BREAKING NEWS

माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾शपथ लेते ही BJP पर बरसे नीतीश, कहा-2014 में जीतने वालों को 2024 की करनी चाहिए चिंता ◾60 वर्ष से अधिक उम्र की बहनों और माताओं के लिए बसों में निःशुल्क यात्रा योजना जल्द आएगी : CM योगी ◾

पूर्वी अफ्रीका में शरणार्थी संकट को ठीक करने के लिए UNHCR ने 1.2 अरब डॉलर की अपील की

यूएनएचसीआर (यूनाइटेड नेशंस हाई कमिश्नर फॉर रिफ्यूजी) और विकास भागीदारों ने पूर्वी अफ्रीका में शरणार्थी संकट से निपटने के लिए 1.2 अरब डॉलर की अपील की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यूएनएचसीआर ने कहा कि फंड का उपयोग कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (डीआरसी), इथियोपिया, केन्या, सूडान और युगांडा में 23 लाख दक्षिण सूडानी शरणार्थियों और स्थानीय समुदायों को मानवीय सहायता और सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जाएगा। एक बयान के अनुसार, इन मेजबान देशों को भोजन, आश्रय और शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल जैसी आवश्यक सेवाओं तक पहुंच प्रदान करने में मदद करने के लिए फंड की तत्काल जरूरत है।

कई विनाशकारी प्रभाव से जूझ रहा है दक्षिणी सूडान 

दक्षिण सूडान लगभग एक दशक के संघर्ष के बाद और शांति समझौते को लागू करने के प्रयासों के बावजूद छिटपुट हिंसा, पुरानी खाद्य असुरक्षा और प्रमुख बाढ़ के विनाशकारी प्रभाव से जूझ रहा है। यूएनएचसीआर ने कहा कि कोरोना महामारी ने लोगों के संसाधनों को भी प्रभावित किया है, जिससे उनकी जरूरतों को पूरा करने की उनकी क्षमता में काफी कमी आई है। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के अनुसार, देश जलवायु संकट और महामारी से समान चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, लेकिन फिर भी शरणार्थियों के लिए दरवाजे खुले है। इसमें आगे कहा गया कि शरण के पांच देशों में सरकारों को दक्षिण सूडानी शरणार्थियों को सामाजिक सेवा वितरण के लिए राष्ट्रीय प्रणालियों में एकीकृत करने के उनके प्रयासों में समर्थन दिया जाएगा।

लचीलेपन को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी : यूएन संस्था

यूएन संस्था ने कहा, शरणार्थियों और स्थानीय समुदायों को जीविकोपार्जन के अवसरों की पहचान और विविधता लाने के द्वारा उनके लचीलेपन को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। यह खाद्य प्रावधान के लिए पुरानी अंडरफंडिंग की पृष्ठभूमि के खिलाफ महत्वपूर्ण है, जिसके कारण नियमित राशन कटौती जारी है। शरणार्थी एजेंसी ने कहा कि वह पर्यावरण की बेहतर सुरक्षा और जलवायु संकट के प्रभावों को कम करने के लिए स्वच्छ ऊर्जा के उपयोग को बढ़ा रही है और अन्य हरित निवेश कर रही है। दक्षिण सूडान शरणार्थी संकट अफ्रीकी महाद्वीप पर सबसे बड़ा बना हुआ है, ये 2021 में सबसे कम वित्तपोषित संकटों में से एक था।