BREAKING NEWS

डिजिटल प्रौद्योगिकी की सराहना करते हुए मोदी बोले- भारत ने ‘ऑनलाइन’ जाकर सभी ‘लाइन’ को खत्म किया ◾मोदी सात जुलाई को जाएंगे वाराणसी, विकास परियोजनाओं का करेंगे शिलान्यास◾ रो-कर बागियों को वापस लौटने की अपील करने वाले विधायक शिंदे गुट में शामिल◾राष्ट्रपति चुनाव : मुर्मू संकल्प ले वह निर्वाचित होने के बाद ‘रबर स्टाम्प राष्ट्रपति’ नहीं होगी - यशवंत सिन्हा ◾राष्ट्रपति चुनाव : मुर्मू संकल्प ले वह निर्वाचित होने के बाद ‘रबर स्टाम्प राष्ट्रपति’ नहीं होगी - यशवंत सिन्हा ◾दिल्ली में दरिंदों ने की हदपार! लक्ष्मीनगर इलाके में 7 साल की बच्ची के साथ किया कुर्कम, पॉस्कों एक्ट के तहत दर्ज मामला◾ PM Modi security breach : पीएम मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक, चॉपर के उड़ान भरते ही आसमान में उड़ाए गए काले गुब्बारे ◾Punjab News: मान ने पंजाब कैबिनेट का किया विस्तार, इन पांच विधायकों ने ली मंत्री पथ की शपथ ◾मीडिया का परिदृश्य पिछले कुछ सालों में बदल गया......., बोले केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ◾RCP Singh: भाजपा को बड़ा झटका! केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह BJP में नहीं हुए शामिल ◾आप आग से नहीं खेल सकते... नूपुर शर्मा को करें गिरफ्तार! CM ममता ने फिर उठाई कड़ी कार्रवाई की मांग ◾ खाली हाथ रह गया उद्धव गुट, अजीत पवार को चुना गया महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष ◾ ज्ञानवापी केस : जिला अदालत में सुनवाई टली, 12 को पक्ष रखेंगे मुस्लिम अधिवक्ता ◾Punjab Board Result 2022: पंजाब में कल छात्र-छात्राओं का अहम दिन, जारी होगा 10वीं का रिजल्ट, इस लिंक पर करें चेक◾ यशवंत सिन्हा की मुर्मू से अपील उनकी ओछी मानसिकता को दर्शाती है - सीटी रवि ◾शरद के बाद कांग्रेस ने भी शिंदे सरकार को लेकर की भविष्यवाणी, कहा - लंबे समय तक नही़ टिकेगी सरकार ◾महाराष्ट्र में 'कानून का शासन' नहीं, शिवसेना बोली- BJP का स्पीकर चुनाव जीतना हैरानी की बात नहीं... ◾राम रहीम को लेकर याचिकाकर्ता पर भड़का हाईकोर्ट, कहा - ये फिल्म चल रही है क्या ◾गुजरात को भी बनाएंगे दिल्ली और पंजाब मॉडल, केजरीवाल बोले- 300 यूनिट तक देंगे मुफ्त बिजली, भाजपा पर भी साधा निशाना◾दिल्ली में विधायकों के वेतन में 66 प्रतिशत की होगी वृद्धि, विधानसभा में पारित हुआ विधेयक ◾

टीकाकरण करा चुके Omicron संक्रमितों के ICU में भर्ती होने की आशंका कम, अध्ययन में किया गया दावा

दुनियाभर में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का आतंक अभी भी जारी है। ऐसे में एक नया चौंकाने वाला अध्धयन सामने आया है। अमेरिका में हुए एक अध्ययन में संकेत मिला है कि कोविड-19 रोधी टीके की खुराक लेने के बाद कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप से संक्रमित मरीजों के टीका नहीं लेने वालों के मुकाबले गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में भर्ती होने की आशंका कम है। 

इस अनुसंधान पत्र को अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम (सीडीसी) की साप्ताहिक रिपोर्ट में प्रकाशित किया गया है। अध्ययन में यह भी पाया गया कि ओमीक्रोन संक्रमण काल में अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की डेल्टा स्वरूप के संक्रमण की वजह से भर्ती होने वाले मरीजों के मुकाबले कम मौत हुई। अमेरिका स्थित सिडर्स-सिनाई मेडिकल सेंटर में फेफड़ा रोग विशेषज्ञ और अनुसंधानपत्र के सह लेखक मैथ्यू मोड्स ने कहा, ‘‘कुल मिलाकर ओमीक्रोन से संक्रमित लोगों के आईसीयू में भर्ती होने की आशंका कम है और डेल्टा स्वरूप से संक्रमण के मुकाबले वेंटिलेटर पर जाने की भी आशंका कम है।’’ 

इस नतीजे पर पहुंचने के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने जुलाई से सितंबर 2021 के बीच सिडर्स-सिनाई मेडिकल सेंटर में भर्ती 339 कोविड-19 संक्रमित मरीजों के आंकड़ों का विश्लेषण किया। उस समय कोरोना वायरस का डेल्टा स्वरूप सबसे अधिक संक्रमित कर रहा था। अनुसंधानकर्ताओं ने उपरोक्त आंकड़ों का तुलनात्मक अध्ययन मेडिकल सेंटर में दिसंबर 2021 से जनवरी 2022 के बीव कोविड-19 के 737 मरीजों के आंकड़ों से किया जब ओमीक्रोन स्वरूप अधिक प्रभावी था।

अध्ययन के लिए मरीजों की चिकित्सा जानकारी इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड से एकत्र की गई। 

आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला कि ओमीक्रोन के प्रसार के दौरान अस्पताल में भर्ती अधिकतर मरीजों ने वर्ष 2021 की गर्मियों के दौरान जब डेल्टा स्वरूप का संक्रमण था मुकाबले टीकाकरण करा लिया था। सिडर्स-सिनाई में वरिष्ठ अनुसंधान पत्र लेखक पीटर चेन ने कहा, ‘‘ जब ओमीक्रोन का प्रभाव बढ़ा तो लोगों को टीकाकरण से मिली सुरक्षा के अलावा हमने देखा कि बूस्टर खुराक की भूमिका भी लक्षणों की गंभीरता को कम करने में अहम हैं, खासतौर पर बुजर्गों में।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ओमीक्रोन के संक्रमण के दौरान टीकाकरण कराने वालों के मुकाबले बिना टीकाकरण वाले मरीजों के गंभीर लक्षणों के साथ अस्पताल में भर्ती होने और उनके श्वास संबंधी गंभीर समस्या होने की अधिक आशंका है।’’