BREAKING NEWS

Delhi News : भागीरथ पैलेस में लगी आग को बुझाने का अभियान चौथे दिन भी जारी◾दिल्ली: MCD चुनाव पर भाजपा की रणनीति, BJP अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा- संविदा शिक्षकों को करेंगे नियमित◾सियासी पिच पर जीतने का प्रयास, ओडिशा के पदमपुर उपचुनाव के लिए तेज हुआ प्रचार◾हिमाचल में फिर खिलेगा कमल? पूर्व सीएम धूमल ने ठोका दावा- कांग्रेस खोखले दावे जनता के सामने परोस रही ◾महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने स्वामी रामदेव को भेजा नोटिस, रामदेव ने महिलाओं को लेकर दिया था बयान ◾Maharashtra: फसल नष्ट होने के बाद बीमा की नगण्य राशि मिलने से निराश हैं किसान, क्या सरकार सुनेगी फरियाद?◾Gujarat: गुजरात चुनाव में सियासत गर्म! ओवैसी ने केजरीवाल पर जमकर साधा निशाना- कह डाली यह बात◾जेपी नड्डा ने किया दावा, कहा- AAP से तंग आकर एमसीडी चुनाव में BJP को वोट देने को बेताब लोग◾सीएम केजरीवाल ने कहा, BJP Video बनाने वाली कंपनी है, हर वार्ड में खोलेगी दुकान◾जनसंख्या नियंत्रण पर गरजे गिरिराज सिंह, कहा- चीन से मुकाबला करना है तो लाना ही पड़ेगा विधेयक◾Belarus: बेलारूस के विदेश मंत्री व्लादिमीर मेकी का निधन, 64 वर्ष में ली आखिरी सांस, देश में शोक की लहर ◾UNSC की अध्यक्षता के दौरान भारत की प्राथमिकताएं होंगी टेररिज्म का मुकाबला, बहुपक्षवाद में सुधार◾UP News: उत्तर प्रदेश के बलिया में नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म, शादी का झांसा देकर किया कांड, आरोपी गिरफ्तार ◾ICMR की सलाह, कम बुखार होने पर एंटीबायोटिक लेने से करें परहेज◾ठंड ने दी दस्तक, राष्ट्रीय राजधानी में न्यूनतम तापमान 7.9 डिग्री सेल्सियस रहा◾अरविंद केजरीवाल ने कर दी भविष्यवाणी, कहा- गुजरात में कांग्रेस की सरकार आ रही◾'भारत जोड़ो यात्रा' से केंद्र पर वार! कांग्रेस ने कहा- बदल रहा राष्ट्रीय राजनीति का परिद्दश्य◾संसद में मचेगा बवाल! राज्यपालों की भूमिका, बेरोजगारी, महंगाई के मुद्दे पर शीतकालीन सत्र में सरकार को घेरेगा विपक्ष◾गणतंत्र दिवस पर मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह होंगे चीफ गेस्ट, कोरोना की वजह से विदेशी मेहमान नहीं हो रहे थे शामिल ◾Mann Ki Baat : PM नरेंद्र मोदी ने कहा- भारत को जी-20 की अध्यक्षता मिलने का उपयोग ‘विश्व कल्याण’ पर ध्यान लगाने में करना है◾

अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा : क्या हुआ और क्या होगा अभी

दो दशक तक चले युद्ध के बाद अमेरिका के सैनिकों की पूर्ण वापसी से दो सप्ताह पहले तालिबान ने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया है। विद्रोहियों ने पूरे देश में कोहराम मचा दिया और कुछ ही दिनों में सभी बड़े शहरों पर कब्जा कर लिया क्योंकि अमेरिका और इसके सहयोगियों द्वारा प्रशिक्षित अफगान सुरक्षाबलों ने घुटने टेक दिए।

तालिबान का 1990 के दशक के अंत में देश पर कब्जा था और अब एक बार फिर उसका कब्जा हो गया है। अमेरिका में 11 सितंबर 2001 को हुए भीषण आतंकी हमलों के बाद वाशिंगटन ने ओसामा बिन लादेन और उसे शरण देने वाले तालिबान को सबक सिखाने के लिए धावा बोला तथा विद्रोहियों को सत्ता से अपदस्थ कर दिया। बाद में, अमेरिका ने पाकिस्तान के ऐबटाबाद में ओसामा बिन लादेन को भी मार गिराया।

अमेरिकी सैनिकों की अब वापसी शुरू होने के बाद तालिबान ने देश में फिर से अपना प्रभाव बढ़ाना शुरू कर दिया और कुछ ही दिनों में पूरे देश पर कब्जा कर पश्चिम समर्थित अफगान सरकार को घुटने टेकने को मजबूर कर दिया। विगत में तालिबान की बर्बरता देख चुके अफगानिस्तान के लोग खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। काबुल हवाईअड्डे पर देश छोड़ने के लिए उमड़ रही भारी भीड़ से यह बिलकुल स्पष्ट हो जाता है कि लोग किस हद तक तालिबान से भयभीत हैं।

लोगों को पूर्व में 1996 से 2001 तक तालिबान द्वारा की गई बर्बरता की बुरी यादें डरा रही हैं। सबसे अधिक चिंतित महिलाएं हैं जिन्हें तालिबान ने विगत में घरों में कैद रहने को मजबूर कर दिया था। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल अपने कार्यकाल में अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की योजना की घोषणा की थी। वहीं, अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति जो. बाइडन ने इस योजना को वास्तव में ही अंजाम दे दिया और 31 अगस्त तक अंतिम सैनिक की वापसी की समयसीमा तय कर दी।

अमेरिका और नाटो सहयोगियों ने अफगान सुरक्षाबलों को प्रशिक्षित करने के लिए अरबों डॉलर खर्च कर दिए, लेकिन पश्चिम समर्थित अफगान सरकार भ्रष्टाचार में डूबी थी। अफगान कमांडरों ने संसाधनों में हेरफेर करने के लिए सैनिकों की संख्या बढ़ा-चढ़कार दिखाई और जब युद्ध की नौबत आई सैनिकों के पास गोला-बारूद और खाने-पीने तक की चीजों की कमी हो गई। नतीजा उनकी हार के रूप में निकला।

रविवार को तालिबान काबुल में भी घुस गया और इस बीच, राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश से भाग जाने की खबर भी आई। देश की जनता को निराश और भयभीत करने के लिए यह काफी था। स्त्री-पुरुष और बच्चे सभी भयभीत हैं और वे यही सोच रहे हैं कि आगे क्या होगा। रोते-बिलखते लोगों को देखकर समझ आ सकता है कि अफगानिस्तान किस अंधकार की तरफ जाता दिख रहा है।