BREAKING NEWS

पाकिस्तान को भारत के साथ वार्ता से कभी गुरेज नहीं: विदेश कार्यालय ◾भारत में कोविड-19 के 1.77 करोड़ से अधिक टीके लगाए गए ◾भाजपा ने निर्वाचन आयोग से बंगाल के स्थानीय निकायों में नियुक्त राजनीतिक लोगों को हटाने की मांग की ◾तमिलनाडु : भाजपा ने चुनाव आयोग से किया अनुरोध, राहुल गांधी के चुनाव प्रचार करने पर लगाई जाए रोक◾फिल्म कंपनियों के हिसाब में 300 करोड़ की हेरा-फेरी, तापसी के पास से 5 करोड़ कैश लेने के सबूत मिले◾गृहमंत्री अमित शाह ने भाजपा सीईसी बैठक से पहले मोदी से की मुलाकात ◾जयशंकर ने द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने को लेकर बांग्लादेश के विदेश मंत्री के साथ की वार्ता ◾अहमदाबाद टेस्ट : भारतीय स्पिनरों ने झटके 8 विकेट, पहले दिन का खेल खत्म होने तक भारत का स्कोर 24/1 ◾EPFO - केंद्र ने तय की पीएफ पर ब्याज दर, छह करोड़ लोगों को मिलेगा लाभ ◾बंगाल BJP में पुराने नेताओं और नए शामिल होने वालों के बीच दरार ने बढ़ाई टेंशन, उभरी अंदरूनी कलह ◾अगले विधानसभा चुनाव में जीतेंगे 350 से ज्यादा सीटें, EVM सिस्टम करेंगे खत्म : अखिलेश यादव ◾UP विधानसभा के बाहर तैनात सब-इंस्पेक्टर ने खुद को मारी गोली, मौके पर ही मौत◾अहमदाबाद टेस्ट : इंग्लैंड की पहली पारी 205 रन पर ढेर , अक्षर ने झटके 4 विकेट◾शिवसेना पश्चिम बंगाल में नहीं लड़ेगी चुनाव, राउत ने कहा- 'शेरनी' ममता के साथ मजबूती से खड़ी है पार्टी◾केरल: BJP के CM उम्‍मीदवार होंगे ‘मेट्रो मैन’ ई श्रीधरन, हाल ही में हुए थे पार्टी में शामिल◾राहुल के मुहावरों का जावड़ेकर ने मुहावरों से दिया जवाब-सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली◾मोटे अनाजों को लोकप्रिय बनाने के लिए अग्रिम मोर्चे पर जुटा भारत सम्मानित महसूस कर रहा है : PM मोदी ◾झारखंड के जंगलों में IED ब्लास्ट में तीन जवान शहीद, दो घायल ◾कृषि एवं ग्रामीण क्षेत्र की मजबूती पर सरकार का फोकस, योजनाएं छोटे किसानों के लिए बेहद लाभकारी : तोमर◾ईज ऑफ लिविंग : रहने के लिए सबसे अच्छे शहरों की रेस में बेंगलुरू रहा सर्वश्रेष्ठ, दिल्ली टॉप 10 में भी नहीं ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आर्मीनिया और अजरबैजान की लड़ाई में तुर्की और रूस न भिड़ जाये

काकेकस इलाके के दो देशों आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच विवादित क्षेत्र नागोरनो-काराबाख को लेकर शुरू हुआ भीषण युद्ध दूसरे दिन सोमवार को भी जारी रहा। दोनों ही देशों ने एक-दूसरे पर टैंकों, तोपों और हेलिकॉप्‍टर से घातक हमले करने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि इस जंग में अब तक 80 से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई है और सैंकड़ों लोग घायल हैं। उधर, जैसे-जैसे यह जंग तेज होती जा रही है, वैसे-वैसे रूस और नाटो देश के तुर्की के इसमें कूदने का खतरा मंडराने लगा है।

अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि आर्मीनियाई बलों ने सोमवार सुबह टारटार शहर पर गोलाबारी शुरू कर दी। वहीं, आर्मीनिया के अधिकारियों ने कहा कि लड़ाई रातभर जारी रही और अजरबैजान ने सुबह के समय घातक हमले शुरू कर दिए। दोनों ही ओर से टैंक, तोपों, ड्रोन और फाइटर जेट से हमले किए जा हरे हैं। अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इंटरफैक्स समाचार एजेंसी को सोमवार को बताया कि लड़ाई में आर्मीनिया के 550 से अधिक सैनिक मारे गए हैं।

इस बीच आर्मीनिया के अधिकारियों ने इस दावे को खारिज किया है। आर्मीनिया ने यह दावा भी किया कि अजरबैजान के चार हेलिकॉप्टरों को मार गिराया गया। जिस इलाके में आज सुबह लड़ाई शुरू हुई, वह अजरबैजान के तहत आता है लेकिन यहां पर 1994 से ही आर्मीनिया द्वारा समर्थित बलों का कब्जा है। इस संकट को देखते हुए अजरबैजान के कुछ क्षेत्रों में मार्शल लॉ लगाया गया है तथा कुछ प्रमुख शहरों में कर्फ्यू के आदेश भी दिए गए हैं।

इस बीच आर्मीनिया और अजरबैजान में बढ़ती जंग से रूस और तुर्की के इसमें कूदने का खतरा पैदा हो गया है। रूस जहां आर्मीनिया का समर्थन कर रहा है, वहीं अजरबैजान के साथ नाटो देश तुर्की और इजरायल है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक आर्मेनिया और रूस में रक्षा संधि है और अगर अजरबैजान के ये हमले आर्मेनिया की सरजमीं पर होते हैं तो रूस को मोर्चा संभालने के लिए आना पड़ सकता है। उधर, आर्मेनिया ने कहा है कि उसकी जमीन पर भी कुछ हमले हुए हैं।

उधर, अजरबैजान के साथ तुर्की खड़ा है। तुर्की ने एक बयान जारी कहा है कि हम समझते हैं कि इस संकट का शांतिपूर्वक समाधान होगा लेकिन अ‍भी तक आर्मीनियाई पक्ष इसके लिए इच्‍छुक नजर नहीं आ रहा है। तुर्की ने कहा क‍ि हम आर्मीनिया या किसी और देश के आक्रामक कार्रवाई के खिलाफ अजरबैजान की जनता के साथ आगे भी खड़े रहेंगे। माना जा रहा है कि तुर्की का इशारा रूस की ओर था।

बता दें कि रूस और तुर्की में पहले ही लीबिया और सीरिया के गृहयुद्ध में तलवारें ख‍िंची हुई हैं। इसके बाद भी दोनों देशों के बीच व्‍यापारिक संबंध बने हुए हैं। तुर्की ने अमेरिका को नाखुश करते हुए रूस से S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम खरीदा है। उधर, तुर्की में बने हमलावर ड्रोन विमान नागोरनो-काराबाख में आर्मेनियाई टैंकों का शिकार कर रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि रूस इसे बर्दाश्‍त नहीं करेगा और सख्‍त कदम उठा सकता है।