BREAKING NEWS

जय श्रीराम के नारों की नुसरत जहां ने की निंदा, बोली- राम का नाम गले लगाकर बोलें, गला दबाकर नहीं◾केंद्र पूर्वोत्तर को दुनिया के नक्शे पर क्षेत्र में प्रगति और समृद्धि लाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही : अमित शाह ◾किसानों को राजधानी में ट्रैक्टर परेड की मिली इजाजत, किसान नेता बोले- दिल्ली में करेंगे एंट्री◾मुख्यमंत्री गहलोत ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप, कहा- केंद्रीय एजेंसियों का कर रही है इस्तेमाल ◾CM ममता ने भाषण देने से किया इनकार, PM मोदी बोले- कोलकाता आकर भावुक महसूस कर रहा हूं ◾विक्टोरिया मेमोरियल में नेताजी की जयंती पर ‘पराक्रम दिवस’ समारोह, PM मोदी और CM ममता मौजूद◾जम्मू-कश्मीर : पाक की एक और साजिश नाकाम, बीएसएफ और इंटेलिजेंस ने खोजी भूमिगत सुंरग ◾भारत जैसे बड़े देश में होनी चाहिए 4 राजधानी, इतिहास बदलने की कोशिश में केंद्र : CM ममता◾राहुल ने तमिलनाडु में चुनाव अभियान का किया आगाज, कहा- जनता से जुड़ी हर चीज को बेच रहे हैं PM मोदी ◾LAC विवाद सुलझाने को लेकर भारत व चीन के बीच जल्द होगी नौंवें दौर की कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठक◾पीएम मोदी की अपील- अपना नम्बर आने पर जरूर लगवाएं कोरोना वैक्सीन, विपक्ष के लिए कही ये बात ◾ट्रैक्टर परेड षडयंत्र मामले में संदिग्ध युवक पर बोले टिकैत- 'प्रशासन और सरकार ही करवाते हैं इस तरह की हरकत' ◾LAC तनाव : भारत का सख्त संदेश- जब तक चीन नहीं हटाएगा सैनिक, तब तक डटे रहेंगे भारतीय जवान◾असम : पीएम मोदी ने भूमिहीन मूल निवासियों के लिए भूमि पट्टा वितरण अभियान की शुरुआत की◾गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड पर निर्णय आज, करीब 30 किलोमीटर के हो सकते हैं 3 रूट ◾भारत में एक दिन में कोरोना के 14256 नए मामलों की पुष्टि, एक्टिव केस 1 लाख 85 हजार से अधिक ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 21 लाख से पार ◾असम विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए PM मोदी और अमित शाह आज राज्य का करेंगे दौरा ◾TOP 5 NEWS 23 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती आज, पीएम मोदी और अमित शाह ने किया नमन ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आतंकवाद पाकिस्तान के लिए एक राजकीय नीति : वेंकैया नायडू

नयी दिल्ली : उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने आज कहा कि भारत के एक पड़सी देश ने आतंकवाद को एक राजकीय नीति बना दिया है और वह आतंकवादियों को इस देश में भेजने के लिए उन्हें प्रशिक्षित कर रहा है, धन मुहैया कर रहा है और उकसा रहा है। उप राष्ट्रपति ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर कहा कि यह धर्म को आतंकवाद से जोड़ रहा है और लोगों के बीच विभाजन पैदा कर रहा है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 52 वें स्थापना दिवस पर इसके सैनिकों को संबोधित करते हुए नायडू ने कहा कि भारत किसी आतंकवादी को किसी धर्म के चश्मे से नहीं देखता और ऐसी स्वार्थलोलुपता मानवता की दुश्मन है। नायडू ने कहा कि अपने पड़सियों से अच्छे संबंध रखने की भारत सरकार की कई कोशिशों के बावजूद कुछ लोग हमारी सरजमीं में घुसपैठ कराने सहित समस्याएं पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने पाकिस्तान का सीधे तौर पर नाम लिए बगैर कहा कि यह बहुत दुर्भाज्ञपूर्ण और निंदनीय है। आप जानते हैं कि हमारे एक पड़सी ने आतंकवाद को राजकीय नीति बनाया है और हमेशा ही आतंकवादियों को सहायता देने, उकसाने, धन मुहैया करने और प्रशिक्षित करने तथा यहां भेजने की कोशिश की है।

नायडू ने कहा कि भारत के सुरक्षा बल देश पर हमलों और आतंकी कोशिशों को नाकाम कर रहे हैं। पाकिस्तान और बांग्लादेश से लगी भारतीय सीमाओं की प्रभावी पहरेदारी करने को लेकर बीएसएफ की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि आतंकवाद और इसके बुरे परिणामों का खतरा समूचे विश्व में महसूस किया जा रहा है। उन्होंने कहा, लेकिन हमारा पड़सी अब भी इस राह पर चल रहा। यह आतंकवाद को धर्म से जोड़ रहा है और लोगों के बीच फूट डाल रहा है। उप राष्ट्रपति ने कहा कि भारत ने किसी राष्ट्र या पड़सी पर कभी भी बुरी निगाह नहीं डाली और हमेशा ही शांति का समर्थन किया। उन्होंने कहा, ऐसा इसलिए है कि हमारी परंपरा वसुधैव कुटुंबकम और साथ रहने की है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मानव का कल्याण हमारा दर्शन और धर्म है। हम इसमें यकीन रखते हैं और इसका पालन करते हैं। हमें किसी से कोई समस्या नहीं है लेकिन अन्य (देश) समस्याएं पैदा करते हैं।

नायडू ने कहा कि वह देश और दुनिया से कहना चाहते हैं कि भारत आतंकवादी को उसके धर्म से जोड़ कर नहीं देखता। आतंकवादी की कोई जाति, कोई धर्म नहीं होता और एक आतंकवादी सिर्फ एक आतंकवादी है। वह मानव जाति का दुश्मन है। उन्होंने इस बात की हिमायत की कि संयुक्त राष्ट्र ऐसी हरकतें करने वाले संगठनों और लोगों के खिलाफ सख्त कदम उठाए। उन्होंने कहा कि बीएसएफ के 21 5 लाख कर्मी अपनी जान की बाजी लगा कर देश के आंतरिक और बाहरी इलाकों में अपनी ड्यूटी करते हैं जबकि उन्हें मौसम और भूस्थलाकृति की प्रतिकूल स्थिति का सामना करना पड़ता है। समूचे देश को आप पर और आप के काम पर गर्व है। पिछले 52 साल में आपने बेहतरीन काम किए हैं।