BREAKING NEWS

नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल माडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾पंजाब : CM मान ने वापस ली 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा, जानिए क्यों लिया यह फैसला ◾कर्नाटक : शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने हिजाब विवाद पर दिया बयान, केवल यूनिफॉर्म की है अनुमति◾उत्तराखंड : CM धामी के लिए आज चुनाव प्रचार करेंगे मुख्यमंत्री योगी, टनकपुर में जनता से मांगेगे वोट ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,685 नए केस, 33 मरीजों की हुई मौत◾राजस्थान : CM गहलोत से मुलाकात के बाद बदले चांदना के सुर, BJP को दी यह नसीहत ◾

यूएनएससी प्रतिनिधिमंडल पहुंचा दक्षिणी सूडान, शांति समझौते का रखेगा प्रस्ताव

दक्षिण सूडान में चल रहे सत्ताधारी पार्टी के विभिन्न गुटों के बीच चल रहे संघर्ष को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) का एक प्रतिनिधिमंडल शांति समझौता लेकर पहुंचा है। इस शांति प्रस्ताव को लेकर दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति सलवा कीर ने गुरुवार को प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और सुरक्षा से संबंधित समझौते पर चर्चा की। 

सशस्त्र बलों के पुनर्मिलन की है आवश्यकता 

यूएनएससी प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि, शांति हासिल करना एक सामूहिक जिम्मेदारी है। उन्होंने शांति और स्थिरता प्राप्त करने के लिए दक्षिण सूडान की सरकार को भारी समर्थन प्रदान करने को कहा है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पुनर्जीवित शांति समझौते से दक्षिण सूडान की संक्रमणकालीन सरकार का गठन हुआ, जिसका गठन फरवरी 2020 में हुआ था। हालांकि, प्रक्रिया के लिए सबसे बड़ा झटका सशस्त्र बलों के पुनर्मिलन की आवश्यकता है। सूडान पीपुल्स लिबरेशन मूवमेंट या आर्मी (एसपीएलएम/ए) की सेनाओं को फिर से एकजुट करने का सौदा शांति समझौते के प्रारंभिक चरण के हिस्से के रूप में लागू होने की उम्मीद थी।

वर्ष 2013 में शुरू हुआ था विवाद 

ऐसी आशंकाएं हैं कि शांति समझौते की सुरक्षा व्यवस्था को व्यापक रूप से लागू करने में विफलता से शांति समझौते का खुलासा हो सकता है। गुरुवार को बैठक में, यूएनएससी प्रतिनिधिमंडलने राष्ट्रपति 'कीर' से आग्रह किया कि वे अगले समीक्षा चरण से पहले पुनर्जीवित शांति समझौते के पहलुओं को प्रभावी ढंग से लागू करें, जो कि 15 अप्रैल, 2022 को किया जाएगा।सुरक्षा परिषद द्वारा एक नई रिपोर्ट जारी करने की उम्मीद है, जो दक्षिण सूडान पर प्रतिबंध हटाने पर विचार करने के लिए एक आधार के रूप में काम करेगी। दक्षिण सूडान दिसंबर 2013 में राष्ट्रपति कीर और उनके उप, मचर के बीच एक राजनीतिक विवाद के बाद संघर्ष शुरू हुआ। 2015 में हस्ताक्षरित एक शांति समझौता जुलाई 2016 में नए सिरे से हुई हिंसा के बाद खत्म हो गया।