BREAKING NEWS

रामचरितमानस विवाद: VHP की सपा व राजद की मान्यता रद्द करने की मांग, सीईसी से मिलने का समय मांगा◾कांग्रेस के नेतृत्व वाली विपक्षी दलों ने Adani group के मामले में JPC जांच की मांग की◾मनीष सिसोदिया ने कहा- LG वीके सक्सेना के दखल की वजह से दिल्ली सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए विदेश नहीं भेज पा रही◾पाकिस्तान में बलूचिस्तान के लासबेला में भूकंप के झटके महसूस किए गए◾बिहार में बड़ा रेल हादसा : दो हिस्सों में बटी सत्याग्रह एक्सप्रेस, बाल-बाल बचे यात्री◾अडानी पर हमलावर हुआ विपक्ष, पवन खेड़ा ने कहा- PM मोदी ने एक गुब्बारा फुलाया और वो फुस्स हो गया◾ईंट निर्माता संघ ने उठाया बड़ा कदम, बिहार के 450 सरकारी विद्यालयों में लड़कियों के लिए बनवाएगा शौचालय◾CM शिवराज ने दिया संकेत, केंद्रीय बजट की तर्ज पर बनेगा मध्य प्रदेश का बजट◾पाकिस्तान: इमरान समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई तेज, पूर्व मंत्री शेख राशिद गिरफ्तार◾AAP ने LG सक्सेना पर टीचर्स को विदेश भेजने से रोकने का लगाया आरोप, कहा- फाइल अक्टूबर से पड़ी है पेंडिंग ◾Iran ने ड्रोन हमले के लिए इजराइल को जिम्मेदार ठहराया, जवाबी कार्रवाई की धमकी दी◾Budget 2023: वित्त मंत्री ने किया ऐलान, कहा- सिगरेट, सोना-चांदी महंगा, मोबाइल पार्ट्स-LED टीवी होंगे सस्ते ◾ममता बनर्जी बोलीं- भाजपा कुछ नेताओं के फायदे के लिए LIC, राष्ट्रीयकृत बैंकों के पैसे का कर रही इस्तेमाल ◾उत्तर प्रदेश : रामपुर में निर्वस्त्र महिला ने फैलाया खौफ, रातभर जागने पर मजबूर हुए लोग, जांच में जुटी पुलिस◾मनीष के साथ भागी मुस्लिम युवती...परिवार ने लगाए गंभीर आरोप, लड़की ने वीडियो जारी कर पलटवार किया ◾अखिलेश यादव को मुरादाबाद में Plane Landing की नहीं मिली अनुमति, सपा ने कहा- बेहद निंदनीय एवं अलोकतांत्रिक कृत्य◾प्रयागराज पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री , बागेश्वर धाम में करेंगे 121 कन्याओं का विवाह ◾बलात्कार के आरोपी आसाराम को एक और मामले में उम्र कैद, जानें उस रात की पुरी कहानी◾स्वीडन को नाटो के लिए मंजूरी नहीं देगा तुर्की, जानिए क्या है पूरा मामला ◾धीरेंद्र शास्त्री ने स्वामी प्रसाद मौर्य को दिया जवाब, कहा- रामचरितमानस का विरोध करने वालों को भारत में रहने का अधिकार नहीं◾

भारत 1 महीने में जो तेल लेता है.. उतना यूरोपीय देश एक दोपहर में खरीदते हैं, जयशंकर का US पर पलटवार

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत रूस से जितना तेल एक महीने में खरीदता है, संभवत: उतना तेल तो यूरोपीय देश उससे एक दोपहर तक खरीद लेते हैं। रूस से भारत की तेल खरीद के बारे में एक प्रश्न के उत्तर में जयशंकर ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘आपने तेल खरीद का उल्लेख किया और आप रूस से ऊर्जा खरीद की बात कर रहे हैं...मैं आपको सुझाव दूंगा कि आप यूरोप पर ध्यान दें। हम ईधन सहित कुछ ऊर्जा खरीद करते हैं जो हमारी ऊर्जा सुरक्षा के लिये जरूरी है। लेकिन अगर आंकड़ों पर गौर करें तब संभवत: हमारी एक महीने की (रूसी तेल की) खरीद यूरोप की एक दोपहर की खरीद से कम है।’’

भारत रूस-यूक्रेन में जारी संघर्ष के खिलाफ :जयशंकर 

भारत और अमेरिका के बीच सोमवार को चौथी 'टू प्लस टू' मंत्रिस्तरीय बैठक हुई। इस बैठक में अमेरिका का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने तथा भारत का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री एस जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया। जयशंकर ने कहा कि भारत ने भारतीय संसद, संयुक्त राष्ट्र एवं अन्य मंचों पर कई बयान (रूस-यूक्रेन युद्ध पर) दिये हैं जिसमें उसका रूख स्पष्ट हुआ है। विदेश मंत्री ने कहा, ‘‘संक्षेप में कहें तब उनमें यह स्पष्ट है कि हम संघर्ष के खिलाफ हैं। हम बातचीत एवं कूटनीति के पक्ष में है। हम हिंसा को तत्काल समाप्त करने के पक्षधर हैं और इन उद्देश्यों के लिये जो भी रास्ते हों, उनमें योगदान करने के लिये हम तैयार हैं।’’

अमेरिका ने तेल खरीद के मुद्दे पर किया भारत का बचाव 

वहीं, व्हाइट हाउस ने भी भारत की तेल खरीद का बचाव करते हुए कहा कि (रूस से) उसकी तेल खरीद कुल खरीद का एक या दो प्रतिशत है जबकि अमेरिका से 10 प्रतिशत है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी से संवाददाताओं ने पूछा था कि क्या अमेरिका के राष्ट्रपति को प्रधानमंत्री मोदी से रूस से तेल खरीद को बढ़ावा नहीं देने के बारे में कोई प्रतिबद्धता प्राप्त हुई? उन्होंने कहा कि इस बारे में प्रधानमंत्री मोदी और भारतीयों को कहने देना चाहिए। उन्होंने कहा कि फिलहाल यह तेल खरीद (रूस से) 1 से 2 प्रतिशत है, वे (भारत) अमेरिका से 10 प्रतिशत तेल का आयात करते हैं।

भारत रूस से कम और अमेरिका से कर रहा तेल आयात

उन्होंने कहा कि यह किसी प्रतिबंध का उल्लंघन या उसकी तर्ज पर कुछ नहीं है। बातचीत के संबंध में साकी ने कहा कि यह रचनात्मक रही और सीधा संवाद हुआ लेकिन वह चाहती हैं कि वे (भारतीय) अपनी बात खुद रखें। इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शिखर बैठक में राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि अमेरिका तेल के आयात के विविधिकरण में भारत की मदद करेगा। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव ने कहा कि अमेरिका से (भारत का) तेल आयात पहले ही अधिक है और यह रूस से तेल आयात की तुलना में काफी ज्यादा है।

तेल आयात करके भारत नहीं कर रहा किसी प्रतिबंध का उल्लंघन 

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने स्पष्ट तौर पर बताया कि इसे बढ़ाना उनके (भारत के) हित में नहीं है, लेकिन इससे आगे भारतीयों को अपनी बात कहनी है। साकी ने कहा कि तेल आयात करके भारत किसी प्रतिबंध का उल्लंघन नहीं कर रहा है। यह निर्णय हमने अमेरिका के लिये किया लेकिन हम मानते हैं कि विभिन्न देशों के अपने गणित होते हैं। उन्होंने यूक्रेन में भारत के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि भारत ने बुचा में नागरिकों की हत्या की निंदा की और स्वतंत्र जांच का समर्थन किया, साथ ही यूक्रेन एवं उसके पड़ोसी देशों को दवाएं सहित 90 टन राहत सामग्री उपलब्ध करायी।

रूस के प्रति भारत के रुख पर अमेरिका नरम? ब्लिंकन बोले- दशकों पुराने हैं संबंध.. तब US नहीं था साझेदार