एनकाउंटर की रिपोर्ट एनएचआरसी को सौंपी◾TOP 20 NEWS 10 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾उन्नाव रेप मामला : पूर्व बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर पर 16 दिसंबर को कोर्ट सुनाएगा फैसला◾सीएबी बिल पर उद्धव ठाकरे बोले- जब तक कुछ बातें स्पष्ट नहीं होतीं, हम नहीं करेंगे समर्थन◾दिल्ली से लेकर असम तक CAB के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन, मालीगांव में सुरक्षाबलों से भिड़े लोग◾नागरिकता विधेयक का समर्थन करना भारत की बुनियाद को नष्ट करने का प्रयास होगा : राहुल गांधी◾दिल्ली हाई कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपराधिक मानहानि मामले की सुनवाई पर लगाई रोक◾लोकसभा में बोले शाह- J&K में हिरासत में लिए गए नेताओं को छोड़ने का निर्णय स्थानीय प्रशासन लेगा◾पीएमओ में सत्ता का केंद्रीकरण अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं : शिवसेना◾दिल्ली : किराड़ी इलाके के गोदाम में लगी आग, मौके पर पहुंची 8 दमकल की गाड़ियां◾

विदेश

वैज्ञानिकों ने रोबोट को बना दिया नेता, साल 2020 में लड़ेगा चुनाव

 robort-leader1
न्यूजीलैंड के वैज्ञानिकों ने एक रोबोट को नेता बना दिया है। आपको बता दे कि इसमें नेता वाली सारी खूबियां होंगी । वही , ये दुनिया में इस तरह का पहला रोबोट होगा ।

वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला कृत्रिम बुद्धि वाला राजनीतिज्ञ विकसित किया है जो आवास, शिक्षा, आव्रजन संबंधी नीतियों जैसे स्थानीय मुद्दों पर पूछे गए सवालों के जवाब दे सकता है। इतना ही नहीं, उसे 2020 में न्यूजीलैंड में होने वाले आम चुनाव में उम्मीदवार बनाने की तैयारियां भी जोरों पर हैं।

इस आभासी राजनीतिज्ञ का नाम सैम (एसएएम) रखा गया है और इसके रचनाकार न्यूजीलैंड के 49 वर्षीय उद्यमी निक गेरिट्सन हैं। उन्होंने कहा ऐसा लगता है कि फिलहाल राजनीति में कई पूर्वाग्रह हैं।। 1 प्रतीत होता है कि दुनिया के देश जलवायु परिवर्तन एवं समानता जैसे जटिल मुद्दों का हल नहीं निकाल पा रहे हैं। कृत्रिम बुद्धि वाला राजनीतिज्ञ फेसबुक मेसेन्जर के जरिए लोगों को प्रतिक्रिया देना लगातार सीख रहा है।

गेरिट्सन मानते हैं कि एल्गोरिदम में मानवीय पूर्वाग्रह असर डाल सकते हैं। लेकिन उनके विचार से पूर्वाग्रह प्रौद्योगिकी संबंधी समाधानों में चुनौती नहीं हैं। टेक इन एशिया की खबर में कहा गया है कि प्रणाली भले ही पूरी तरह सटीक न हो, लेकिन यह कई देशों में बढ़ते राजनीतिक एवं सांस्कृतिक अंतर को भरने में मददगार हो सकती है।

न्यूजीलैंड में साल 2020 के आखिर में आम चुनाव होंगे। गेरिट्सन का मानना है कि तब तक सैम एक प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतरने के लिए तैयार हो जाएगा।