BREAKING NEWS

क्वाड नेताओं ने हिंद-प्रशांत में समुद्री गतिविधियों की निगरानी के लिए पहल शुरू की◾Monkeypox : संयुक्त अरब अमीरात में मंकीपॉक्स का पहला मामला आया सामने ◾GT vs RR ( IPL 2022 ) : मिलर का तूफानी अर्धशतक, रॉयल्स को हराकर टाइटंस शान से फाइनल में◾वीजा घोटाला : बुधवार को CBI के सामने पेश हो सकते हैं कार्ति चिदंबरम◾जे पी नड्डा 25 मई को केंद्रीय मंत्रियों के साथ करेंगे बैठक◾भारी बर्फबारी और बारिश के बीच दूसरे दिन भी रुकी चारधाम यात्रा, यात्रियों को लेना पड़ रहा है अलाव का सहारा◾जस्टिन बीबर 18 अक्टूबर को दिल्ली में देंगे लाइव प्रस्तुति◾प्रधानमंत्री मोदी के हैदराबाद दौरे के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम◾ क्वॉड की बैठक में निकला चीन की हेकड़ी निकालेना का नया फॉर्मूला, यहां जानें क्या नया प्लान◾Andhra Pradesh News: अमलापुर शहर में हिंसा ने दी दस्तक! जिला का नाम बदलने को लेकर हुई तोड़-फोड़◾विधानसभा सत्र के दौरान अखिलेश और योगी में चलें शब्दों के बाण, यहां जानें दोनो एक दूसरे को किस तरह दिया जवाब◾Bihar liquor News: नकली शराब से 6 लोगों की मौत! औरंगाबाद में हुई ऐसी दर्दनाक घटना, पुलिस प्रशासन ने साधी चुप्पी◾ जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने कश्मीर में की नापाक हरकत, पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या की, बेटी भी जख्मी ◾Gujarat News: भगवान राम को अंधकार में रखा भाजपा ने..., अयोध्या मंदिर में पैसों का किया गमन!◾ GT vs RR,IPL 2022 Qualifier 1: गुजरात ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का विकल्प चुना, ऐसी है दोनो टीमों की प्लेइंग इलेवन◾UP News: राज्यपाल के अभिभाषण पर मायावती ने बोला हमला, सुनाई खरीखोटी, जानें- क्या है पूरा मामला ◾ 'आप' को उत्तराखंड बड़ा झटका, CM पद के उम्मीदवार रहे अजय कोठियाल ने थामा भगवा पार्टी का दामन ◾गर्दन कटवा देंगें लेकिन भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं करेंगे....विजय सिंगला की बर्खास्तगी पर बोले केजरीवाल◾स्वास्थ्य मंत्री मांडविया बोले- देश में 80 प्रतिशत से भी ज्यादा बच्चों को कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक मिली◾कुतुब मीनार मामले में 9 जून को होगी अगली सुनवाई, जानें कोर्टरूम में हुई कुछ अहम बातें...◾

ताइवान तनाव ने अमेरिका और चीन के बीच बढ़ाई टकराव की आशंका, ड्रैगन बोला- 'विदेशी हस्तक्षेप' नहीं करेंगे बर्दाश्त

चीन के राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर ताइवान को परेशान करने के लिए रिकॉर्ड संख्या में सैन्य विमान भेजने के बाद बीजिंग ने धमकाने वाली अपनी कार्रवाइयों में कमी की है, लेकिन तनाव अब भी कम नहीं हुआ है और इन सैन्य अभ्यासों को उचित ठहराने की चीन की कोशिश और बयानबाजी जारी है। विशेषज्ञ इस बात को लेकर सहमत है कि सीधे संघर्ष होने की आशंका इस समय नहीं है, लेकिन स्वशासित ताइवान के भविष्य को लेकर स्थिति कभी भी खतरनाक बन सकती है।

किसी भी एक हादसे या गलत अनुमान के कारण ऐसे समय में संघर्ष की स्थिति बन सकती है 

उनका कहना है कि किसी भी एक हादसे या गलत अनुमान के कारण ऐसे समय में संघर्ष की स्थिति बन सकती है, जब चीनी और अमेरिकी महत्वाकांक्षाएं एक दूसरे से विपरीत हैं। चीन रणनीतिक और प्रतीकात्मक रूप से महत्वपूर्ण द्वीप को फिर से अपने नियंत्रण में लेना चाहता है और अमेरिका ताइवान के मामले को चीन की ओर से बढ़ती चुनौतियों के संदर्भ में देखता है। ‘इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज’ में ब्रितानी रक्षा विश्लेषक हेनरी बॉयड ने कहा कि अमेरिका के दृष्टिकोण से चीन के साथ शक्ति को लेकर प्रतिद्वंद्विता की अवधारणा इस आशंका को बल दे रही है।

चीन के खिलाफ खड़े होने की आवश्यकता पर्याप्त

उन्होंने कहा, ‘‘इस संदर्भ में प्रेरित करने के लिए चीन के खिलाफ खड़े होने की आवश्यकता पर्याप्त है और इस संघर्ष में शामिल नहीं होने को अमेरिकी राष्ट्रीय हितों के साथ विश्वासघात की तरह देखा जाएगा।’’ ताइवान खुद को एक संप्रभु राष्ट्र मानता है लेकिन चीन इस पर अपना दावा करता है। द्वीप पर कब्जा करना बीजिंग की राजनीतिक और सैन्य सोच का हिस्सा है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने ताइवान और चीन के पुन: एकीकरण की जोरदार वकालत करते हुए पिछले सप्ताह कहा था कि ‘ताइवान का मुद्दा’ सुलझाया जाएगा और ‘शांतिपूर्ण एकीकरण’ दोनों पक्षों के हितों में है।

ताइवान के मुद्दे पर किसी भी तरह के ‘‘विदेशी हस्तक्षेप’’ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

शी ने कहा था कि ताइवान के मुद्दे पर किसी भी तरह के ‘‘विदेशी हस्तक्षेप’’ को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। चीन की बढ़ती आक्रमता के मद्देनजर अमेरिका और जापान ताइवान के प्रति अपना समर्थन बढ़ा रहे हैं जिसकी पृष्ठभमि में चीन की यह टिप्पणी आई थी।

चीन और अमेरिका के बीच टकराव की स्थिति 1996 में पैदा हुई थी

चीन और अमेरिका के बीच टकराव की स्थिति 1996 में पैदा हुई थी। चीन ने ताइवान के लिए बढ़ते अमेरिकी सहयोग से नाराज होकर ताइवान के तट से करीब 30 किलोमीटर दूर जलक्षेत्र में मिसाइल प्रक्षेपण समेत सैन्य शक्ति का प्रदर्शन किया था। इसके जवाब में अमेरिका ने क्षेत्र में दो विमान वाहक पोत भेजे थे। उस समय चीन के पास विमान वाहक और अमेरिकी पोतों को धमकाने के लिए पर्याप्त साधन नहीं थे, इसलिए वह पीछे हट गया था।

चीन को ‘‘सबसे बड़ी’’ दीर्घकालीन चुनौती बताया

इसके बाद चीन ने अपनी सेना को मजबूत बनाना शुरू किया और 25 साल बाद उसने मिसाइल सुरक्षा प्रणाली विकसित कर ली है, जो जवाबी हमला कर सकती है और उसने अपने विमान वाहक पोत भी बना लिए हैं। अमेरिकी नौसेना के सचिव कार्लोस डेल तोरो ने पिछले सप्ताह नई रणनीतिक मार्गदर्शन नीति में चीन को ‘‘सबसे बड़ी’’ दीर्घकालीन चुनौती बताया था।

द्वीप की चीन के बढ़ते दबाव से रक्षा करने का संकल्प लिया

चीन ने अपने राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर ताइवान के दक्षिण पश्चिम में रिकॉर्ड 149 सैन्य विमान भेजे थे, जिसे लेकर अमेरिका ने गहरी चिंता व्यक्त की। चीन के एक अधिकारी ने कहा था कि ताइवान के नजदीक सैन्य अभ्यासों और जंगी विमान मिशन राष्ट्र की स्वायत्तता एवं क्षेत्र की रक्षा के लिए जरूरी थे। इससे क्षेत्र में चिंताएं बढ़ी हैं। ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन ने बीजिंग के साथ अप्रत्याशित तानव के बाद द्वीप की चीन के बढ़ते दबाव से रक्षा करने का संकल्प लिया।

अमेरिकी विदेश मंत्री ने दी चेतावनी, कहा- ईरान परमाणु मुद्दे पर कूटनीति हुई विफल तो अन्य विकल्पों का करेंगे रुख