BREAKING NEWS

पंजाब में लगी इस्तीफों की झड़ी, योगिंदर ढींगरा ने भी महासचिव पद छोड़ा◾कोलकाता ने दिल्ली कैपिटल्स को 3 विकेट से हराया, KKR की प्ले ऑफ में पहुंचने की उम्मीदें जिंदा◾कोरोना सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौती, केंद्र ने कोविड-19 नियंत्रण संबंधित दिशा-निर्देशों को 31 अक्टूबर तक बढ़ाया◾ क्या BJP में शामिल होंगे कैप्टन ? दिल्ली आने की बताई यह खास वजह ◾UP चुनाव में एक साथ लड़ेंगे BJP-JDU! गठबंधन बनाने के लिए आरसीपी सिंह को मिली जिम्मेदारी◾कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार, कहा- आज देश को बचाना जरूरी, सत्ता के लिए परंपरा भूली BJP ◾सिद्धू के इस्तीफे से कांग्रेस में हड़कंप, कई नेता बोले- पार्टी की राजनीति के लिए घातक है फैसला ◾नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे पर बोले CM चन्नी-मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं◾अमेरिका ने फिर की इमरान खान की बेइज्जती, मिन्नतों के बाद भी बाइडन नहीं दे रहे मिलने का मौका ◾उरी में भारतीय सेना को मिली बड़ी कामयाबी, पकड़ा गया पाकिस्तान का 19 साल का जिंदा आतंकी ◾पंजाब कांग्रेस में फिर घमासान : सिद्धू ने अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, BJP ने ली चुटकी ◾पंजाब: CM चन्नी ने किया विभागों का वितरण, जानें किसे मिला कौनसा मंत्रालय◾पंजाब के पूर्व CM अमरिंदर सिंह आज पहुंच रहे हैं दिल्ली, अमित शाह और नड्डा से करेंगे मुलाकात◾योगी के नए मंत्रिमंडल में 67% मंत्री सवर्ण और पिछड़े समाज से सिर्फ़ 29% : ओवैसी◾क्या कांग्रेस में यूथ लीडरों की एंट्री होगी मास्टरस्ट्रोक, पार्टी मुख्यालय पर लगे कन्हैया और जिग्नेश के पोस्टर◾कन्हैया के पार्टी जॉइनिंग पर मनीष तिवारी का कटाक्ष- अब शायद फिर से पलटे जाएं ‘कम्युनिस्ट्स इन कांग्रेस’ के पन्ने ◾PM मोदी ने विशेष लक्षणों वाली फसलों की 35 किस्मों का किया लोकार्पण , कुपोषण पर होगा प्रहार ◾जम्मू-कश्मीर : उरी सेक्टर में पकड़ा गया पाकिस्तानी घुसपैठिया, एक आतंकवादी ढेर ◾बिहार: केंद्र से झल्लाई JDU, कहा - हमलोग थक चुके हैं, अब नहीं करेंगे विशेष राज्य का दर्जा देंगे की मांग◾ ममता बनर्जी को राहत, भवानीपुर उपचुनाव पर रोक लगाने से कलकत्ता हाई कोर्ट का इनकार◾

पाकिस्तान पर बरसे अफगानिस्तान के राष्ट्रपति, भारत-चीन के सामने ही इमरान खान को सुनाई ‌‌‌खरी खोटी

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने ताशकंद में हो रहे एक क्षेत्रीय सम्मेलन में अफगानिस्तान में विदेशी आतंकवादियों के प्रवेश और तालिबान को शांति वार्ता में गंभीरता से शामिल होने के लिए प्रभावित करने में नाकाम रहने को लेकर पाकिस्तान की शुक्रवार को आलोचना की।

गनी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, चीनी विदेश मंत्री वांग यी, भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर, रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव और कई अन्य देशों के नेताओं और प्रतिनिधियों की उपस्थिति में पाकिस्तान की कड़ी आलोचना की।‘मध्य और दक्षिण एशिया: क्षेत्रीय संपर्क, चुनौतियां और अवसर’ पर सम्मेलन में गनी ने कहा, ‘‘खुफिया अनुमान संकेत देते हैं कि पिछले महीने पाकिस्तान और अन्य स्थानों से 10,000 से अधिक जिहादी लड़ाके (अफगानिस्तान में) दाखिल हुए हैं।’’

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान शांति वार्ता में हिस्सा लेने के लिए तालिबान को प्रभावित करने और आतंकवादियों की सीमा पार गतिविधियों को रोकने के आश्वासन को पूरा करने में नाकाम रहा है। तालिबान पिछले कुछ हफ्तों में पूरे अफगानिस्तान में तेजी से आगे बढ़ रहा है और देश के बड़े हिस्से पर कब्जा कर रहा है। अमेरिका ने अपने अधिकांश सुरक्षाबलों को वापस बुला लिया और 31 अगस्त तक शेष बलों को वापस बुलाने का लक्ष्य रखा है।

गनी ने कहा कि प्रधानमंत्री खान और उनके जनरलों ने बार-बार आश्वासन दिया कि आफगानिस्तान की सत्ता में तालिबान का आना पाकिस्तान के हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि तालिबान का समर्थन करने वाले नेटवर्क और संगठन अफगान लोगों और राज्य की संपत्तियों एवं क्षमताओं के नष्ट होने का खुले तौर पर जश्न मना रहे हैं। अफगान राष्ट्रपति ने कहा कि विश्वसनीय अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों के बीच एक आम सहमति है कि तालिबान ने आतंकवादी संगठनों के साथ अपने संबंधों को तोड़ने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है।

उन्होंने कहा, ‘‘हम लोग और अफगानिस्तान की सरकार पूरी तरह से मौजूदा वक्त पर ध्यान केंद्रित किए हुए है और एक राष्ट्र के रूप में अपने अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’ गनी ने कहा, ‘‘हम तालिबान और उनके समर्थकों का तब तक सामना करने के लिए तैयार हैं, जब तक उन्हें यह एहसास नहीं हो जाता कि राजनीतिक समाधान ही आगे बढ़ने का एकमात्र रास्ता है।’’

अपने संबोधन में, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि वह गनी की टिप्पणियों से 'मायूस' हैं और तालिबान को बातचीत की मेज पर लाने के लिए पाकिस्तान ने जितनी कोशिशें की हैं, उतनी किसी भी मुल्क ने नहीं की हैं। गनी ने कहा, ‘‘हम तालिबान से युद्ध और विनाशकारी हालिया हमलों को रोकने के लिए अफगानिस्तान की सरकार के साथ बातचीत करने का आह्वान करते हैं। साथ ही, हम पाकिस्तान से शांति और शत्रुता की समाप्ति के लिए अपने प्रभाव का उपयोग करने की अपील करते हैं।’’

भारतीय पत्रकार दानिश की मौत पर अमेरिका ने जताया शोक, कहा- यह दुनिया के लिए एक बड़ी क्षति