BREAKING NEWS

दिल्ली पहुंचे गहलोत ने सोनिया के नेतृत्व को सराहा व संकट सुलझने की जताई उम्मीद ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की सुनील छेत्री की सराहना◾टाट्रा ट्रक भ्रष्टाचार मामले में पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी से की गई जिरह◾PFI से पहले RSS पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था - लालू◾IND vs SA (T20 Match) : भारत ने पहले टी20 मैच में दक्षिण अफ्रीका को 8 विकेट से हराया◾Ukraine crisis : यूक्रेन संकट का स्वरूप अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए ‘घोर चिंता’ का विषय - भारत◾Uttar Pradesh: फरार नेता हाजी इकबाल की अवैध खनन से अर्जित करोड़ों की सम्पत्ति कुर्क◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव : प्रियंका संभाले पार्टी की कमान, सांसद खालिक ने दिया बेतुका तर्क ◾सीडीएस नियुक्ति :चौहान ने सर्जिकल स्ट्राइक में निभाई थी अहम भूमिका, रिटायर होने के बाद भी केंद्र ने सौंपी जिम्मेदारी ◾महंगाई की जड़ 'मोदी'! कांग्रेस का BJP पर कटाक्ष- केंद्र की दमन नीतियों के कारण गरीब का हो रहा शोषण ◾रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान होंगे देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ◾पाकिस्तान में चीनी नागरिक की हत्या, डेंटल क्लीनिक में मरीज बनकर दाखिल हुआ था हमलावर ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा संगठन पर प्रतिबंध लगाने के निर्णय को स्वीकार करते है: PFI ◾पीएम मोदी ने कहा- 80 करोड़ लोगों को गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार से मिलेगा फायदा◾गुजरात विधानसभा चुनाव : हीरा कारोबारी ने जॉइन की बीजेपी, पूर्व में कर्मचारियों को 'आप' से दूर रहने के लिए कहा था ◾Gold today Price: खुशखबरी-खुशखबरी! त्यौहारों से पहले सस्ता हुआ सोना, फटाफट इतने में खरीदे 10gm Gold ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में दिग्विजय सिंह की एंट्री, मुकाबला कड़ा होने की आशंका ◾गुलाम अली, बिप्लब देब ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली◾Malali Masjid dispute: मस्जिद VS मंदिर! मलाली मस्जिद पर अदालत 17 oct को सुनाएगी फैसला, जानें मामला ◾श्रीलंका से भारत तक खूनी कृत्यों में लिप्त हैं पीएफआई, जघन्य आतंकी घटनाओं में रहा हैं शामिल ◾

अफगानिस्तान से लोगों को निकालने की प्रक्रिया जारी, तालिबान ने चार विमानों को उड़ान भरने से रोका

तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद प्रान्त के लोगों में डर का माहौल है। यहा से लोगों की निकलने की प्रक्रिया जारी है। अफगानिस्तान निकलने का प्रयास कर रहे सैकड़ों लोगों को लेकर उड़ान भरना चाह रहे कम से कम चार विमान बीते कई दिन से वहां से निकल नहीं पा रहे हैं। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी।

अफगानिस्तान से निकलना चाह रहे लोगों की मदद करने के लिए अमेरिका पर बढ़ते दबाव के बीच, ये विमान वहां से उड़ान क्यों नहीं भर पा रहे हैं इस बारे में तरह-तरह की बातें हो रही हैं।उत्तरी शहर मजार ए शरीफ के हवाईअड्डे पर एक अफगान अधिकारी ने बताया कि विमानों में सवार लोग अफगानिस्तान के होंगे, जिनमें से ज्यादातर के पास पासपोर्ट और वीजा नहीं है इसलिए वे देश से निकल नहीं पा रहे हैं। अब इस स्थिति का हल निकलने के इंतजार में वे हवाईअड्डे से होटल चले गए हैं।

हालांकि अमेरिका में संसद की विदेश मामलों की समिति में एक शीर्ष रिपब्लिकन सदस्य ने कहा कि समूह में अमेरिकी शामिल हैं और वे विमानों में बैठे हुए हैं, लेकिन तालिबान उन्हें उड़ान नहीं भरने दे रहा और उन्हें ‘बंधक बना रखा है’’। उन्होंने यह नहीं बताया कि यह सूचना कहां से आई। इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है।

अफगानिस्तान में अमेरिका की करीब 20 साल की जंग के आखिरी दिनों में काबुल हवाईअड्डे से अफरा-तफरी के बीच हजारों लोगों को निकाला गया जिनमें अमेरिकी और सहयोगी देशों के नागरिक शामिल रहे। 30 अगस्त को अमेरिका के आखिरी सैनिक वहां से निकले लेकिन अब भी काफी लोग रह गये जो निकलना चाह रहे हैं।

अमेरिका ने अफगानिस्तान से निकलना चाह रहे लोगों की मदद के लिए नए तालिबान शासकों के साथ काम करते रहने का वादा किया है। वहीं तालिबान ने संकल्प जताया है कि उचित दस्तावेज रखने वालों को जाने दिया जाएगा। लेकिन टेक्सास के रिपब्लिकन सांसद माइकल मैककॉल ने ‘फॉक्स न्यूज सन्डे’ से कहा कि छह विमानों में अमेरिकी नागरिकों तथा अफगान दुभाषियों को रखा गया है।

उन्होंने कहा, ‘‘तालिबान उन्हें हवाईअड्डे से निकलने नहीं देगा। वे ज्यादा से ज्यादा चीजों की मांग करते रहेंगे, चाहे नकदी हो या अफगानिस्तान की सरकार के रूप में और मान्यताएं हों।’’वहीं अफगान अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं होने के अनुरोध के साथ कहा कि चार विमान हैं और उनमें जाना चाह रहे लोग होटलों में ठहरे हैं। अधिकारी इस बारे में मशक्कत कर रहे हैं कि वे देश छोड़कर जा सकते हैं या नहीं। उन्होंने संकेत दिया कि समस्या यह आ रही है कि कई लोगों के पास सही यात्रा दस्तावेज नहीं हैं।

मजार ए शरीफ के निवासियों ने भी कहा कि यात्री इस समय हवाईअड्डे पर नहीं हैं। उन्होंने बताया कि एक स्थानीय होटल के प्रतीक्षा कक्ष में कम से कम 10 परिवारों को देखा गया। उनमें से किसी के पास पासपोर्ट या वीजा नहीं हैं, हालांकि उन्होंने अमेरिकी या जर्मन सेना के साथ जुड़ी कंपनियों के लिए काम किया था।

पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के पड़ोसी देशों के प्रतिनिधियों के साथ की बैठक, ताजा स्थिति पर हुई चर्चा