BREAKING NEWS

केजरीवाल का खुलासा - स्टेडियमों को जेल बनाने के लिए डाला गया दबाव पर मैंने अपने जमीर की सुनी◾प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से कहा: कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाएं ◾ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिये मस्जिदों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर रोक लगाए केन्द्र : शिवसेना◾किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल का निशाना - क्या ईडी के दबाव में हैं पंजाब के CM 'कैप्टन अमरिंदर' ◾कैनबरा वनडे : आखिरी मैच जीत भारत ने बचाई लाज, आस्ट्रेलिया को 13 रनों से दी शिकस्त◾एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक को मिली जमानत, सुशांत केस में ड्रग्स लेन-देन का आरोप◾फिल्म उद्योग को मुंबई से बाहर ले जाने का कोई इरादा नहीं, ये खुली प्रतिस्पर्धा है : योगी आदित्यनाथ ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार ‘बातचीत का ढकोसला’ बंद करे ◾किसान आंदोलन : राजस्थान में कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की सुदबुदाहट, सीमा पर जुटने लगे किसान◾ सब्जियों के दामों पर दिखा किसान आंदोलन का असर, बाजारों में रेट बढ़ने के आसार ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾योगी के मुंबई दौरे पर घमासान, मोहसिन रजा बोले - अंडरवर्ल्ड के जरिए बॉलीवुड को धमकाया जा रहा है ◾टकराव के बीच भी इंसानियत की मिसाल, प्रदर्शनकारियों के साथ - साथ पुलिसकर्मियों के लिए भी लंगर सेवा ◾ब्रिटेन ने फाइजर-बायोएनटेक की कोविड वैक्सीन को दी मंजूरी, अगले हफ्ते से शुरू होगा टीकाकरण◾किसान आंदोलन : आगे की रणनीति पर चल रही संगठनों की बैठक, गृह मंत्री के घर पर हाई लेवल मीटिंग ◾किसान आंदोलन को लेकर राहुल का केंद्र पर वार- यह ‘झूठ और सूट-बूट की सरकार’ है◾किसान आंदोलन : टिकरी, झारोदा और चिल्ला बॉर्डर बंद, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की रूट एडवाइजरी ◾TOP 5 NEWS 02 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 36 हजार नए केस की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 95 लाख के करीब ◾रक्षा मंत्री जनरल वी बोले- चीन और पाक सैन्य संबंध को चुनौतियों से निपटने के लिए नयी ऊंचाई पर ले जाना चाहिए◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आर्मीनिया और अजरबैजान की लड़ाई में तुर्की और रूस न भिड़ जाये

काकेकस इलाके के दो देशों आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच विवादित क्षेत्र नागोरनो-काराबाख को लेकर शुरू हुआ भीषण युद्ध दूसरे दिन सोमवार को भी जारी रहा। दोनों ही देशों ने एक-दूसरे पर टैंकों, तोपों और हेलिकॉप्‍टर से घातक हमले करने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि इस जंग में अब तक 80 से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई है और सैंकड़ों लोग घायल हैं। उधर, जैसे-जैसे यह जंग तेज होती जा रही है, वैसे-वैसे रूस और नाटो देश के तुर्की के इसमें कूदने का खतरा मंडराने लगा है।

अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि आर्मीनियाई बलों ने सोमवार सुबह टारटार शहर पर गोलाबारी शुरू कर दी। वहीं, आर्मीनिया के अधिकारियों ने कहा कि लड़ाई रातभर जारी रही और अजरबैजान ने सुबह के समय घातक हमले शुरू कर दिए। दोनों ही ओर से टैंक, तोपों, ड्रोन और फाइटर जेट से हमले किए जा हरे हैं। अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इंटरफैक्स समाचार एजेंसी को सोमवार को बताया कि लड़ाई में आर्मीनिया के 550 से अधिक सैनिक मारे गए हैं।

इस बीच आर्मीनिया के अधिकारियों ने इस दावे को खारिज किया है। आर्मीनिया ने यह दावा भी किया कि अजरबैजान के चार हेलिकॉप्टरों को मार गिराया गया। जिस इलाके में आज सुबह लड़ाई शुरू हुई, वह अजरबैजान के तहत आता है लेकिन यहां पर 1994 से ही आर्मीनिया द्वारा समर्थित बलों का कब्जा है। इस संकट को देखते हुए अजरबैजान के कुछ क्षेत्रों में मार्शल लॉ लगाया गया है तथा कुछ प्रमुख शहरों में कर्फ्यू के आदेश भी दिए गए हैं।

इस बीच आर्मीनिया और अजरबैजान में बढ़ती जंग से रूस और तुर्की के इसमें कूदने का खतरा पैदा हो गया है। रूस जहां आर्मीनिया का समर्थन कर रहा है, वहीं अजरबैजान के साथ नाटो देश तुर्की और इजरायल है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक आर्मेनिया और रूस में रक्षा संधि है और अगर अजरबैजान के ये हमले आर्मेनिया की सरजमीं पर होते हैं तो रूस को मोर्चा संभालने के लिए आना पड़ सकता है। उधर, आर्मेनिया ने कहा है कि उसकी जमीन पर भी कुछ हमले हुए हैं।

उधर, अजरबैजान के साथ तुर्की खड़ा है। तुर्की ने एक बयान जारी कहा है कि हम समझते हैं कि इस संकट का शांतिपूर्वक समाधान होगा लेकिन अ‍भी तक आर्मीनियाई पक्ष इसके लिए इच्‍छुक नजर नहीं आ रहा है। तुर्की ने कहा क‍ि हम आर्मीनिया या किसी और देश के आक्रामक कार्रवाई के खिलाफ अजरबैजान की जनता के साथ आगे भी खड़े रहेंगे। माना जा रहा है कि तुर्की का इशारा रूस की ओर था।

बता दें कि रूस और तुर्की में पहले ही लीबिया और सीरिया के गृहयुद्ध में तलवारें ख‍िंची हुई हैं। इसके बाद भी दोनों देशों के बीच व्‍यापारिक संबंध बने हुए हैं। तुर्की ने अमेरिका को नाखुश करते हुए रूस से S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम खरीदा है। उधर, तुर्की में बने हमलावर ड्रोन विमान नागोरनो-काराबाख में आर्मेनियाई टैंकों का शिकार कर रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि रूस इसे बर्दाश्‍त नहीं करेगा और सख्‍त कदम उठा सकता है।