BREAKING NEWS

Mother Dairy hikes Today: मदर डेयर दूध के भी बढ़े दाम, दो रूपये लीटर की हुई बढ़ोतरी, कल से होगा लागू◾खनन से प्रभावित लोगों की भलाई के लिए बड़ा कदम उठाने जा रही है मोदी सरकार, जानिए पूरी जानकारी ◾ट्रंप की संपत्ति से जुड़ी जानकारी छिपा रहा न्याय विभाग, जांच में नुकसान होने का दिया हवाला ◾Rajasthan: गहलोत का सचिन पायलट पर कटाक्ष, कहा- जुमला बन गया है कार्यकर्ताओं का मान-सम्मान◾जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों की मौत पर राष्ट्रपति मुर्मू ने जताया दुख, घायलों के शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना की ◾Ratan Tata Invests : वरिष्ठ नागरिकों के सहयोग के लिए स्टार्टअप गुडफेलोज में किया निवेश◾कश्मीरी पंडित की हत्या पर उमर अब्दुल्ला सहित कई राजनेताओं ने जताया दुख, जानिए क्या कहा? ◾Amul Milk Price Hiked: देश में महंगाई का कहर! अमूल मिल्क के बढ़े दाम, इतने लीटर महंगा हुआ दूध◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने की मुलाकात ◾नीतीश को घेरने के लिए बीजेपी आलाकमान ने बुलाई बैठक, बिहार इकाई के प्रमुख नेता होंगे शामिल ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾मुम्बई में बारिश को लेकर मौसम विभाग का बड़ा अलर्ट, 24 घंटे के अंदर होगी झमाझम बारिश ◾Bihar Politics : नीतीश मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार , तेज प्रताप समेत RJD से 16 मंत्री बने ◾गहलोत के अर्धसैनिक बलों के ट्रकों में 'अवैध धन' ले जानें वाले बयान पर बीजेपी का पलटवार, जानिए मामला◾NSE Phone Tapping Case : मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त की जमानत अर्जी पर ED को नोटिस जारी◾J-K News: जम्मू कश्मीर के पहलगाम में दर्दनाक हादसा, 39 जवानों की बस खाई में गिरी, 6 की मौत, जानें स्थिति ◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने दो कश्मीरी पंडित भाइयों पर बरसाई गोलियां, एक की मौत, एक घायल◾बिहार : नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल के 31 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली, कांग्रेस नेता भी शामिल ◾कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने उठाई 3 दशकों से जेल में बंद सिख कैदियों की रिहाई की मांग ◾

सीमा पर तनाव भड़काने को लेकर अमेरिका ने चीन की लताड़ा, कम्युनिस्ट पार्टी को बताया ‘‘शरारती’’ तत्व

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने भारत से लगती सीमा पर तनाव ‘‘भड़काने’’ और रणनीतिक दक्षिण चीन सागर में सैन्य तैनाती को लेकर चीनी सेना की आलोचना की है और चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी को ‘‘शरारती’’ तत्व करार दिया है। चीन सरकार पर तीखा हमला करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि ‘चीन की कम्युनिस्ट पार्टी’ (सीपीसी) नाटो जैसे संस्थानों के जरिए स्वतंत्र विश्व बनाने के लिए की गई सभी प्रगति को नष्ट करना चाहती है और बीजिंग की सुविधा के अनुसार नए नियम-शर्त अपनाना चाहती है। 

पोम्पिओ ने गलवान घाटी में हुए संघर्ष में 20 भारतीय सैनिकों की जान जाने पर भाारत के प्रति संवेदना व्यक्त करने के एक दिन बाद कहा, ‘‘पीएलए (जन मुक्ति सेना) ने विश्व के सर्वाधिक आबादी वाले लोकतंत्र भारत से लगती सीमाओं पर तनाव भड़का दिया है। यह दक्षिण चीन सागर का सैन्यीकरण कर रहा है तथा वहां अवैध रूप से और अधिक क्षेत्र पर दावा कर रहा है तथा महत्वपूर्ण समुद्री मार्गों का खतरा पहुंचा रहा है।’’ 

चीन प्रचुर संसाधनों से युक्त लगभग पूरे दक्षिण चीन सागर पर दावा करता है और उसने सेनकाकू द्वीप पर भी दावा किया है जो पूर्वी चीन सागर में जापान के नियंत्रण में है। वियतनाम, फिलीपीन, मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान भी दक्षिण चीन सागर पर दावा करते हैं। अमेरिका इस क्षेत्र में नौवहन की स्तंत्रता सुनिश्चित करने के लिए समय-समय पर अपने नौसैन्य पोतों तथा लड़ाकू विमानों की तैनाती करता रहा है। 

चीन ने गलवान घाटी पर किया दावा, कहा- भारतीय सेना ने LAC पार कर चीनी सेना पर किया हमला

पोम्पिओ ने शुक्रवार को ‘2020 कोपनहेगन लोकतंत्र शिखर सम्मेलन’ के दौरान ‘यूरोप और चीन चुनौती’ विषय पर अपने डिजिटल संबोधन में कहा कि वर्षों से पश्चिम, आशा के युग में, मानता रहा है कि वह सीपीसी को बदल सकता है और साथ ही चीनी लोगों के जीवन में सुधार ला सकता है। 

उन्होंने कहा, ‘‘सीपीसी ने हमें यह आश्वस्त करते हुए कि वह सहयोगात्मक संबंध चाहती है, हमारी सद्भावना का लाभ उठाया। जैसा कि (पूर्व चीनी राजनीतिक नेता) डेंग चिआओपिंग ने कहा था कि ‘अपनी शक्ति छिपाओ, अपने समय पर काम करो’। मैं दूसरी जगहों पर भी इस बारे में बोल चुका हूं कि ऐसा क्यों हुआ। यह एक जटिल कहानी है। इसमें किसी की कोई गलती नहीं है।’’ 

पोम्पिओ ने कहा कि दशकों से यूरोपीय और अमेरिकी कंपनियों ने अत्यंत आशावद के साथ चीन में निवेश किया है। इसने शेंझेन जैसे स्थानों पर आपूर्ति श्रृंखला उपलब्ध कराई, पीएलए से जुड़े छात्रों के लिए शिक्षण संस्थान खोले और अपने देशों में चीन समर्थित निवेश का स्वागत किया। 

उन्होंने कहा कि लेकिन सीपीसी ने हांगकांग में स्वतंत्रता को खत्म करने का आदेश दिया, संयुक्त राष्ट्र संबंधी संधि और नागरिकों के अधिकारों का उल्लंघन किया। 

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, ‘‘सीपीसी महासचिव (चीनी राष्ट्रपति) शी चिनफिंग ने चीनी मुसलमानों के बर्बर दमन को हरी झंडी दे रखी है जो एक ऐसा मानवाधिकार उल्लंघन है जो द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद से हमने नहीं देखा है। अब, पीएलए ने भारत से लगती सीमाओं पर तनाव भड़का दिया है।’’ 

पोम्पिओ ने कहा, ‘‘सीपीसी न सिर्फ शरारती तत्व है, बल्कि इसने कोरोना वायरस के बारे में भी झूठ बोला और इसे शेष विश्व में फैलने दिया तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन पर इसपर पर्दा डालने में मदद के लिए दबाव बनाया। इससे दुनिया में हजारों लोगों की जान गई है और वैश्विक अर्थव्यवस्था चरमरा गई है।’’ 

लद्दाख झड़प को लेकर PM मोदी के बयान पर उठे सवाल तो PMO ने दी सफाई, कहा- विवाद पैदा करना दुर्भाग्यपूर्ण