BREAKING NEWS

मध्य प्रदेश में तीन चरणों में होंगे पंचायत चुनाव, EC ने तारीखों का किया ऐलान ◾कल्याण और विकास के उद्देश्यों के बीच तालमेल बिठाने पर व्यापक बातचीत हो: उपराष्ट्रपति◾वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का हआ निधन, दिल्ली के अपोलो अस्पताल में थे भर्ती◾ MSP और केस वापसी पर SKM ने लगाई इन पांच नामों पर मुहर, 7 को फिर होगी बैठक◾ IND vs NZ: एजाज के ऐतिहासिक प्रदर्शन पर भारी पड़े भारतीय गेंदबाज, न्यूजीलैंड की पारी 62 रन पर सिमटी◾भारत में 'Omicron' का तीसरा मामला, साउथ अफ्रीका से जामनगर लौटा शख्स संक्रमित ◾‘बूस्टर’ खुराक की बजाय वैक्सीन की दोनों डोज देने पर अधिक ध्यान देने की जरूरत, विशेषज्ञों ने दी राय◾देहरादून पहुंचे PM मोदी ने कई विकास योजनाओं का किया शिलान्यास व लोकार्पण, बोले- पिछली सरकारों के घोटालों की कर रहे भरपाई ◾ मुंबई टेस्ट IND vs NZ - एजाज पटेल ने 10 विकेट लेकर रचा इतिहास, भारत के पहली पारी में 325 रन ◾'कांग्रेस को दूर रखकर कोई फ्रंट नहीं बन सकता', गठबंधन पर संजय राउत का बड़ा बयान◾अमित शाह बोले- PAK में सर्जिकल स्ट्राइक कर भारत ने स्पष्ट किया कि हमारी सीमा में घुसना आसान नहीं◾केंद्र ने अमेठी में पांच लाख AK-203 असॉल्ट राइफल के निर्माण की मंजूरी दी, सैनिकों की युद्ध की क्षमता बढ़ेगी ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे के दौरान 8 हजार से अधिक नए केस, 415 लोगों की मौत◾चक्रवाती तूफान 'जवाद' की दस्तक, स्कूल-कॉलेज बंद, पुरी में बारिश और हवा का दौर जारी◾विश्वभर में कोरोना के आंकड़े 26.49 करोड़ के पार, मरने वालों की संख्या 52.4 लाख से हुई अधिक ◾आजाद ने सेना ऑपरेशन के दौरान होने वाली सिविलिन किलिंग को बताया 'सांप-सीढ़ी' जैसी स्थिति◾SKM की बैठक से पहले राकेश टिकैत ने कहा- उम्मीद है कि आज की मीटिंग में कोई समाधान निकलना चाहिए◾राष्ट्रपति ने किया ट्वीट, देश की रक्षा सहित कोविड से निपटने में भी नौसेना ने निभाई अहम भूमिका◾तेजी से फैल रहा है ओमिक्रॉन, डब्ल्यूएचओ ने कहा- वेरिएंट पर अंकुश लगाने के लिए लॉकडाउन अंतिम उपाय◾सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की आज होगी अहम बैठक, आंदोलन की आगे की रणनीति होगी तय◾

यूएनएससी प्रतिनिधिमंडल पहुंचा दक्षिणी सूडान, शांति समझौते का रखेगा प्रस्ताव

दक्षिण सूडान में चल रहे सत्ताधारी पार्टी के विभिन्न गुटों के बीच चल रहे संघर्ष को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) का एक प्रतिनिधिमंडल शांति समझौता लेकर पहुंचा है। इस शांति प्रस्ताव को लेकर दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति सलवा कीर ने गुरुवार को प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और सुरक्षा से संबंधित समझौते पर चर्चा की। 

सशस्त्र बलों के पुनर्मिलन की है आवश्यकता 

यूएनएससी प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि, शांति हासिल करना एक सामूहिक जिम्मेदारी है। उन्होंने शांति और स्थिरता प्राप्त करने के लिए दक्षिण सूडान की सरकार को भारी समर्थन प्रदान करने को कहा है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पुनर्जीवित शांति समझौते से दक्षिण सूडान की संक्रमणकालीन सरकार का गठन हुआ, जिसका गठन फरवरी 2020 में हुआ था। हालांकि, प्रक्रिया के लिए सबसे बड़ा झटका सशस्त्र बलों के पुनर्मिलन की आवश्यकता है। सूडान पीपुल्स लिबरेशन मूवमेंट या आर्मी (एसपीएलएम/ए) की सेनाओं को फिर से एकजुट करने का सौदा शांति समझौते के प्रारंभिक चरण के हिस्से के रूप में लागू होने की उम्मीद थी।

वर्ष 2013 में शुरू हुआ था विवाद 

ऐसी आशंकाएं हैं कि शांति समझौते की सुरक्षा व्यवस्था को व्यापक रूप से लागू करने में विफलता से शांति समझौते का खुलासा हो सकता है। गुरुवार को बैठक में, यूएनएससी प्रतिनिधिमंडलने राष्ट्रपति 'कीर' से आग्रह किया कि वे अगले समीक्षा चरण से पहले पुनर्जीवित शांति समझौते के पहलुओं को प्रभावी ढंग से लागू करें, जो कि 15 अप्रैल, 2022 को किया जाएगा।सुरक्षा परिषद द्वारा एक नई रिपोर्ट जारी करने की उम्मीद है, जो दक्षिण सूडान पर प्रतिबंध हटाने पर विचार करने के लिए एक आधार के रूप में काम करेगी। दक्षिण सूडान दिसंबर 2013 में राष्ट्रपति कीर और उनके उप, मचर के बीच एक राजनीतिक विवाद के बाद संघर्ष शुरू हुआ। 2015 में हस्ताक्षरित एक शांति समझौता जुलाई 2016 में नए सिरे से हुई हिंसा के बाद खत्म हो गया।