BREAKING NEWS

PM मोदी ने की आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन की शुरुआत, कहा- गरीबों की दिक्कतें होंगी दूर◾नरेंद्र गिरि मौत केस को लेकर एक्शन में CBI, बाघंबरी मठ में सुसाइड सीन को किया रिक्रिएट◾भारत बंद के बीच मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने की केंद्र से मांग- कृषि कानून करें निरस्त ◾ममता ने BJP को बताया नाचने वाले ड्रैगन की जुमला पार्टी, शुभेंदु अधिकारी ने किया तीखा पलटवार ◾भारत बंद : दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लगा भारी ट्रैफिक जाम, गाड़ियों की लंबी कतारों से DND का भी बुरा हाल◾'भारत बंद' को मिला विपक्ष का समर्थन, कहा- काले कानून वापस लें केंद्र, किसानों का अहिंसक सत्याग्रह है अखंड ◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 26 हजार से अधिक मामले आये सामने ◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23.18 करोड़ के करीब, 47.4 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾किसानों के भारत बंद के मद्देनजर दिल्ली में मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ी,पुलिस अलर्ट पर ◾भारत बंद : कृषि कानूनों के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किसानों ने किया जाम◾दस साल तक प्रदर्शन के लिए तैयार हैं, लेकिन कृषि कानूनों को लागू नहीं होने देंगे : राकेश टिकैत◾संयुक्त किसान मोर्चा की सोमवार को भारत बंद के दौरान शांति की अपील, कई राजनीतिक दलों ने दिया समर्थन◾दिग्विजय सिंह ने RSS संचालित सरस्वती शिशु मंदिर के खिलाफ दिया विवादित बयान◾PM मोदी ने नए संसद भवन के निर्माण स्थल का किया दौरा ◾RCB vs MI : पटेल की हैट्रिक और मैक्सवेल के शानदार प्रदर्शन से आरसीबी ने मुंबई इंडियंस को 54 से हराया◾अर्थव्यवस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत को ‘एसबीआई जैसे’ 4-5 बैंकों की जरूरत : सीतारमण◾आरएसएस से जुड़ी साप्ताहिक पत्रिका 'पांचजन्य' ने अमेजन को 'ईस्ट इंडिया कंपनी 2.0' बताया◾‘भारत बंद’ से पहले दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस ने गश्त बढ़ायी, अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती की◾गन्ना खरीद मूल्य 350 रुपये किए जाने पर प्रियंका का CM योगी पर तंज, कहा- किसानों के साथ किया धोखा◾पारंपरिक पोशाक पहनने वालों को प्रवेश नहीं देने वाले रेस्तरां के खिलाफ हो कार्रवाई : कांग्रेस◾

अध्ययन में दावा- कोविड वायरस के टीके मानव डीएनए में प्रवेश नहीं करते

कोरोना वायरस का कहर अभी दुनिया में जारी है, ऐसे में एक अध्ययन सामने आया है, जिसमें बड़ा दावा किया गया। कोविड किसी व्यक्ति के डीएनए में प्रवेश नहीं कर सकता है। ऑस्ट्रेलियाई शोधकतार्ओं ने सॉर्स कोव 2 के दावों का खंडन करते हुए, कहा कि वायरस जो संक्रामक बीमारी का कारण बनता है, इसकी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीनोम में एकीकृत करता है।

जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि कोविड -19 और फाइजर, एस्ट्राजेनेका के टीके डीएनए में प्रवेश करने का कोई सबूत नहीं है। क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने कहा कि झूठे दावों ने लोगों को डराया है और लोगों को टीकाकरण से संकोच नहीं करना चाहिए। शोध ने पुष्टि की कि कोई असामान्य वायरल गतिविधि नहीं थी और कोविड -19 व्यवहार एक कोरोनावायरस से अपेक्षित के अनुरूप था।

यूनिवर्सिटी के क्वींसलैंड ब्रेन इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर ज्योफ फॉल्कनर ने कहा कि सबूत उस अवधारणा का खंडन करते हैं जिसका इस्तेमाल टीके की हिचकिचाहट को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है। हमें सॉर्स कोव 2 एकीकरण का कोई सबूत नहीं मिला है, और यह बताता है कि इस तरह की घटनाएं विवो में अत्यंत दुर्लभ हैं। इसलिए ऑन्कोजेनेसिस को चलाने या वायरस के बाद की वसूली का पता लगाने की संभावना नहीं है।

फॉल्कनर ने कहा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के ²ष्टिकोण से, हम कहेंगे कि कोई चिंता की बात नहीं है कि वायरस या टीके को मानव डीएनए में शामिल किया जा सकता है। प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज में प्रकाशित अपने पिछले शोध में, फॉल्कनर ने सुझाव दिया कि रिकवरी के लंबे समय बाद सकारात्मक कोविड -19 परीक्षण वायरस के डीएनए में शामिल होने के कारण होते हैं।

हमने उनके दावों पर गौर किया कि मानव कोशिकाओं और मशीनरी ने कोविड -19 आरएनए को डीएनए में बदल दिया, जिससे स्थायी उत्परिवर्तन हुआ। उन्होंने कहा कि हमने प्रयोगशाला में विकसित कोशिकाओं के दावों का आकलन किया, डीएनए अनुक्रमण किया और डीएनए में कोविड -19 का कोई सबूत नहीं मिला।

मई में, अमेरिका के इंडियाना में पर्डयू विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने दिखाया कि हालांकि पूरे मानव इतिहास में ऐसे वायरस रहे हैं जो अपनी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीन में एकीकृत करने में सक्षम हैं। कोविड वायरस में मानव डीएनए में अपने आरएनए को एकीकृत करने के लिए आणविक मशीनरी का अभाव है।